Loading...
अथर्ववेद के काण्ड - 3 के सूक्त 28 के मन्त्र
मन्त्र चुनें
  • अथर्ववेद का मुख्य पृष्ठ
  • अथर्ववेद - काण्ड {"suktas":143,"mantras":958,"kand_no":20}/ सूक्त 28/ मन्त्र 1
    ऋषिः - ब्रह्मा देवता - यमिनी छन्दः - अतिशक्वरीगर्भा चतुष्पदातिजगती सूक्तम् - पशुपोषण सूक्त
    102

    एकै॑कयै॒षा सृष्ट्या॒ सं ब॑भूव॒ यत्र॒ गा असृ॑जन्त भूत॒कृतो॑ वि॒श्वरू॑पाः। यत्र॑ वि॒जाय॑ते य॒मिन्य॑प॒र्तुः सा प॒शून्क्षि॑णाति रिफ॒ती रुश॑ती ॥

    स्वर सहित पद पाठ

    एक॑ऽएकया । ए॒षा । सृष्ट्या॑ । सम् । ब॒भू॒व॒ । यत्र॑ । गा: । असृ॑जन्त । भू॒त॒ऽकृत॑: । वि॒श्वऽरू॑पा: । यत्र॑ । वि॒ऽजाय॑ते । य॒मिनी॑ । अ॒प॒ऽऋ॒तु: । सा । प॒शून् । क्षि॒णा॒ति॒ । रि॒फ॒ती । रुश॑ती॥२८.१॥


    स्वर रहित मन्त्र

    एकैकयैषा सृष्ट्या सं बभूव यत्र गा असृजन्त भूतकृतो विश्वरूपाः। यत्र विजायते यमिन्यपर्तुः सा पशून्क्षिणाति रिफती रुशती ॥

    स्वर रहित पद पाठ

    एकऽएकया । एषा । सृष्ट्या । सम् । बभूव । यत्र । गा: । असृजन्त । भूतऽकृत: । विश्वऽरूपा: । यत्र । विऽजायते । यमिनी । अपऽऋतु: । सा । पशून् । क्षिणाति । रिफती । रुशती॥२८.१॥

    अथर्ववेद - काण्ड » 3; सूक्त » 28; मन्त्र » 1
    Acknowledgment

    हिन्दी (3)

    विषय

    उत्तम नियम से सुख होता है।

    पदार्थ

    (एषा) यह [साधारणी सृष्टि] (एकैकया) एक एक (सृष्ट्या) सृष्टि [सृष्टि के परमाणु] से (सम्=संभूय) मिलकर (बभूव) हुई है, (यत्र) जिसमें (भूतकृतः) पृथ्वी आदि भूतों से बनानेवाले (विश्वरूपाः) नाना रूपवाले [ईश्वर गुणों] ने (गाः) भूमि, सूर्य आदि लोकों को (असृजन्त) सृजा है। (यत्र) जहाँ पर (यमिनी) उत्तम नियमवाली [बुद्धि] (अपर्तुः) ऋतु अर्थात् क्रम वा व्यवस्था से विरुद्ध (विजायते) हो जाती है [वहाँ] (सा) वह [व्यवस्था विरुद्ध बुद्धि] (रिफती) पीड़ा देती हुई और (रुशती) सताती हुई (पशून्) व्यक्त वाणीवाले और अव्यक्त वाणीवाले जीवों को (क्षिणाति) नष्ट कर देती है ॥१॥

    भावार्थ

    ईश्वर ने अपनी सर्वशक्तिमत्ता से एक-एक परमाणु के संयोग से नियमानुसार यह इतनी बड़ी सृष्टि रची है। जो प्राणी ईश्वरीय नियम तोड़ता है, वह दुःख उठाता है ॥१॥

