Loading...
यजुर्वेद अध्याय - 4

मन्त्र चुनें

  • यजुर्वेद का मुख्य पृष्ठ
  • यजुर्वेद - अध्याय 4/ मन्त्र 1
    ऋषिः - प्रजापतिर्ऋषिः देवता - अबोषध्यौ देवते छन्दः - विराट् ब्राह्मी जगती, स्वरः - निषादः
    618

    एदम॑गन्म देव॒यज॑नं पृथि॒व्या यत्र॑ दे॒वासो॒ऽअजु॑षन्त॒ विश्वे॑। ऋ॒क्सा॒माभ्या॑ स॒न्तर॑न्तो॒ यजु॑र्भी रा॒यस्पोषे॑ण॒ समि॒षा म॑देम। इ॒माऽआपः॒ शमु॑ मे सन्तु दे॒वीरोष॑धे॒ त्राय॑स्व॒ स्वधि॑ते॒ मैन॑ꣳहिꣳसीः॥१॥

    स्वर सहित पद पाठ

    आ। इ॒दम्। अ॒ग॒न्म॒। दे॒व॒यज॑न॒मिति॑ देव॒यज॑नम्। पृ॒थि॒व्याः। यत्र॑। दे॒वासः॑। अजु॑षन्त। विश्वे॑। ऋ॒क्सा॒माभ्या॒मित्यृ॑क्ऽसा॒माभ्या॑म्। स॒न्तर॑न्त॒ इति॑ स॒म्ऽतर॑न्तः। यजु॑र्भि॒रिति॒ यजुः॑ऽभिः। रा॒यः। पोषे॑ण। सम्। इ॒षा। म॒दे॒म॒। इ॒माः। आपः॑। शम्। ऊँ॒ऽइ॒त्यूँ॑। मे॒। स॒न्तु॒। दे॒वीः। ओष॑धे। त्राय॑स्व। स्वधि॑त॒ इति॒ स्वऽधि॑ते। मा। ए॒न॒म्। हि॒ꣳसीः॒ ॥१॥


    स्वर रहित मन्त्र

    एदमगन्म देवयजनम्पृथिव्या यत्र देवासो अजुषन्त विश्वे । ऋक्सामाभ्याँ सन्तरन्तो यजुर्भी रायस्पोषेण समिषा मदेम । इमा आपः शमु मे सन्तु देवीरोषधे त्रायस्व । स्वधिते मैनँ हिँसीः ॥


    स्वर रहित पद पाठ

    आ। इदम्। अगन्म। देवयजनमिति देवयजनम्। पृथिव्याः। यत्र। देवासः। अजुषन्त। विश्वे। ऋक्सामाभ्यामित्यृक्ऽसामाभ्याम्। सन्तरन्त इति सम्ऽतरन्तः। यजुर्भिरिति यजुःऽभिः। रायः। पोषेण। सम्। इषा। मदेम। इमाः। आपः। शम्। ऊँऽइत्यूँ। मे। सन्तु। देवीः। ओषधे। त्रायस्व। स्वधित इति स्वऽधिते। मा। एनम्। हिꣳसीः॥१॥

    यजुर्वेद - अध्याय » 4; मन्त्र » 1
    Acknowledgment

    संस्कृत (2)

    विषयः

    अथ जलगुणस्वभावकृत्यमुपदिश्यते॥

    अन्वयः

    हे विद्वन्! यथा पृथिव्या मध्ये मनुष्यजन्म देवयजनं प्राप्य यत्र ऋक्सामाभ्यां यजुर्भी रायस्पोषेण दुःखानि सन्तरन्तो विश्वे देवासो वयं सुखान्यगन्माजुषन्त मदेम सुखयेम। उ इति वितर्के मे मम विद्यासुशिक्षाभ्यां सेविता इमा देव्य आपः सुखकारिकाः सन्ति, तथैव तत्र त्वं ता जुषस्व, तवैताः शं सन्तु सुखकारिका भवन्तु। यथौषधे सोमलताद्यौषधिगणो रोगेभ्यस्त्रायते, तथा त्वं नस्त्रायस्व, स्वधितिर्वज्रस्त्वमेनं जीवं मा हिंसीर्हननं मा कुर्य्याः॥१॥

