Loading...
अथर्ववेद के काण्ड - 2 के सूक्त 17 के मन्त्र
मन्त्र चुनें
  • अथर्ववेद का मुख्य पृष्ठ
  • अथर्ववेद - काण्ड {"suktas":143,"mantras":958,"kand_no":20}/ सूक्त 17/ मन्त्र 1
    ऋषिः - ब्रह्मा देवता - प्राणः, अपानः, आयुः छन्दः - एदपदासुरीत्रिष्टुप् सूक्तम् - बल प्राप्ति सूक्त
    130

    ओजो॒ऽस्योजो॑ मे दाः॒ स्वाहा॑ ॥

    स्वर सहित पद पाठ

    ओज॑: । अ॒सि॒ । ओज॑: । मे॒ । दा॒: । स्वाहा॑ ॥१७.१॥


    स्वर रहित मन्त्र

    ओजोऽस्योजो मे दाः स्वाहा ॥

    स्वर रहित पद पाठ

    ओज: । असि । ओज: । मे । दा: । स्वाहा ॥१७.१॥

    अथर्ववेद - काण्ड » 2; सूक्त » 17; मन्त्र » 1
    Acknowledgment

    हिन्दी (3)

    विषय

    आयु बढ़ाने के लिये उपदेश।

    पदार्थ

    [हे ईश्वर] तू (ओजः) शारीरिक सामर्थ्य (असि) है, (मे) मुझे (ओजः) शारीरिक सामर्थ्य (दाः=दद्याः) दे, (स्वाहा) यह सुन्दर आशीर्वाद हो ॥१॥

    भावार्थ

    (ओजः) बल और प्रकाश का नाम है। वैद्यक में रसादि सात धातुओं से उत्पन्न, आठवें धातु शरीर के बल और पुष्टि के कारण और ज्ञानेन्द्रियों की नीरोगता को (ओजः) कहते हैं। जैसे (ओजः) हमारे शरीरों के लिये है, वैसे ही परमात्मा सब ब्रह्माण्ड के लिये है, ऐसा विचारकर मनुष्यों को शारीरिक शक्ति बढ़ानी चाहिये ॥१॥ इस सूक्त का पाठ यजुर्वेद के पाठ से प्रायः मिलता है–अ० १९।९। तेजो॑ऽसि॒ तेजो॒ मयि॑ धेहि। वी॒र्य॒मसि वीर्यं॑ मयि॑ धेहि। बल॑मसि॒ बलं॒ मयि॑ धेहि। ओजो॒ऽस्योजो॒ मयि॑ धेहि। म॒न्युर॑सि म॒न्युं मयि॑ धेहि। सहो॑ऽसि॒ सहो॒ मयि॑ धेहि ॥१॥ तू तेज है, मुझमें तेज धारण कर–इत्यादि ॥

    टिप्पणी

    १–ओजः। अ० १।१२।१। ओज बले, तेजसि–असुन्। बलम्। प्रकाशः। वैद्यके रसादिसप्तधातुसारजधातुविशेषः शरीरस्य बलपुष्टिकारणम्। ज्ञानेन्द्रियाणां पाटवम्। मे। मह्यम्। दाः। त्वं दद्याः, देयाः ॥

    इस भाष्य को एडिट करें

    विषय

    ओजस्

    पदार्थ

    १. गतसूक्त के अन्तिम मन्त्र में प्रभु को 'विश्वम्भर' कहा था-सब शक्तियों का भरण करनेवाला। उस विश्वम्भर से प्रार्थना करते हैं कि-(ओजः असि) = आप ओज हो, (मे) = मेरे लिए भी (ओज: दा:) = इस ओज को दीजिए। (स्वाहा) = [सु+आइ] मेरी वाणी सदा यही शुभ प्रार्थना करनेवाली हो। २. 'ओजस्'वह शक्ति है जो सब प्रकार की वृद्धि का कारण बनती है [ओज to increase]| इस ओज को प्राप्त करके मैं वृद्धि के मार्ग पर आगे बढ़ें।

    भावार्थ

    प्रभु ओज के पुञ्ज हैं। मैं भी प्रभु को इस रूप में स्मरण करता हुआ ओजस्वी बनें।

    इस भाष्य को एडिट करें

    भाषार्थ

    (ओजः असि) तू ओजस् रूप है, (मे) मुझे (ओजः) ओजस् ( दा:) प्रदान कर, (स्वाहा) सु आह।

    टिप्पणी

    [सूक्त में कोई दैवतनाम नहीं। पूर्व सूक्त से विश्वम्भर पद का अन्वय जानना चाहिए। ओजस् है उब्ज आर्जवे (तुदादि:), वह शक्ति जिसे देखते शत्रु ऋजु हो जाता है, और शत्रुता को त्याग देता है।]

    इस भाष्य को एडिट करें

    इंग्लिश (4)

    Subject

    Elan Vital at the Full

    Meaning

    You are the life and lustre of existence. Give me the lustre of life. This is the voice of truth in faith.

    इस भाष्य को एडिट करें

    Subject

    Ojas

    Translation

    You are endeavour (ojas). May you bestow endeavour on me. Svāhā.

    इस भाष्य को एडिट करें

    Translation

    O God! Thou art power, give me power. What a beautiful utterance.

    इस भाष्य को एडिट करें

    Translation

    O God, Power art Thou, give me power! This is my humble prayer.

    इस भाष्य को एडिट करें

    संस्कृत (1)

    सूचना

    कृपया अस्य मन्त्रस्यार्थम् आर्य(हिन्दी)भाष्ये पश्यत।

    टिप्पणीः

    १–ओजः। अ० १।१२।१। ओज बले, तेजसि–असुन्। बलम्। प्रकाशः। वैद्यके रसादिसप्तधातुसारजधातुविशेषः शरीरस्य बलपुष्टिकारणम्। ज्ञानेन्द्रियाणां पाटवम्। मे। मह्यम्। दाः। त्वं दद्याः, देयाः ॥

    इस भाष्य को एडिट करें
    Top