Loading...
अथर्ववेद के काण्ड - 4 के सूक्त 4 के मन्त्र
मन्त्र चुनें
  • अथर्ववेद का मुख्य पृष्ठ
  • अथर्ववेद - काण्ड {"suktas":143,"mantras":958,"kand_no":20}/ सूक्त 4/ मन्त्र 1
    ऋषिः - अथर्वा देवता - वनस्पतिः छन्दः - अनुष्टुप् सूक्तम् - वाजीकरण सूक्त
    250

    य त्वा॑ गन्ध॒र्वो अख॑न॒द्वरु॑णाय मृ॒तभ्र॑जे। तां त्वा॑ व॒यं ख॑नाम॒स्योष॑धिं शेप॒हर्ष॑णीम् ॥

    स्वर सहित पद पाठ

    याम् । त्वा॒ । ग॒न्ध॒र्व: । अख॑नत् । वरु॑णाय । मृ॒तऽभ्र॑जे । ताम् । त्वा॒ । व॒यम् । ख॒ना॒म॒सि॒ । ओष॑धिम् । शे॒प॒:ऽहर्ष॑णीम् ॥४.१॥


    स्वर रहित मन्त्र

    य त्वा गन्धर्वो अखनद्वरुणाय मृतभ्रजे। तां त्वा वयं खनामस्योषधिं शेपहर्षणीम् ॥

    स्वर रहित पद पाठ

    याम् । त्वा । गन्धर्व: । अखनत् । वरुणाय । मृतऽभ्रजे । ताम् । त्वा । वयम् । खनामसि । ओषधिम् । शेप:ऽहर्षणीम् ॥४.१॥

    अथर्ववेद - काण्ड » 4; सूक्त » 4; मन्त्र » 1
    Acknowledgment

    हिन्दी (3)

    विषय

    मनुष्य बल को बढ़ावे।

    पदार्थ

    (याम् त्वा) जिस तुझको (गन्धर्वः) वेद विद्या धारण करनेवाले पुरुष ने (मृतभ्रजे) नष्ट बलवाले (वरुणाय) उत्तम गुण युक्त मनुष्य के लिये (अखनत्) खना है, (ताम् त्वा) उस तुझ (शेपहर्षणीम्) सामर्थ्य बढ़ानेवाली (ओषधिम्) ओषधि को (वयम्) हम (खनामसि) खनते हैं ॥१॥

    भावार्थ

    जिस प्रकार पूर्व ऋषियों ने मनुष्य के हित के लिये परीक्षा करके श्रेष्ठ ओषधियों को प्राप्त किया है, उसी प्रकार हम उत्तम ओषधियों की परीक्षा और सेवन से बलवान् होकर सुखी रहें ॥१॥ संहिता के (शेपहर्षणीम्) के स्थान पर पदच्छेद में (शेपः हर्षणीम्) है ॥

    टिप्पणी

    १−(याम् त्वा) यां त्वाम् ओषधिम् (गन्धर्वः) अ० २।१।२। गां वाणीं पृथिवीं गतिं वा धरति धारयति वा सः। वेदवेत्ता पुरुषः (अखनत्) विदारितवान् (वरुणाय) अ० १।३।३। वरेण्याय वरणीयाय जीवाय (मृतभ्रजे) भ्रस्ज पाके-क्विप्, सलोपः। नष्टपाकसामर्थ्याय। नष्टबलाय (वयम्) आयुर्वेदज्ञाः (खनामसि) खनामः। विदारयामः (ओषधिम्) अ० १।३०।३। भेषजम् (शेपहर्षणीम्) पानीविषिभ्यः पः। उ० ३।२३। इति शीङ् शयने-प प्रत्ययः। शेते वर्त्तते स शेपः सामर्थ्यम्। हृष्यतेः करणे ल्युट्, टित्वाद् ङीप्। शेपस्य वीर्यस्य वर्धनीम् ॥

    इस भाष्य को एडिट करें

    विषय

    गन्धर्व द्वारा ओषधि खनन

    पदार्थ

    १. (यां त्वा) = जिस तुझ ओषधि को (गन्धर्वः) = ज्ञान की वाणियों को धारण करनेवाले ज्ञानी पुरुष ने (वरुणाय) = पाप का निवारण करनेवाले उत्तम पुरुष के लिए (अखनत्) = खोदा है, जो किन्हीं अज्ञात कारणों से (मृत-भ्रजे) = [भ्राज़ दीसौं] नष्ट दीप्तिवाला हो गया है, रोगवश उसकी शक्ति में कमी आ गई है। सामान्यत: उसकी वृत्ति अच्छी है। इसके स्वास्थ्य व शक्तिवर्धन के लिए गन्धर्व एक ओषधि खोदकर लाता है। २. (ताम्) = उस (त्वा ओषधिम्) = तुझ ओषधि को (वयम्) = हम (खनामसि) = खोदते हैं, जो तु (शेपहर्षिणीम्) = [शेप-पेशस्] रूप को-आकृति को हर्षित करनेवाली है। यह ओषधि शक्ति-सम्पन्न बनाकर मृत-दीप्तिवाले चेहरे को फिर से दीप्त-सा कर देती है। इस ओषधि का सेवन करके यह वरुण फिर चमक उठता है।