    टिप्पणी

    १−(एकैकया) भिन्नभिन्नया। व्यष्टिरूपया (सृष्ट्या) सृज विसर्गे-क्तिन्। सृजमानया (एषा) समष्टिरूपा सृष्टिः (सम्) संभूय (यत्र) यस्मिन् स्थाने। (गाः) गौः, पृथिवी-निघ० १।१। गौरिति पृथिव्या नामधेयं यद् दूरङ्गता भवति यच्चास्यां भूतानि गच्छन्ति-निरु० २।५। गौरित्यादित्यो भवति गमयति रसान् गच्छत्यन्तरिक्षे-निरु० २।१४। भूमिसूर्यादीन् लोकान् (असृजन्त) उदपादयन् (भूतकृतः) डुकृञ् करणे-क्विप्। पृथिवीजलतेजोवायुगमनभूतैर्निर्मातारः (विश्वरूपाः) नानारूपाः परमेश्वरगुणाः (विजायते) विविधं प्रादुर्भवति। (यमिनी) अत इनिठनौ। पा० ५।२।११५। इति यम-इनि। ऋन्नेभ्यो ङीप्। पा० ४।१।५। इति ङीप्। भूमनिन्दाप्रशंसासु नित्ययोगेऽतिशायने। संबन्धेऽस्तिविवक्षायां भवन्ति मतुबादयः। वा० पा० ५।२।९४। प्रशस्तव्रतयुक्ता, सृष्टिः प्रजा बुद्धिर्वा (अपर्तुः) अपगतो वर्जित ऋतुर्नियमितकालः क्रमो व्यवस्था यस्याः सा तथाभूता (सा) अपर्तुर्बुद्धिः (पशून्) पशवो व्यक्तवाचश्चाप्यक्तवाचश्च-निरु० ११।२९। मनुष्यगवादीन् जीवान् (क्षिणाति) क्षि हिंसायाम्। नाशयति। (रिफनी) रिफ हिंसायाम्-शतृ। पीडां कुर्वती (रुशती) रुश हिंसायाम्-शतृ। दुःखं प्रापयन्ती ॥

    इस भाष्य को एडिट करें

    विषय

    वेदवाणी का महत्त्व

    पदार्थ

    २. (एषा) = यह ब्रह्मा से जानी जानेवाली वेदवाणी (एकैकया) = प्रत्येक (सष्टया) = सृष्टि के साथ (संबभूव) = सम्यक् प्रादुर्भूत होती है। सृष्टि के प्रारम्भ में इसका ज्ञान 'अग्नि, वायु, आदित्य व अङ्गिरा' के द्वारा ब्रह्मा में स्थापित किया जाता है। (यत्र) = जिस वेदवाणी में (भूतकृतः) = [भूत-Wall. being, welfare] शुभ, मङ्गल व स्वास्थ्य देनेवाली (गा:) = वाणियाँ (असृजन्त) = विसृष्ट होती हैं। ये वाणियाँ (विश्वरूपा:) = सब पदार्थों का निरूपण करनेवाली हैं, सब पदार्थों का ज्ञान देकर ही वस्तुतः ये हमारा मङ्गल करती हैं। २. (यत्र) = इन वेदवाणियों का स्वाध्याय करनेवाला व्यक्ति संयत बुद्धि को प्राप्त करता है, उस बुद्धि को जोकि मन का शासन करनेवाली होती है, नकि मन से शासित होती है। ३. वेदवाणियों के ज्ञान की वाणियों के अध्ययन के अभाव में जब वह बुद्धि (अपर्तुः) = [जायते]-ऋतु-क्रम-नियमित गति से रहित, उच्छखल-सी हो जाती है तब (सा) = वह (पशून्) = पशुओं को (क्षिणाति) = हिंसित करती है, मांसाहार ब शिकार की ओर झुकती है। मन से शासित होकर यह ठीक सोच ही नहीं पाती। यह (रिफती) = कड़वे शब्दों का उच्चारण [to utter a rough grunting sound] करती है और (रुशती) = औरों को तंग करती है [to tease]| ज्ञान की ओर झुकाव न होने पर मनुष्य शिकार [मांसाहार] में प्रवृत्त होता है, कड़वी वाणी बोलता है तथा औरों को तंग करने में स्वाद लेता है।

    भावार्थ

    प्रभु सृष्टि के प्रारम्भ में वेद ज्ञान देते हैं। यह वेदवाणी सब पदार्थों का निरूपण करती हुई हमारा शुभ करती है। इसके अध्ययन से बुद्धि संयत बनती है, अन्यथा मनुष्य शिकार में, कड़वे शब्द बोलने में व औरों को तंग करने में लगा रहता है।

    इस भाष्य को एडिट करें

    भाषार्थ

    (एषा) यह सृष्टि (एकैकया) एक-एक से (सृष्ट्या) सर्जन द्वारा अर्थात् क्रमशः (सम्बभूव) निर्मित हुई है, (यत्र) जिस सृष्टि में (भूतकृतः) भूतसृष्टि के सदश उत्पन्न करनेवालों ने (विश्वरूपाः) विश्व का निरूपण करनेवाली (गाः) वेदवाणियों का (असृजन्त) सर्जन किया। (यत्र) जहाँ (यमिती) यम नियमों का उपदेश करनेवाली वेदवाणी (अपर्तुः१) ऋतु अर्थात समय को अपगत करके (विजायते) विधिविरुद्ध रूप में प्रकट की जाती है, तो (सा) वह वेदवाणी मानो (रिफती२, रुशती) हिंसित होती हुई तथा विनष्ट होती हुई (पशून्) पञ्चविध पशुओं का (क्षिणाति) क्षय कर देती है।[वेदोक्त कर्मों से रहित पुरुष भी पशुसदृश हैं।]

