Loading...
ऋग्वेद मण्डल - 6 के सूक्त 29 के मन्त्र
1 2 3 4 5 6
मण्डल के आधार पर मन्त्र चुनें
अष्टक के आधार पर मन्त्र चुनें
  • ऋग्वेद का मुख्य पृष्ठ
  • ऋग्वेद - मण्डल 6/ सूक्त 29/ मन्त्र 6
    ऋषिः - भरद्वाजो बार्हस्पत्यः देवता - इन्द्र: छन्दः - ब्राह्म्युष्णिक् स्वरः - ऋषभः

    ए॒वेदिन्द्रः॑ सु॒हव॑ ऋ॒ष्वो अ॑स्तू॒ती अनू॑ती हिरिशि॒प्रः सत्वा॑। ए॒वा हि जा॒तो अस॑मात्योजाः पु॒रू च॑ वृ॒त्रा ह॑नति॒ नि दस्यू॑न् ॥६॥

    स्वर सहित पद पाठ

    ए॒व । इत् । इन्द्रः॑ । सु॒ऽहवः॑ । ऋ॒ष्वः । अ॒स्तु॒ । ऊ॒ती । अनू॑ती । हि॒रि॒ऽशि॒प्रः । सत्वा॑ । ए॒व । हि । जा॒तः । अस॑मातिऽओजाः । पु॒रु । च॒ । वृ॒त्रा । ह॒न॒ति॒ । नि । दस्यू॑न् ॥


    स्वर रहित मन्त्र

    एवेदिन्द्रः सुहव ऋष्वो अस्तूती अनूती हिरिशिप्रः सत्वा। एवा हि जातो असमात्योजाः पुरू च वृत्रा हनति नि दस्यून् ॥६॥

    स्वर रहित पद पाठ

    एव। इत्। इन्द्रः। सुऽहवः। ऋष्वः। अस्तु। ऊती। अनूती। हिरिऽशिप्रः। सत्वा। एव। हि। जातः। असमातिऽओजाः। पुरु। च। वृत्रा। हनति। नि। दस्यून् ॥६॥

    ऋग्वेद - मण्डल » 6; सूक्त » 29; मन्त्र » 6
    अष्टक » 4; अध्याय » 7; वर्ग » 1; मन्त्र » 6
    Acknowledgment

    संस्कृत (1)

    विषयः

    अथेश्वरत्वे राजविषयमाह ॥

    अन्वयः

    हे मनुष्या ! यः सुहव ऋष्वो हिरिशिप्रस्सत्वेन्द्र ऊत्यनूती सुखकर्त्ता जातश्चाऽस्तु स एवेदानन्दप्रदो भवतु। यो ह्यसमात्योजाः पुरू वृत्रोन्नयति दस्यूँश्च नि हनति स एवा सम्राड् भवितुमर्हति ॥६॥

    पदार्थः

    (एव) (इत्) अपि (इन्द्रः) ईश्वरोपासको राजा (सुहवः) शोभन इव आह्वानं यस्य (ऋष्वः) महान् (अस्तु) (ऊती) रक्षया (अनूती) अरक्षया (हिरिशिप्रः) हिरी हरिते शिप्रे हनुनासिके यस्य सः (सत्वा) यः सीदति स पुरुषार्थी (एवा) अत्र निपातस्य चेति दीर्घः। (हि) खलु (जातः) प्रसिद्ध (असमात्योजाः) असमाति अतुल्यमोजो यस्य सः (पुरू) बहु। अत्र संहितायामिति दीर्घः। (च) (वृत्रा) धनानि (हनति) हन्ति (नि) नित्यम् (दस्यून्) दुष्टाँस्तेनान् ॥६॥

    भावार्थः

    स एव महान् राजा यो नीतिज्ञान् रक्षित्वा धार्मिकीः प्रजाः सम्पाल्य स्तेनादीन् पापान्न गृह्णाति स एव सज्जनैः सेवनीयोऽस्ति ॥६॥ अत्रेन्द्रसखित्वदातृयोध्रीश्वरगुणवर्णनादेतदर्थस्य पूर्वसूक्तार्थेन सह सङ्गतिर्वेद्या ॥ इत्येकोनत्रिंशत्तमं सूक्तं प्रथमो वर्गश्च समाप्तः ॥

    इस भाष्य को एडिट करें

    हिन्दी (3)

    विषय

    अब ईश्वरत्व में राजविषय को अगले मन्त्र में कहते हैं ॥

    पदार्थ

    हे मनुष्यो ! जो (सुहवः) सुन्दर पुकारना जिसका ऐसा (ऋष्वः) बड़ा (हिरिशिप्रः) हरे रंग की ठुड्ढी और नासिका युक्त (सत्वा) परिश्रम से पुरुषार्थ करने और (इन्द्रः) ईश्वर की उपासना करनेवाला राजा (ऊती) रक्षा वा (अनूती) अरक्षा से सुख करनेवाला (जातः, च) और प्रसिद्ध (अस्तु) हो वह (एव) ही (इत्) निश्चय से आनन्द देनेवाला होवे और जो (हि) निश्चय से (असमात्योजाः) नहीं तुल्य पराक्रम जिसका वह (पुरू) बहुत (वृत्रा) धनों की वृद्धि करता है और (दस्यून्) दुष्ट चोरों का (नि, हनति) नित्य नाश करता है वह (एवा) ही चक्रवर्ती राजा होने के योग्य है ॥६॥

