अथर्ववेद के काण्ड - 20 के सूक्त 78 के मन्त्र

मन्त्र चुनें

  • अथर्ववेद का मुख्य पृष्ठ
  • अथर्ववेद - काण्ड 20/ सूक्त 78/ पर्यायः 0/ मन्त्र 1
    ऋषि: - शंयुः देवता - इन्द्रः छन्दः - गायत्री सूक्तम् - सूक्त-७८
    पदार्थ -

    [हे विद्वानो !] (वः) अपने लिये (सुते) उत्पन्न संसार के बीच (सचा) नित्य मिलाप के साथ (पुरुहूताय) बहुतों से बुलाये गये, (शाकिने) शक्तिमान् (सत्वने) वीर राजा के लिये (तत्) उस कर्म को (गाय) तुम गाओ, (यत्) जो (न) अब (गवे) भूमि के लिये (शम्) सुखदायक [होवे] ॥१॥

    भावार्थ -

    विद्वान् लोग पुरुषार्थी राजा का उत्साह सर्वहितकारी काम करने के लिये बढ़ाते रहें ॥१॥

    कृपया कम से कम 20 शब्द लिखें!
    Top