ऋग्वेद मण्डल - 9 के सूक्त 104 के मन्त्र
1 2 3 4 5 6

मन्त्र चुनें

  • ऋग्वेद का मुख्य पृष्ठ
  • ऋग्वेद - मण्डल 9/ सूक्त 104/ मन्त्र 1
    ऋषि: - पर्वतनारदौ द्वे शिखण्डिन्यौ वा काश्यप्यावप्सरसौ देवता - पवमानः सोमः छन्दः - उष्णिक् स्वरः - ऋषभः
    पदार्थ -

    (सखायः) हे उपासक लोगों ! आप (आनिषीदत) यज्ञवेदी पर आकर स्थिर हों, (पुनानाय) जो सबको पवित्र करनेवाला है, उसके लिये (प्रगायत) गायन करो (श्रिये) ऐश्वर्य्य के लिये (शिशुम्) “यः शंसनीयो भवति स शिशुः” जो प्रशंसा के योग्य है, उसको (यज्ञैः)  ज्ञानयज्ञादि द्वारा (परिभूषत) अलंकृत करो ॥१॥

    भावार्थ -

    उपासक लोग परमात्मा का ज्ञानयज्ञादि द्वारा आह्वान करके उसके ज्ञान का सर्वत्र प्रचार करते हैं ॥१॥

    पदार्थ -

    (सखायः) हे उपासकाः ! यूयं (आ, निषीदत)  यज्ञवेद्यामागत्य  विराजध्वं (पुनानाय) सर्वशोधकाय  परमात्मने (प्रगायत) साधुगानं कुरुत  (श्रिये)  ऐश्वर्याय  (शिशुम्, न)  शंसनीयमिव (यज्ञैः)  ज्ञानयज्ञादिभिः (परि, भूषत) अलङ्कुरुत ॥१॥

    कृपया कम से कम 20 शब्द लिखें!
    Top