    भावार्थ

    वही बड़ा राजा है, जो नीति के जाननेवालों की रक्षा करके धर्मिष्ठ प्रजाओं का पालन करके चोर आदि पापियों को नहीं ग्रहण करता है, वही सज्जनों से सेवन करने योग्य है ॥६॥ इस सूक्त में इन्द्र, मित्रपन, देनेवाले और युद्ध करनेवाले तथा ईश्वर के गुणों का वर्णन करने से इस सूक्त के अर्थ की इससे पूर्व सूक्त के अर्थ के साथ सङ्गति जाननी चाहिये ॥ यह उनतीसवाँ सूक्त और पहिला वर्ग समाप्त हुआ ॥

    इस भाष्य को एडिट करें

    विषय

    अनुपम बलशाली इन्द्र ।

    भावार्थ

    ( एव इन्द्रः इत् ) इसी प्रकार ऐश्वर्यवान्, शत्रुहन्ता राजा, प्रभु भी ( सुहवः ) सुख से स्तुति, उपासना और आह्वान करने योग्य, (ऋष्वः) महान् (अस्तु ) हो, वह ( ऊती) रक्षादि साधनों से या ( अनूती ) उन साधनों के अभाव में भी ( हिरि-शिप्रः ) मनोहारी मुख नाक वाला वा सुन्दर मुकुट वाला और ( सत्वा ) उत्तम बलशाली हो । उस प्रकार ( हि ) निश्चय से वह ( असमात्योजाः जातः ) बल पराक्रम में अनुपम होकर ( पुरू च वृत्रा ) बहुत से विघ्नकारियों और ( दस्यून् ) दुष्ट, प्रजा त्रासकारी लोगों को ( नि हनति ) सर्वथा नष्ट करे । इति प्रथमो वर्गः ॥

    टिप्पणी

    missing

    ऋषि | देवता | छन्द | स्वर

    भरद्वाजो बार्हस्पत्य ऋषिः ॥ इन्द्रो देवता ।। छन्दः–१, ३, ५ निचृत्त्रिष्टुप् । ४ त्रिष्टुप् । २ भुरिक् पंक्ति: ६ ब्राह्मी उष्णिक्॥

    इस भाष्य को एडिट करें

    विषय

    असमात्मोजाः

    पदार्थ

    [१] (एवा) = इस प्रकार (इत्) = निश्चय से (ऋष्वः) = वह महान् (इन्द्रः) = परमैश्वर्यशाली प्रभु (सुहवः अस्तु) = हमारे से शोभनतया पुकारने योग्य हो। वे (हिरिशिप्रः) = मनोहर हनुओं व नासिकाओं को देनेवाले प्रभु [हिरिशिप्रे यस्मात्] (ऊती) = रक्षण साधनों के द्वारा अथवा (अनूती) = बिना रक्षण साधनों के भी (सत्वा) = शत्रुओं का विनाश करनेवाले हैं [सादयिता] तथा धनों के देनेवाले हैं [सन्] प्रभु हमें रक्षण साधन प्राप्त कराके जब हमारे शत्रुओं का विनाश करते हैं तो 'ऊती' और स्वयं प्रभु हाथ पैर आदि साधनों से रहित होते हुए ही हमारा रक्षण करते हैं, सो 'अनूती'। [२] (एवा) = इस प्रकार (हि) = निश्चय से वे प्रभु (असमाति ओजः) = असमान अनुपम तेजवाले (जात:) = हुए हैं। (च) = और वे प्रभु (उत) = इन बहुत (वृत्रा) = वासनाओं को (हनति) = नष्ट करते हैं और (दस्यून्) = दास्यवभावों को (नि) = [हनति] हमारे से दूर करते हैं। यह सब प्रभु हमें उत्तम हनुओं व नासिका को प्राप्त कराके ही करते हैं। उत्तम हनु [जबड़ों] का भाव 'भोजन को खूब चबाकर खाने से' है तथा उत्तम नासिका का भाव प्राणसाधना से है। ।

    भावार्थ

    भावार्थ- प्रभु का हम स्तवन करें। प्रभु से दिये गये इन जबड़ों से खूब चबाकर खायें नासिका छिद्रों से प्राणसाधना करें। वे अनुपम शक्तिवाले प्रभु हमारी वासनाओं को विनष्ट और हमें दास्यव भावों से दूर करेंगे । ' इन्द्र का आराधन करते हैं अगले सूक्त में भी 'भरद्वाज बार्हस्पत्य -

    इस भाष्य को एडिट करें

    मराठी (1)

    भावार्थ

    जो नीतिज्ञांचे रक्षण करून धार्मिक प्रजेचे रक्षण करतो, चोर इत्यादी पापी लोकांचा स्वीकार करीत नाही त्यालाच सज्जन लोक स्वीकारतात व तोच महान राजा असतो. ॥ ६ ॥

    इस भाष्य को एडिट करें

    इंग्लिश (1)

    Meaning

    Thus may the lord sublime, omnipotent Indra, ever active in golden glory, listen to the prayers of universal humanity in all direct and indirect modes of divine protection and grace. Thus does the lord, self manifest in boundless power and glory, create and preserve the abundant wealth of good and destroy darkness, enmity and negation of evil.

    इस भाष्य को एडिट करें
    Top