    टिप्पणी

    [गा:= गौ: वाङ्नाम (निघं० १।११)। गाः बहुवचन में है। वेदवाणियाँ चार हैं, ऋक्, यजुः साम, अथर्व। भूतकृतः=भूतकाल की सृष्टियों के सदृश वेदवाणियों को आविर्भूत करनेवाले अग्नि, वायु, आदित्य, अङ्गिरा है चार ऋषि। विश्वरूपाः=वेदवाणियाँ विश्व के घटकों का निरूपण करती हैं, यतः उनमें सब विद्याएँ मूलरूप में विद्यमान हैं। एकैकया= एक-एक करके, अर्थात् क्रमशः सृष्टि की उत्पत्ति हुई है, युगपत् नहीं। पहिले विराट् पैदा हुआ, उसके अतिविरेचन से तारा-नक्षत्र पैदा हुए, तदनन्तर आदित्य, आदित्य परिवार, पृथिवी, और प्राणिजगत् पैदा हुआ। पशून्=तवेमे पञ्च पशवो विभक्ता गावो अश्वाः पुरुषा अजावयः (अथर्व० १०।२।९)।] [१. अपर्तु:= ऋतु अर्थात् शिष्यों के आयु:-काल अर्थात् योग्यताकाल का विचार न करके दी गई यमिनी अर्थात् आध्यात्मिक वेदवाणी स्वयं भी विनष्ट होती है, निष्फला होती है, और ग्रहण करनेवालों और उनकी सम्पत्तियों को भी नष्ट कर देती है। यथा–विद्या ह वै ब्राह्मणमाजगाम गोपाय मा शेवधिष्टेऽहमस्मि। असूयकायानृजवेऽयताय न मा ब्रूया वीर्यवती तथा स्याम्। (निरुक्त २।१।४)। इस उद्धरण में कहा है कि विद्या ब्राह्मण की निधि है, इसका प्रदान ब्राह्मण अर्थात् वेदवेत्ता और ब्रह्मवेत्ता उसे प्रदान न करे जो कि निन्दक है, कुटिल है, और संयमी नहीं है। २. रिफ हिंसायाम् (तुदादि:) रूश हिंसायाम् (तुदादि:)। अपात्रों और कुपात्रों को दी गई पमिनी वेदवाणी उनके लिए क्रव्याद हो जाती है (मन्त्र २)।]

    इस भाष्य को एडिट करें

    इंग्लिश (4)

    Subject

    Observance of Divine Law

    Meaning

    Yamini is the law and process of life’s evolution. Where the law and the process are violated, progress stops, the movement turns downwards. There is a time and season for every thing in nature, violate the time and season and the thing ends up in nothing. This universe has come into existence by the creation and evolution of things one by one. In here, the creator of things has created all things and forms through the process of the law of universal evolution. Where the process is disturbed, it goes against the law, violates the time and season, and the violation leads to destruction, hurting and injuring humans and animals alike. (This mantra is a warning against the human violation of the earth and its environment.)

    इस भाष्य को एडिट करें

    Subject

    Yaminī

    Translation

    This cow herself has been born in a single baby manner (eka ekayā) where the breeders breed cows of all descriptions.” Where a cow bears twins (Yaminī) against the natural order, charging (riphatī) and attacking (rušati) she ruins the cattle.

    इस भाष्य को एडिट करें

    Translation

    [N.B. Yamini is the subject-matter of this hymn. The term bas been used here comprehensively by meaning the cow giving birth to twins. This cow destroys the species as the twins born to one female animal are dangerous for the survival of their mother and for themselves. If such cases are rampant the whole kine family may face ruin. Secondly the term means destruction or dissolution. More clearly it is the night of the world’s dissolution.] A. This creation in which the various elementary causes undergoing the processes of creation bring into being the Sun, earth and other objects, come into existence through the integrating process of one element combined by one element or atom. If and when the night of destruction or dis-solution which is contrary to constructive Process, comes into active Operation, it destroys all the living creatures and non living objects disturbing and disordering the whole wordly structure. B. The kine Kingdom flourishes into existence by bringing forth offspring singly, through the causes of the creation give birth to cows of various colors. If and when the cow produces twins in spite of order (or abnormally) she harms the growth of cattle troubling and disturbing them.

    इस भाष्य को एडिट करें

    Translation

    This world has been created by the combination of one atom with the other. Various sorts of divine forces have been set free in the universe for creating living beings. Where Divine and temporal forces go out of order, and clash with each other, that chaos degrades torments and ruins the souls.