    पदार्थः

    (आ) समन्तात् (इदम्) वक्ष्यमाणम् (अगन्म) प्राप्नुयाम, अत्र लिङर्थे लुङ् (देवयजनम्) देवानां विदुषां यजनं पूजनं तेभ्यो दानं च (पृथिव्याः) भूमेर्मध्ये (यत्र) देशे (देवासः) विद्वांसः (अजुषन्त) प्रीतवन्तः सेवितवन्तः (विश्वे) सर्वे (ऋक्सामाभ्याम्) ऋचन्ति स्तुवन्ति पदार्थान् येन स ऋग्वेदः। सामयन्ति सान्त्वयन्ति कर्मान्तं फलं प्राप्नुवन्ति येन स सामवेदः, ऋक् च साम च ताभ्याम्। अत्र अचतुरविचतुरसुचतुरस्त्रीपुंसधेन्वनडुहर्क्साम॰। (अष्टा॰५.४.७७) इति सूत्रेणायं समासान्तोऽच् प्रत्ययेन निपातितः (सन्तरन्तः) दुःखस्यान्तं प्राप्नुवन्तः (यजुर्भिः) यजुर्वेदस्थमन्त्रोक्तैः कर्मभिः (रायः) धनस्य (पोषेण) पुष्ट्या (सम्) सम्यगर्थे (इषा) इष्टविद्ययाऽन्नादिना वा (मदेम) सुखयेम, अत्र विकरणव्यत्ययः (इमाः) प्रत्यक्षाः (आपः) जलानि (शम्) सुखकारिकाः (उ) वितर्के (मे) मम (सन्तु) भवन्तु (देवीः) शुद्धा रोगनाशिकाः, अत्र वा च्छन्दसि। [अष्टा॰६.१.१०६] इति जसः पूर्वसवर्णत्वम् (ओषधे) सोमाद्योषधिगणः (त्रायस्व) त्रायतात् (स्वधिते) रोगनाशने स्वधितिर्वज्रवत् प्रवर्त्तमानः। स्वधितिरिति वज्रनामसु पठितम्। (निघं॰२.२०) (मा) निषेधार्थे (एनम्) यजमानं प्राणिसमूहं वा (हिꣳसीः) हिंस्यात्, अत्र लिङर्थे लुङ्। अयं मन्त्रः (शत॰ (३.१.१.११-१२; ३.१.२.१-१०) व्याख्यातः॥१॥

    भावार्थः

    अत्र लुप्तोपमालङ्कारः। यथा मनुष्याः साङ्गान् सरहस्याँश्चतुरो वेदानधीत्यान्यानध्याप्य विद्यां प्रदीप्य, विद्वांसो भूत्वा सुकर्मानुष्ठानेन सर्वान् प्राणिनः सुखयेयुस्तथैवैतान् सत्कृत्यैतेभ्यो वैदिकविद्यां प्राप्य, श्रेष्ठाचारौषधिसेवनाभ्यां दुःखान्तं गत्वा, शरीरात्मपुष्ट्या धनं समुपचित्य सर्वैर्मनुष्यैरानन्दितव्यम्॥१॥

    इस भाष्य को एडिट करें

    विषयः

    अथ जलगुणस्वभावकृत्यमुपदिश्यते ॥

    सपदार्थान्वयः

    हे विद्वन् यथा पृथिव्या मध्ये भूमेर्मध्ये [इदम्] वक्ष्यमाणं मनुष्यजन्म, देवयजनं देवानां=विदुषां यजनं=पूजनं तेभ्यो दानं च प्राप्य, यत्र देशे ऋक्सामाभ्याम् ऋचन्ति=स्तुवन्ति पदार्थान् येन स ऋग्वेदः, सामयन्ति=सान्त्वयन्ति कर्मान्तं फलं प्राप्नुवन्ति येन स सामवेदः, ऋक् च साम च ताभ्यां, यजुर्भिः यजुर्वेस्थमन्त्रोक्तैः कर्मभिः रायः धनस्य पोषेण पुष्ट्या दुःखानि सन्तरन्तः दुःखस्यान्तं प्राप्नुवन्तः विश्वे सर्वे देवासः विद्वांसः वयम् [इषा] इष्टविद्ययाऽन्नादिना वा सुखानि आ-अगन्म समन्तात् प्राप्नुयाम, अजुषन्त=प्रीतवन्तः सेवितवन्तः [सम्] मदेम सुखयेम (सम्यक् सुखयेम)। उ=इति वितर्के मे=मम विद्या सुशिक्षाभ्यां सेविता इमाः प्रत्यक्षाः [देवी:] देव्यः, शुद्धा:=रोगनाशिका: आपः जलानि सुखकारिकाः सन्ति, तथैव तत्र त्वं तानि जुषस्व, [मदेम] मदेमस्तवैताः शं सन्तु=सुखकारिका भवन्तु । यथौषधे=सोमलताद्योषधिगण:सोमाद्योषधिगणः रोगेभ्यस्त्रायते तथा त्वंनस्त्रायस्व (त्रायताम्) । [स्वधिते] स्वधितिः=वज्रः रोगनाशने स्वधितिर्वज्रवत् प्रवर्तमानः त्वमेनं=जीवं यजमानं प्राणिसमूहं वा मा हिंसीः=हननं मा कुर्य्याः (न हिंस्यात्) ४ । १ ।। [हे विद्वन्! यथा.........ऋक्सामाभ्यां यजुर्भी रायस्पोषेण दुःखानि सन्तरन्तो विश्वे देवासो वयं......... सुखान्यागन्म......तथैव.......त्वं तानि जुषस्व]

