Loading...
अथर्ववेद के काण्ड - 20 के सूक्त 63 के मन्त्र
मन्त्र चुनें
  • अथर्ववेद का मुख्य पृष्ठ
  • अथर्ववेद - काण्ड {"suktas":143,"mantras":958,"kand_no":20}/ सूक्त 63/ मन्त्र 5
    ऋषिः - गोतमः देवता - इन्द्रः छन्दः - उष्णिक् सूक्तम् - सूक्त-६३
    63

    क॒दा मर्त॑मरा॒धसं॑ प॒दा क्षुम्प॑मिव स्फुरत्। क॒दा नः॑ शुश्रव॒द्गिर॒ इन्द्रो॑ अ॒ङ्ग ॥

    स्वर सहित पद पाठ

    क॒दा । मर्त॑म् । अ॒रा॒धस॑म् । प॒दा । क्षुम्प॑म्ऽइव । स्फु॒र॒त् ॥ क॒दा । न॒: । शु॒श्र॒व॒त् । गिर॑: । इन्द्र॑: । अ॒ङ्ग ॥६३.५॥


    स्वर रहित मन्त्र

    कदा मर्तमराधसं पदा क्षुम्पमिव स्फुरत्। कदा नः शुश्रवद्गिर इन्द्रो अङ्ग ॥

    स्वर रहित पद पाठ

    कदा । मर्तम् । अराधसम् । पदा । क्षुम्पम्ऽइव । स्फुरत् ॥ कदा । न: । शुश्रवत् । गिर: । इन्द्र: । अङ्ग ॥६३.५॥

    अथर्ववेद - काण्ड » 20; सूक्त » 63; मन्त्र » 5
    Acknowledgment

    हिन्दी (3)

    विषय

    १-६ राजा और प्रजा के धर्म का उपदेश।

    पदार्थ

    (अङ्ग) हे मित्र ! (इन्द्रः) इन्द्र [बड़े ऐश्वर्यवाले सभापति आप] (कदा) कब (अराधसम्) आराधना न करनेवाले (मर्तम्) मनुष्य को (पदा) पाँव से (क्षुम्पम् इव) खुम्भी [गीली लकड़ी से उगे हुए छत्राकार छोटे पौधे] के समान (स्फुरत्) नष्ट करेंगे और (कदा) कब (नः) हमारी (गिरः) वाणियों को (शुश्रवत्) सुनेंगे ॥॥

    भावार्थ

    सभापति दुःखित प्रजा की पुकार सुनकर अनाज्ञाकारी दुष्ट को इस प्रकार गिरा देवे, जैसे खुम्भी वृक्ष पाँव से कुचल जाता है ॥॥

    टिप्पणी

    यह मन्त्र निरुक्त में व्याख्यात है-।१६-१७ ॥ −(कदा) कस्मिन् काले (मर्तम्) मनुष्यम् (अराधसम्) अनाराधयन्तम्-निरु० ।१७ (पदा) पादेन (क्षुम्पम्) गलितकाष्ठोत्पन्नक्षुद्रवृक्षम्। अहिछत्रकम्-निरु० ।१६ (इव) यथा (स्फुरत्) स्फुरतिर्वधकर्मा-निघ० २।१९। अवस्फुरिष्यति। वधिष्यति (कदा) (नः) अस्माकम् (शुश्रवत्) श्रोष्यति-निरु० ।१७। (गिरः) वाणीः (इन्द्रः) परमैश्वर्यवान् सभाध्यक्षो भवान् (अङ्ग) हे मित्र ॥

    इस भाष्य को एडिट करें

    विषय

    प्रभु-स्तवन व यज्ञ-साधन

    पदार्थ

    १. हे (अङ्ग) = प्रिय! वे प्रभु (कदा) = न जाने कब, अर्थात् शीघ्र ही [In no time] (अराधसम्) = यज्ञ आदि कार्यों को सिद्ध न करनेवाले (मतम्) = पुरुष को इसप्रकार (स्फुरत्) = समास कर देते हैं उसका वध कर देते हैं (इव) = जैसेकि (पदा) = पैर से (क्षम्पम्) = खुम्ब को परे फेंक दिया जाता है। २. (कदा) = कब (इन्द्रः) = वे परमैश्वर्यशाली प्रभु (नः गिर:) = हमारे स्तुतिवचनों को (शश्रवत) = सुनते हैं, अर्थात् कब हम प्रभु का स्तवन करनेवाले बनेंगे। वस्तुत: वही सौभाग्य का दिन होगा जबकि हम प्रभु-स्तवन करते हुए यज्ञ आदि उत्तम कर्मों को सिद्ध करनेवाले बनेंगे।

    भावार्थ

    हम प्रभु का स्तवन करें और यज्ञ आदि उत्तम कमों को सिद्ध करने में लगे रहें।

    इस भाष्य को एडिट करें

    भाषार्थ

    (अङ्ग) हे प्रिय उपासक! कुछ नहीं कह सकते कि (इन्द्रः) परमेश्वर (अराधसं मर्तम्) आराधनाहीन मनुष्य को (कदा) कब (स्फुरत्) उखाड़ फैंकें, (इव) जैसे कि कोई (पदा) पैर द्वारा (क्षुम्पम्) खुम्ब को उखाड़ फैंकता है। तथा वह (कदा) कब (नः) हमारी (गिरः) प्रार्थनावाणियों को (शुश्रवत्) सुन ले। [स्फुरति=वधकर्मा (निघं০ २.१९)।]

    इस भाष्य को एडिट करें

    इंग्लिश (4)

    Subject

    Indra Devata

    Meaning

    Dear friend, when would Indra, lord of wealth, power and justice, shake the miserly, uncreative, ungenerous and selfish person like a weed? Who knows? And would he listen to our prayers? Any time!

    इस भाष्य को एडिट करें

    Translation

    O friend, when Almighty God does trample down the man giving no gift like the mushroom and when he does hear of our prayers? (Always).

    इस भाष्य को एडिट करें

    Translation

    O friend, when Almighty God does trample down the man giving no gift like the mushroom and when he does hear of our prayers? (Always).

    इस भाष्य को एडिट करें

    Translation

    O learned person, (none knows) when He will trample under feet the niggardly like the mushroom, and when We will hear our call.

    इस भाष्य को एडिट करें

    संस्कृत (1)

    सूचना

    कृपया अस्य मन्त्रस्यार्थम् आर्य(हिन्दी)भाष्ये पश्यत।

    टिप्पणीः

    यह मन्त्र निरुक्त में व्याख्यात है-।१६-१७ ॥ −(कदा) कस्मिन् काले (मर्तम्) मनुष्यम् (अराधसम्) अनाराधयन्तम्-निरु० ।१७ (पदा) पादेन (क्षुम्पम्) गलितकाष्ठोत्पन्नक्षुद्रवृक्षम्। अहिछत्रकम्-निरु० ।१६ (इव) यथा (स्फुरत्) स्फुरतिर्वधकर्मा-निघ० २।१९। अवस्फुरिष्यति। वधिष्यति (कदा) (नः) अस्माकम् (शुश्रवत्) श्रोष्यति-निरु० ।१७। (गिरः) वाणीः (इन्द्रः) परमैश्वर्यवान् सभाध्यक्षो भवान् (अङ्ग) हे मित्र ॥

    इस भाष्य को एडिट करें
    Top