Loading...
ऋग्वेद मण्डल - 8 के सूक्त 52 के मन्त्र
1 2 3 4 5 6 7 8 9 10
मण्डल के आधार पर मन्त्र चुनें
अष्टक के आधार पर मन्त्र चुनें
  • ऋग्वेद का मुख्य पृष्ठ
  • ऋग्वेद - मण्डल 8/ सूक्त 52/ मन्त्र 7
    ऋषि: - आयुः काण्वः देवता - इन्द्र: छन्दः - निचृद्बृहती स्वरः - मध्यमः

    क॒दा च॒न प्र यु॑च्छस्यु॒भे नि पा॑सि॒ जन्म॑नी । तुरी॑यादित्य॒ हव॑नं त इन्द्रि॒यमा त॑स्थाव॒मृतं॑ दि॒वि ॥

    स्वर सहित पद पाठ

    क॒दा । च॒न । प्र । यु॒च्छ॒सि॒ । उ॒भे इति॑ । नि । पा॒सि॒ । जन्म॑नी॒ इति॑ । तुरी॑य । आ॒दि॒त्य॒ । हव॑नम् । ते॒ । इ॒न्द्रि॒यम् । आ । त॒स्थौ॒ । अ॒मृत॑म् । दि॒वि ॥


    स्वर रहित मन्त्र

    कदा चन प्र युच्छस्युभे नि पासि जन्मनी । तुरीयादित्य हवनं त इन्द्रियमा तस्थावमृतं दिवि ॥

    स्वर रहित पद पाठ

    कदा । चन । प्र । युच्छसि । उभे इति । नि । पासि । जन्मनी इति । तुरीय । आदित्य । हवनम् । ते । इन्द्रियम् । आ । तस्थौ । अमृतम् । दिवि ॥ ८.५२.७

    ऋग्वेद - मण्डल » 8; सूक्त » 52; मन्त्र » 7
    अष्टक » 6; अध्याय » 4; वर्ग » 21; मन्त्र » 2
    Acknowledgment

    English (1)

    Meaning

    Eternal lord immanent and transcendent, when is it you neglect your devotee? Never. You bless both lives, this here and the next hereafter. Indeed the very call on you in prayer means honour and glory immortal which abides in heaven.

    मराठी (1)

    भावार्थ

    जगातील पापी-पुण्यात्मा दोन्ही प्रकारच्या माणसांच्या कर्मांचा द्रष्टा परमेश्वर आहे. या कार्यात त्याच्या हातून प्रमाद होत नाही. जे परमात्म्याला आवाहन करू लागतात, त्यांना जणू त्या अविनाशी परम कारण प्रभूचे ऐश्वर्य मिळालेले असते, परंतु हे आवाहन तोच जीव करतो, ज्याला ज्ञानाचा प्रकाश मिळालेला असतो. ॥७॥

    हिन्दी (1)

    पदार्थ

    हे (तुरीय) चतुर्थ अर्थात् परमकारण! (आदित्य) विनाश से परे! (इन्द्रियम्) ऐश्वर्य प्राप्ति का लक्षक (अमृतम्) मोक्षप्रापक (ते) आपका (हवनम्) आवाहन या प्रार्थना दिविज्ञान के प्रकाश पर (आतस्थौ) आश्रित है। आप तो (उभे) अच्छे तथा बुरे-स्वभाव से पापी पुण्यात्मा--दोनों (जन्मनी) जीवों पर (निपासि) विशेष ध्यान देते हैं; द्रष्टा के अपने इस कर्त्तव्य में आप (कदाचन) कभी (न) नहीं (प्रयुच्छसि) प्रमाद करते हैं॥७॥

    भावार्थ

    विश्व के पापी-पुण्यात्मा--दोनों तरह के मनुष्यों के कर्मों का द्रष्टा प्रभु है--इस कार्य में वह कभी प्रमाद नहीं करता। हाँ, जो परमात्मा का आवाहन करने लगते हैं, उन्हें मानो उस अविनाशी, परमकारण प्रभु का ऐश्वर्य प्राप्त हो गया हो। यह आवाहन वह जीव करता है जिसे ज्ञान का प्रकाश प्राप्त हो जाता है॥७॥

    Top