    पदार्थः

    (आ) समन्तात् ( इदम् ) वक्ष्यमाणम् (अगन्म) प्राप्नुयाम । अत्र लिङर्थे लुङ् (देवयजनम्) देवानां=विदुषां यजनं=पूजनं तेभ्यो दानं च (पृथिव्याः) भूमेर्मध्ये (यत्र) देशे (देवासः) विद्वांसः (अजुषन्त) प्रीतवन्तः सेवितवन्तः (विश्वे) सर्वे (ऋक्सामाभ्याम् ) ऋचन्ति=स्तुवन्ति पदार्थान् येन स ऋग्वेदः। सामयन्ति=सान्त्वयन्ति कर्मान्तं फलं प्राप्नुवन्ति येन स सामवेदः । ऋक् च साम च ताभ्याम् । अत्र अचतुरविचतुरसुचतुरस्त्रीपुंसधेन्वनडुहर्क्साम० अ० ५ । ४ । ७७ ।। इति सूत्रेणायं समासान्ताऽच्प्रत्ययेन निपातितः (संतरन्तः) दुःखस्यान्तं प्राप्नुवन्तः (यजुर्भिः) यजुर्वेदस्थमन्त्रोक्तैः कर्मभिः (रायः) धनस्य (पोषेण) पुष्ट्या (सम्) सम्यगर्थे (इषा) इष्टविद्ययाऽन्नादिना वा (मदेम) सुखयेम । अत्र विकरणव्यत्ययः (इमाः) प्रत्यक्षाः (आपः) जलानि (शम्) सुखकारिका: (उ) वितर्के (मे) मम (सन्तु) भवन्तु (देवीः) शुद्धा=रोगनाशिकाः । अत्र वा च्छन्दसीति जसः पूर्वसवर्णत्वम् (ओषधे) सोमाद्योषधिगणः (त्रायस्व) त्रायताम् (स्वधिते) रोगनाशने स्वधितिर्वज्रवत्प्रवर्त्तमानः। स्वधितिरिति वज्रनामसु पठितम् ॥ निघं० २ । २० ।। (मा) निषेधार्थे (एनम्) यजमानं प्राणिसमूहं वा (हिंसीः) हिंस्यात् । अत्र लिङर्थे लुङ् ॥ अयं मन्त्रः शत० ३।१ । १ । ११–१२ ।। ३ । १ । २ । १-१० व्याख्यातः ॥ १ ॥

    भावार्थः

    अत्र लुप्तोपमालङ्कारः ॥ यथा मनुष्याः साङ्गान् सरहस्याँश्चतुरो वेदानधीत्यान्यानध्याप्य विद्यां प्रदीप्य विद्वांसो भूत्वा सुकर्मानुष्ठानेन सर्वान् प्राणिनः सुखयेयुः, [यथौषधे=सोमलताद्योषधिगणो रोगेभ्यस्त्रायते तथा त्वं नस्त्रायस्व] तथैवैतान् सत्कृत्यैतेभ्यो वैदिकविद्यां प्राप्य श्रेष्ठाचारौषधिसेवनाभ्यां दुःखान्तर्गत्वा शरीरात्मपुष्ट्या धनं समुपचित्य सर्वैर्मनुष्यैरानन्दितव्यम् ॥ ४।१ ॥

    विशेषः

    प्रजापतिः । अबोषध्यौ=जलम्, ओषधियश्च ॥ विराड् ब्राह्मीजगती । निषादः ॥

    इस भाष्य को एडिट करें

    हिन्दी (4)

    विषय

    अब चौथे अध्याय का प्रारम्भ किया जाता है, इसके प्रथम मन्त्र में जल के गुण, स्वभाव और कृत्य का उपदेश किया है॥

    पदार्थ

    हे विद्वन्! जैसे (पृथिव्या) भूमि पर मनुष्यजन्म को प्राप्त होके जो (इदम्) यह (देवयजनम्) विद्वानों का यजन पूजन वा उन के लिये दान है, उस को प्राप्त होके (यत्र) जिस देश में (ऋक्सामाभ्याम्) ऋग्वेद, सामवेद तथा (यजुर्भिः) यजुर्वेद के मन्त्रों में कहे कर्म (रायस्पोषेण) धन की पुष्टि (समिषा) उत्तम-उत्तम विद्या आदि की इच्छा वा अन्न आदि से दुःखों के (सन्तरन्तः) अन्त को प्राप्त होते हुये (विश्वे) सब (देवासः) विद्वान् हम लोग सुखों को (अगन्म) प्राप्त हों, (अजुषन्त) सब प्रकार से सेवन करें, (मदेम) सुखी रहें, (उ) और भी (मे) मेरे सुनियम, विद्या, उत्तम शिक्षा से सेवन किये हुए (इमाः) ये (देवीः) शुद्ध (आपः) जल सुख देने वाले होते हैं, वैसे वहाँ तू भी उन को प्राप्त हो (जुषस्व) सेवन और आनन्द कर। वे जल आदि पदार्थ भी तुझ को (शम्) सुख कराने वाले (सन्तु) होवें, जैसे (ओषधे) सोमलता आदि ओषधिगण सब रोगों से रक्षा करता है, वैसे तू भी हम लोगों की (त्रायस्व) रक्षा कर। (स्वधिते) रोगनाश करने में वज्र के समान होकर (एनम्) इस यजमान वा प्राणीमात्र को (मा हिꣳसीः) कभी मत मार॥१॥