    इस भाष्य को एडिट करें

    संस्कृत (1)

    सूचना

    कृपया अस्य मन्त्रस्यार्थम् आर्य(हिन्दी)भाष्ये पश्यत।

    टिप्पणीः

    १−(एकैकया) भिन्नभिन्नया। व्यष्टिरूपया (सृष्ट्या) सृज विसर्गे-क्तिन्। सृजमानया (एषा) समष्टिरूपा सृष्टिः (सम्) संभूय (यत्र) यस्मिन् स्थाने। (गाः) गौः, पृथिवी-निघ० १।१। गौरिति पृथिव्या नामधेयं यद् दूरङ्गता भवति यच्चास्यां भूतानि गच्छन्ति-निरु० २।५। गौरित्यादित्यो भवति गमयति रसान् गच्छत्यन्तरिक्षे-निरु० २।१४। भूमिसूर्यादीन् लोकान् (असृजन्त) उदपादयन् (भूतकृतः) डुकृञ् करणे-क्विप्। पृथिवीजलतेजोवायुगमनभूतैर्निर्मातारः (विश्वरूपाः) नानारूपाः परमेश्वरगुणाः (विजायते) विविधं प्रादुर्भवति। (यमिनी) अत इनिठनौ। पा० ५।२।११५। इति यम-इनि। ऋन्नेभ्यो ङीप्। पा० ४।१।५। इति ङीप्। भूमनिन्दाप्रशंसासु नित्ययोगेऽतिशायने। संबन्धेऽस्तिविवक्षायां भवन्ति मतुबादयः। वा० पा० ५।२।९४। प्रशस्तव्रतयुक्ता, सृष्टिः प्रजा बुद्धिर्वा (अपर्तुः) अपगतो वर्जित ऋतुर्नियमितकालः क्रमो व्यवस्था यस्याः सा तथाभूता (सा) अपर्तुर्बुद्धिः (पशून्) पशवो व्यक्तवाचश्चाप्यक्तवाचश्च-निरु० ११।२९। मनुष्यगवादीन् जीवान् (क्षिणाति) क्षि हिंसायाम्। नाशयति। (रिफनी) रिफ हिंसायाम्-शतृ। पीडां कुर्वती (रुशती) रुश हिंसायाम्-शतृ। दुःखं प्रापयन्ती ॥

    इस भाष्य को एडिट करें

    बंगाली (1)

    পদার্থ

     

    একৈকযৈষা সৃষ্ট্যা সং বভুব যত্র গা অসৃজন্ত ভূতকৃতো বিশ্বরূপাঃ। 

    যত্র বিজায়তে যমিন্যপর্তুঃ সা পশুন্‌ক্ষিণাতি রিফতী রুশতী।।৪৪।।

    (অথর্ব ৩।২৮।১)

    পদার্থঃ (এষা একৈকয) একে একে ধাপে ধাপে যে নিয়মের সাথে (সং বভুব) সকল অণু পরমাণু সমূহের সম্মেলনের ফলে (যত্র) যে জগতের (সৃষ্ট্যা) সৃষ্টি হয়েছে, (বিশ্বরূপাঃ) বিশ্বের স্রষ্টা, (ভূতকৃতঃ) পৃথিবী সহ সকল গ্রহ নক্ষত্রের কর্তা, (গাঃ) সেই সমস্ত লোকের (অসৃজন্ত) সৃজন করেছেন। (যত্র) যেখানে (যমিনী) এই সকল উত্তম নিয়মকানুনের (অপর্তুঃ) ক্রমভঙ্গ (বিজায়তে) হয়, (সা) তা (রিফতী) ধ্বংসের কারণ হয় (রুশতী) এবং তা শৃঙ্খলা নষ্ট করে (পশুন্) সমস্ত প্রাণিজগতের (ক্ষিণাতি) ক্ষতিসাধন করে। 

     

    ভাবার্থ

    ভাবার্থঃ এই বিশ্বজগত ধাপে ধাপে বিবর্তনের মাধ্যমে অণু-পরমাণুর সম্মেলন পরমেশ্বর সৃজন কর্তৃত্বের মাধ্যমে সৃষ্টি হয়েছে। এই জগতের কিছু উত্তম শুভ নিয়ম তিনি ঠিক করে দিয়েছেন। সেই নিয়ম ভঙ্গ করে মানুষ, প্রাণী বা প্রকৃতির ক্ষতি করলে তা আমাদেরই ধ্বংস ডেকে আনে ।।৪৪।।

     

    इस भाष्य को एडिट करें
    Top