    भावार्थ

    उत्तम वृत्तिवाले, परन्तु किसी रोगवश नष्ट दीसिवाले पुरुष के लिए ज्ञानी वैद्य 'ऋषभक' आदि ओषधियों को खोदकर लाता है। इस ओषधि के सेवन से फिर सबल होकर यह वरुण चमक उठता है। ओषधि का प्रयोग ज्ञानी पुरुष को ही करना है।

    इस भाष्य को एडिट करें

    भाषार्थ

    (याम् त्वा) जिस तुझको (मतभ्रजे१) मृत तेजवाले (वरुणाय) वरुण के लिए (गन्धर्व:) वेद वाणी-धारण करनेवाले वैदिक-विद्वान ने (अखनद्) खोदा, (ताम् त्वा शेपहर्षणीम्) पुरुषेन्द्रिय को हर्षित करनेवाली उस तुझ (ओषधिम्) औषधि को (वयम् खनामसि) हम खोदते हैं।

    टिप्पणी

    [गन्धर्व:- गौः वाङ्नाम (निघं० १।११)। धुञ् धारणे। अथवा गौः पृथिवीनाम (निघं० १।११) + धृञ् धारणे=कृषक। वरुणाय = वृणोति व्रियते वाऽसौ वरुण: (उणा० ३।५३, दयानन्द), जो विवाहार्थ वधू का वरण करता है, और वधू द्वारा वरण किया जाता है, वह है पति, जिसे कि (मन्त्र २ में) प्रजापति, अर्थात् गृहस्थी कहा है। वरुण पद यौगिकार्थक है। मृतभ्रजे=नष्टवीर्याय (सायण)। शेप: = पुरुषेन्द्रिय।] [१. मृतभ्रजे=चतुर्थ्येकवचन। भ्रज् =भ्रस्ज पाके (तुदादिः) उदराग्नि द्वारा परिपक्व अन्न से उत्पन्न तेज अर्थात् वृष्ण्य, वीर्य।]

    इस भाष्य को एडिट करें

    इंग्लिश (4)

    Subject

    Potent Virility

    Meaning

    We dig you up, potent herb for virility, which Gandharva, the physician, dug up for Varuna, judicious husband who had lost his potency. (The herb is called Vajakarani.)

    इस भाष्य को एडिट करें

    Subject

    Vanaspati - Some divinities

    Translation

    You whom the agriculturists have dug up for the venerable king, who lost his virility, O medicinal herb, we dig you up, that are penis-erecting. (Sepa-harsanim or aphrodisiac).

    इस भाष्य को एडिट करें

    Translation

    [N.B. The hymn is concerned with the removal of impotency.] This is that herbaceous plant which is dug out from the earth by a physician for the use of the man whose potency is lost. We also dig out that remedial plant which stimulates the nerves and organ.

    इस भाष्य को एडिट करें

    Translation

    We dig thee from the earth, the plant which strengthens and exalts the nerves, the plant which a learned physician dug for a noble person whose power was lost.

    Footnote

    The plant referred to is वृष्य which increases the semen of a weak man.

    इस भाष्य को एडिट करें

    संस्कृत (1)

    सूचना

    कृपया अस्य मन्त्रस्यार्थम् आर्य(हिन्दी)भाष्ये पश्यत।

    टिप्पणीः

    १−(याम् त्वा) यां त्वाम् ओषधिम् (गन्धर्वः) अ० २।१।२। गां वाणीं पृथिवीं गतिं वा धरति धारयति वा सः। वेदवेत्ता पुरुषः (अखनत्) विदारितवान् (वरुणाय) अ० १।३।३। वरेण्याय वरणीयाय जीवाय (मृतभ्रजे) भ्रस्ज पाके-क्विप्, सलोपः। नष्टपाकसामर्थ्याय। नष्टबलाय (वयम्) आयुर्वेदज्ञाः (खनामसि) खनामः। विदारयामः (ओषधिम्) अ० १।३०।३। भेषजम् (शेपहर्षणीम्) पानीविषिभ्यः पः। उ० ३।२३। इति शीङ् शयने-प प्रत्ययः। शेते वर्त्तते स शेपः सामर्थ्यम्। हृष्यतेः करणे ल्युट्, टित्वाद् ङीप्। शेपस्य वीर्यस्य वर्धनीम् ॥

    इस भाष्य को एडिट करें
    Top