    भावार्थ

    इस मन्त्र में लुप्तोपमालङ्कार है। जैसे मनुष्य लोग ब्रह्मचर्यपूर्वक अङ्ग और उपनिषद् सहित चारों वेदों को पढ़ कर, औरों को पढ़ा कर, विद्या को प्रकाशित कर और विद्वान् होके उत्तम कर्मों के अनुष्ठान से सब प्राणियों को सुखी करें, वैसे ही इन विद्वानों का सत्कार कर, इनसे वैदिक विद्या को प्राप्त होकर, श्रेष्ठ आचार तथा उत्तम औषधियों के सेवन से कष्टों का निवारण करके शरीर वा आत्मा की पुष्टि से धन का अत्यन्त सञ्चय करके सब मनुष्यों को आनन्दित होना चाहिये॥१॥

    इस भाष्य को एडिट करें

    विषय

    सादा खाना, पानी पीना

    पदार्थ

    १. तृतीय अध्याय की समाप्ति पर ‘नारायण’ यज्ञात्मक कर्मों में लगा था। यह नारायण ही ‘प्रजापति’ = प्रजा का रक्षक बनता है और प्रार्थना करता है— १. हम ( पृथिव्याः ) = पृथिवी के ( इदं देवयजनम् ) = इस देवताओं के यज्ञ करने के भाव को [ भावे ल्युट् ] ( आ अगन्म ) =  सर्वथा प्राप्त हों। प्रभु ने पृथिवी को देवयजनी बनाया है। हम इस पृथिवी पर आकर यज्ञात्मक कर्मों में लगे रहें, जिससे अपने देवत्व को न खो बैठें। 

    २. ( यत्र ) = यह पृथिवी वह स्थान है जहाँ कि ( विश्वे देवासः ) = सब देववृत्ति के लोग ( अजुषन्त ) = [ जुषी प्रीतिसेवनयोः ] परस्पर प्रीतिपूर्वक अपने कर्त्तव्यों का सेवन करते हैं। अथवा बड़े प्रेम से प्रभु का उपासन करते हैं। 

    ३. यहाँ हम अपने कर्त्तव्य-कर्मों को ( ऋक्सामाभ्याम् ) = ऋचा व साम के द्वारा — विद्या व श्रद्धा से— ( सन्तरन्तः ) = तैरते = करते हुए, पार कर जाएँ, अर्थात् अपने प्रत्येक कार्य को सफल बनानेवाले हों। यदेव श्रद्धया क्रियते विद्यया तदेव वीर्यवत्तरं भवति उपनिषद् यही कहती है कि जो काम श्रद्धा व विद्या से किया जाता है वही वीर्यवत्तर, शक्तिशाली होता है। 

    ४. ( यजुर्भिः ) = यजुओं से—यजुर्वेद में वर्णित यज्ञिय उत्तम कर्मों से ही ( रायस्पोषेण ) = धन के पोषण से हम ( संमदेम ) = सम्यक् आनन्द का अनुभव करें। उत्तम मार्ग से धन कमाने का निश्चय होते ही संसार सुन्दर बन जाता है। 

    ५. हम धनी बनकर भी ( इषा ) = अन्न से ही ( मदेम ) = आनन्दित हों। हम स्वाद को प्रधानता न दें। ( उ ) = और ( इमाः आपः ) = ये जल ( मे ) = मेरे लिए ( शं सन्तु ) = शान्ति देनेवाले हों। ( देवीः ) = ये तो दिव्य गुणों से परिपूर्ण हैं, अर्थात् मेरा खान-पान सादा हो। सच्ची बात यह है कि उत्तम जीवन का आधार यह खान-पान की सादगी ही है। 

    ६. ( ओषधे ) = हे दोषों को दूर करने की शक्ति से परिपूर्ण ओषधे! ( त्रायस्व ) = तू मेरी रक्षा कर। ( स्वधिते ) = हे अपनी धारणशक्ति से युक्त ओषधे! ( एनं मा हिंसी ) = इस मुझे हिंसित मत कर। यह ओषधि-वनस्पतियों का सेवन हमारा रक्षण करे, केवल शरीर से नहीं, यह मन व मस्तिष्क को भी स्वस्थ बनाये।

    भावार्थ

    भावार्थ — १. पृथिवी को हम यज्ञभूमि समझें। २. देव बनकर अपना कर्त्तव्य प्रेम से पूर्ण करें। ३. हमारे सब कार्य ज्ञान व श्रद्धा से किये जाएँ। ४. श्रेष्ठतम कर्मों से ही हम धन कमाएँ। ५. ‘सादा खाना और पानी पीना’ ही हमारे आनन्द का कारण बने। ओषधियाँ धारणशक्ति से युक्त हों, इनसे हम हिंसित न हों।

    इस भाष्य को एडिट करें

    विषय

    देवयजन में प्राप्त होकर बाधाओं को दूर करना, आप्तों से रक्षा ।

    भावार्थ

    हम ( पृथिव्याः ) पृथिवी के बीच ( इह ) इस प्रत्यक्ष ( देवय जनम् ) विद्वान् ब्राह्मणों के यज्ञ करने और राजाओं के शासन कर्म करने के स्थान पर( आ अगन्म ) प्राप्त हों। ( यत्र ) जहां ( विश्वे देवासः ) समस्त देव, विद्वान् ब्राह्मण और राजा लोग ( अजुषन्त ) आकर बसें ।वहां (ऋक्-सामाभ्याम्) ऋक्, विज्ञानमय वेदमन्त्र और साम गायन मय सामगान दोनों उपायों से और ( यजुर्भिः) परस्पर संघ बनाने के विधानरूप यजुर्मन्त्रों से ( संतरन्तः ) समस्त बाधाओं को पार करते हुए ( रायः पोषेण ) धन की वृद्धि अर्थात् अत्यन्त अधिक ऐश्वर्य और ( इषा ) प्रचुर अन्न प्राप्त करके ( सम् मदेम ) हम सब आनन्दित और सन्तुष्ट होकर रहें | ( इमाः आपः ) ये दिव्य गुणवाले जल एवं आप्त पुरुष ( मे शम् उ सन्तु) मेरे लिये शान्तिदायक हों है ( औषधे ) ओषधे ! रोगनिवारक ओषधे ! या दोषों से रक्षा करने में समर्थ ! जलों के भीतर या उनसे उत्पन्न औषधि के समान तीव्र स्वभाव के राजन् ! तू हमें त्रायस्व ) रक्षा कर । हे ( स्वधिते ) स्वधिते ! स्व=अपने बल से राष्ट्र को धारण करने में समर्थ वज्रमय या वज्र के समान क्षत्रबल से सम्पन्न ! शस्त्रबल से युक्त राजन् ! ( एनं मा हिंसी: ) इस मुक्त प्रजाजन को या राष्ट्र को मत विनाश कर ॥ 
    शत० का ० ३ । १ । १ । ११, १२-१७ ॥ 
     

    टिप्पणी

    १ ---अतःपरमग्निष्टोमो महीद्यौः ० (अ० ८ । ३२ । पर्यन्तम्।

    ऋषि | देवता | छन्द | स्वर

    प्रजापतिःऋषिः । देवयजनं प्राय ओषधिः क्षुरश्च देवताः । विराड् ब्राह्मी जगतीः त्र्यवसाना अत्यष्टिर्वा छन्दः । निषादः स्वरः ॥

    इस भाष्य को एडिट करें

    विषय

    अब चौथे अध्याय का प्रारम्भ किया जाता है, इसके प्रथम मन्त्र में जल के गुण, स्वभाव और कृत्य का उपदेश किया है।

    भाषार्थ

    हे विद्वान् मनुष्य ! जैसे (पृथिव्याः) भूमि पर [इदम्] इस मनुष्य जन्म और (देवयजनम्) विद्वानों के सङ्ग सत्कार और दान को प्राप्त करके (यत्र) जिस देश में (ऋक्सामाभ्याम्) पदार्थों की स्तुति करने वाले ऋग्वेद, कर्मान्त फलों की प्राप्ति कराने वाले सामवेद से तथा (यजुर्भिः) यजुर्वेद के मन्त्रों में प्रतिपादित कर्मों से (रायः) धन की (पोषेण) पुष्टि से दुःखों को (सन्तरन्तः) पार करते हुए (विश्वे) सब (देवासः) हम विद्वान् लोग सुखों को [इषा] विद्या वा अन्नादि से (आ-अगन्म) प्राप्त करें तथा (अजुषन्त) परस्पर प्रीति और सेवा करके (संमदेम) अच्छी प्रकार सुखी रहें। (उ) विचारपूर्वक (मे) मेरे द्वारा विद्या और ऊँची शिक्षा के साथ सेवन किये हुए (इमाः) यह ये (देवीः) शुद्ध और रोगनाशक (आपः) जल सुखदायक होते हैं वैसे ही वहाँ तू उनका सेवन कर, तेरे लिए यह जल (शं सन्तु) सुखकारक हों । जैसे (औषधे) सोमलता आदि औषधियाँ रोगों से रक्षा करती हैं वैसे आप (त्रायस्व) रक्षा करो । (स्वधिते) रोगनाश में वज्र के समान प्रवृत्त होने वाले आप (एनम्) इस जीव, यजमान वा प्राणियों की (मां हिंसीः) हिंसा न करो ॥ ४।१॥

    भावार्थ

    इस मन्त्र में लुप्तोपमा अलङ्कार है। जैसे मनुष्य अङ्गों और उपनिषदों सहित चारों वेदों को पढ़कर तथा अन्यों को पढ़ाकर, विद्या को प्रकाशित कर, विद्वान् बनकर, शुभ कर्मों के अनुष्ठान से सब प्राणियों को सुखी करें, [यथौषधे=सोमलताद्योषधिगणो रोगेभ्यस्त्रायते तथा त्वं नस्त्रायस्व] वैसे ही इन विद्वानों का सत्कार करके, इनसे वैदिक विद्या को सीखकर, उत्तम आचरण और औषध सेवन से दुःखों का अन्त करके, शारीरिक और आत्मिक पुष्टि से धन-संग्रह करके सब मनुष्य आनन्द में रहें ।। ४ ।

    प्रमाणार्थ

    (अगन्म) प्राप्नुयाम । यहाँ लिङ्-अर्थ में लुङ्-लकार है। (ऋक्सामाभ्याम्) यह शब्द 'अचतुर- विचतुर-सुचतुर- स्त्रीपुंस-धेन्वनडुहर्क्साम० (अ० ५ । ४ । ७७) सूत्र से समासान्त 'अच्' प्रत्यय से निपातित है। (मदेम) यहाँ विकरण प्रत्यय का व्यत्यय है। (देवीः) यहाँ 'वाच्छन्दासि' [अ० ६ । १। १०२] सूत्र से 'जस्' प्रत्यय को पूर्वसवर्ण दीर्घ आदेश है। (स्वधिते) 'स्वधिति' शब्द निघं० (२ । २०) में वज्र-नामों में पढ़ा है। (हिंसीः) यहाँ लिङ्-अर्थ में लुङ् लकार है। इस मन्त्र की व्याख्या शत० (३ । १ । १ । ११-१२ ।। ३ । १ । १-१०) में की गई है ।। ४ । १ ।।

    भाष्यसार

    १. जल--विद्या और सुशिक्षा से सेवन किये हुये शुद्ध जल रोगनाशक और सुखकारक होते हैं। २. अलंकार-- इस मन्त्र में उपमावाचक शब्द लुप्त होने से लुप्तोपमा अलङ्कार है। उपमा यह है कि जैसे विद्वान् लोग चारों वेदों को पढ़कर शुभकर्मों के अनुष्ठान से सुख को प्राप्त करते हैं वैसे ही अन्य लोग भी सुखों को प्राप्त करें। तथा जैसे जल सुखकारक होते हैं वैसे विद्वान् लोग भी सब के लिए सुखकारक हों, जैसे औषधियाँ रोगों से रक्षा करती हैं वैसे विद्वान् लोग भी दुःखों से रक्षा करें ।

    अन्यत्र व्याख्यात

    महर्षि ने इस मन्त्रांश का विनियोग संस्कार विधि (चूडाकर्म विधि) में किया है।

    इस भाष्य को एडिट करें

    मराठी (2)

    भावार्थ

    या मंत्रात लुप्तोपमालंकार आहे. माणसांनी ब्रह्मचर्याचे पालन करून वेदांग, उपनिषदे व वेदांचे अध्ययन करावे. इतरांनाही विद्या शिकवावी, विद्वान व्हावे व उत्तम कर्माचे अनुष्ठान करावे आणि सर्व जीवांना सुखी करावे. तसेच अशा विद्वानांचा सन्मान करून त्यांच्याकडून वैदिक विद्या ग्रहण करावी. शरीर व आत्मा यांचे बल वाढवावे व धनाचा संचय करून सर्वांनी आनंदित व्हावे.

    इस भाष्य को एडिट करें

    विषय

    आता चवथ्या अध्यायाचा आरंभ होत आहे. या अध्यायाच्या प्रथम मंत्रात जलाच्या गुण, स्वभाव आणि कार्य याविषयी उपदेश केला आहे -

    शब्दार्थ

    शब्दार्थ - हे विद्वान (यजमान) (पृथिव्याः) भूमीवर मानव जन्म घेऊन (इदम्) हे (देवयजनम्) विद्वानांचे यजन व पूजन यांसाठी जे दान द्यायला पाहिजे ते प्राप्त करून तू (यत्र) ज्या देशास (ऋक्सामाग्याम्) ऋगवेद, सामवेद व (यजुर्भिः) यजुर्वेदाच्या मंत्रामधे सांगितलेल्या विद्येने (रायस्पषिण) धनाची पुष्टी व वृद्धी केली जाते (समिषा) उत्तमोत्तम विद्या प्राप्त करण्याची कामना केली जाते, तसेच अन्न आदीद्वारे दुःखांचा (सन्तस्तः) अंत केला जातो, त्या ठिकाणी आम्ही (विश्‍वे) सर्व (वेवासः) विद्वानांनी जावे व निवास करून) सुख (अगन्य) मिळवावा (अजुषन्त) सर्व प्रकारे आनंदोपभोग करावा, (उचित व धर्म विहित आहे) त्याच प्रमाणे (मे) मी (याज्ञिकजन नियमांप्रमाणे व उत्तम ज्ञानमय विधीने शुद्ध केलेले (इमाः) हे (देवीः) शुद्धजल माझ्यासाठी जसे सुखकर आहे, तसेच तू देखील त्या ठिकाणी जाऊन माझ्या विधीने शुद्ध व पेय जलाचे (जुषरच) सेवन कर. ते शुद्ध आणि आनंददायी जल आदी पदार्थ तिथे (तू नवीन प्रदेशात गेल्यानंतर) तुझ्याकरिता देखील (शमू) शांति व सख देणारे (सन्तु) होवोत. जसे (ओषधे) सोमलता आदी औषधी समुदाय सर्व रोगांपासून आमचे रक्षण करते, त्याप्रमाणे तू ही त्यांचे सेवन करून स्वतःचे (त्रायस्व) रक्षण कर. (स्वधिते) रोगनाशनाकार्यात वज्रासमान दृढ होऊन (हे औषधी) तू (एनम्) या यजमानास वा प्राणिमात्रास (मा हि ्ँ सीः) कधीही मारूं नकोस (औषधी सेवनामुळे कोणाला हानी होऊ नये वा मृत्यू येऊ नये औषधी वनस्पती सुखकारक असाव्यात) ॥1॥

    भावार्थ

    भावार्थ - या मंत्रात लुप्तोपमालंकार आहे. ज्याप्रमाणे ही विद्वान मंडळी ब्रह्मचर्याचे पालन करून, उषनिषदांसह चारही वेदांचे अध्ययन करून व इतरांना विद्येचा प्रकाश व विस्तार करतात आणि याप्रमाणे स्वतः विद्वान होऊन व उत्तम कर्म करून सर्वांना सुखी करतात, त्याचप्रमाणे सर्व मनुष्यांचेही हे कर्तव्य आहे की त्यांनी या विद्वानांचा सत्कार करावा, त्यांच्याकडून वैदिक विद्या प्राप्त करावी आणि स्वतः शारिरीक तसेच आत्मिक बळ मिळूवन उवम धनसंपत्ती मिळवावी याप्रकारे मनुष्यांनी स्वतःही सुखी व आनंदित असावे आणि इतरांनाही सुखी आनंदित करावे. (विद्वानांनी सामान्यजनांना वेदादी शास्त्रांचे ज्ञान द्यावे आणि इतरांनी त्यांची सेवासत्कार करून त्यांच्यापासून विद्या-लाभ प्राप्त करावा.) ॥1॥

    इस भाष्य को एडिट करें

    इंग्लिश (3)

    Meaning

    May we, on this earth, where reside happily all the learned persons, be able to revere the sages. May we acting on the teachings of the Rig, Sam and Yajur Vedas, end all our miseries. May we rejoice in food and growth of riches. These pure, disease-killing waters be gracious to me. May the herbs protect me Thou armed king, harm not the worshipper.

    इस भाष्य को एडिट करें

    Meaning

    Lo! here we come to this holy place of yajna for the gods, powers of health, where the noblest of the world collected and delighted in their sacred enterprise. With joyous recitation of Riks, Yajus and Samans (with knowledge and action in the hope of joyous benefits) we offer food for the fire with libations of rich materials energetically and enthusiastically and cross the hurdles and suffering. May the holy waters bring health and peace. Noble herb, cure and save; unfailing power, do not hurt or kill this person.

    इस भाष्य को एडिट करें

    Translation

    We have arrived from all around at this place of the earth where sacrifices for the bounties of Nature are performed and where all the enlightened ones delight. Crossing over with the help of the hymns of knowledge (Rks), devotional songs (Samans) and sacred actions (Yajus) may we be pleased with food and abundant riches, and rejoice. (1) May these divine waters be well for me. (2) O medicinal herb, save him. (3) O knife (of the surgeon) may you not injure him. (4)

    Notes

    Devayajanam prthivyah, a place of earth where sacrifices for devas, the bounties of Nature, are performed. Devisah, the enlightened ones. Santarantah, crossing over (the difficulties). Devih üpah, waters considered divine due to their diseasecuring powers.

    इस भाष्य को एडिट करें

    बंगाली (1)

    विषय

    ॥ অথ চতুর্থাধ্যায়ারম্ভঃ
    ও৩ম্ বিশ্বা॑নি দেব সবিতর্দুরি॒তানি॒ পরা॑ সুব । য়দ্ভ॒দ্রং তন্ন॒ऽআ সু॑ব ॥ য়জুঃ৩০.৩ ॥
    অস্মিন্নধ্যায়ে সপ্তত্রিশন্মন্ত্রাঃ সন্তীতি বেদিতব্যম্ ॥
    অথ জলগুণস্বভাবকৃত্যমুপদিশ্যতে ॥
    এখন চতুর্থ অধ্যায় প্রারম্ভ করা হইতেছে । ইহার প্রথম মন্ত্রে জলের গুণ, স্বভাব ও কৃত্যের উপদেশ করা হইতেছে ॥

    पदार्थ

    পদার্থঃ- হে বিদ্বন্ ! যেমন (পৃথিব্যাঃ) ভূমোপরি মনুষ্যজন্ম প্রাপ্ত হইয়া যাহা (ইদম্) এই (দেবয়জনম্) বিদ্বান্দিগের যজন-পূজন অথবা তাঁহাদের জন্য দান আছে তাহা প্রাপ্ত হইয়া (য়ত্র) যে দেশে (ঋক্সামাভ্যাম্) ঋক্বেদ, সামবেদ তথা (য়জুর্ভিঃ) যজুর্বেদের মন্ত্রে কথিত কর্ম (রায়স্পোষেণ) ধনের পুষ্টি (সমীষা) উত্তম-উত্তম বিদ্যাদির ইচ্ছা অথবা অন্নাদি দ্বারা দুঃখ সকলের (সন্তরন্তঃ) অন্ত প্রাপ্ত হইয়া (বিশ্বে) সকল (দেবাসঃ) আমরা বিদ্বান্গণ সুখ (অগন্ম) প্রাপ্ত হইয়া (অজুষন্ত) সর্ব প্রকারে সেবন করি, (মদেম্) সুখী থাকি (ঊ) অধিকন্তু (মে) আমার সুনিয়ম, বিদ্যা, উত্তম শিক্ষা দ্বারা সেবন কৃত (ইমাঃ) এইগুলি (দেবীঃ) শুদ্ধ (আপঃ) জল সুখদাতা হয় সেইরূপ সেখানে তুমিও উহাদিগকে প্রাপ্ত হইয়া (জুষস্ব) সেবন ও আনন্দ কর । সেই সব জলাদি পদার্থও তোমার পক্ষে (শম্) সুখকারী (সন্তু) হউক, যেমন (ওষধে) সোমলতাদি ওষধিগুলি সকল রোগ হইতে রক্ষা করে, সেই রূপ তুমিও আমাদিগকে (ত্রায়স্ব) রক্ষা করিয়া (স্বধিতে) রোগ নাশ করিতে বজ্র সমান হইয়া (এনম্) এই যজমান বা প্রাণী মাত্রকে (মা হিংসী) কখনও বধ করিও না ॥ ১ ॥

    भावार्थ

    ভাবার্থঃ- এই মন্ত্রে লুপ্তোপমালঙ্কার আছে । যেমন মনুষ্যগণ ব্রহ্মচর্য্যপূর্বক অঙ্গ ও উপনিষদ সহিত চতুর্বেদ পাঠ করিয়া এবং অপরকে পাঠ করাইয়া বিদ্যা প্রকাশিত করে এবং বিদ্বান্ হইয়া উত্তম কর্মের অনুষ্ঠান দ্বারা সকল প্রাণিদিগকে সুখী করে, সেইরূপ এই সব বিদ্বান্দিগের সৎকার করিয়া ইহাদিগের দ্বারা বিদ্যা প্রাপ্ত হইয়া শরীর ও আত্মার পুষ্টি দ্বারা ধনের অত্যন্ত সঞ্চয় করিয়া সকল মনুষ্যদিগকে আনন্দিত হওয়া উচিত ॥ ১ ॥

    मन्त्र (बांग्ला)

    এদম॑গন্ম দেব॒য়জ॑নং পৃথি॒ব্যা য়ত্র॑ দে॒বাসো॒ऽঅজু॑ষন্ত॒ বিশ্বে॑ । ঋ॒ক্সা॒মাভ্যা॑ᳬं সং॒তর॑ন্তো॒ য়জু॑র্ভী রা॒য়স্পোষে॑ণ॒ সমি॒ষা ম॑দেম । ই॒মাऽআপঃ॒ শমু॑ মে সন্তু দে॒বীরোষ॑ধে॒ ত্রায়॑স্ব॒ স্বধি॑তে॒ মৈন॑ꣳহিꣳসীঃ ॥ ১ ॥

    ऋषि | देवता | छन्द | स्वर

    তত্রৈদমগন্মেত্যস্য প্রজাপতির্ঋষিঃ । অবোষধ্যৌ দেবতে । বিরাড্ ব্রাহ্মী জগতী ছন্দঃ । নিষাদঃ স্বরঃ ॥

    इस भाष्य को एडिट करें
    Top