Loading...
अथर्ववेद के काण्ड - 7 के सूक्त 94 के मन्त्र
मन्त्र चुनें
  • अथर्ववेद का मुख्य पृष्ठ
  • अथर्ववेद - काण्ड {"suktas":143,"mantras":958,"kand_no":20}/ सूक्त 94/ मन्त्र 1
    ऋषिः - अथर्वा देवता - सोमः छन्दः - अनुष्टुप् सूक्तम् - सांमनस्य सूक्त
    87

    ध्रु॒वं ध्रु॒वेण॑ ह॒विषाव॒ सोमं॑ नयामसि। यथा॑ न॒ इन्द्रः॒ केव॑ली॒र्विशः॒ संम॑नस॒स्कर॑त् ॥

    स्वर सहित पद पाठ

    ध्रु॒वम् । ध्रु॒वेण॑ । ह॒विषा॑ । अव॑ । सोम॑म् । न॒या॒म॒सि॒ । यथा॑ । न॒: । इन्द्र॑: । केव॑ली: । विश॑: । सम्ऽम॑नस: । कर॑त् ॥९९.१॥


    स्वर रहित मन्त्र

    ध्रुवं ध्रुवेण हविषाव सोमं नयामसि। यथा न इन्द्रः केवलीर्विशः संमनसस्करत् ॥

    स्वर रहित पद पाठ

    ध्रुवम् । ध्रुवेण । हविषा । अव । सोमम् । नयामसि । यथा । न: । इन्द्र: । केवली: । विश: । सम्ऽमनस: । करत् ॥९९.१॥

    अथर्ववेद - काण्ड » 7; सूक्त » 94; मन्त्र » 1
    Acknowledgment

    हिन्दी (3)

    विषय

    राजा की स्तुति का उपदेश।

    पदार्थ

    (ध्रुवम्) दृढ़ स्वभाव (सोमम्) ऐश्वर्यवान् राजा को (ध्रुवेण) दृढ़ (हविषा) आत्मदान वा भक्ति के साथ (अव नयामसि) हम स्वीकार करते हैं। (यथा) जिससे [वह] (इन्द्रः) प्रतापी राजा (नः) हमारे लिये (केवलीः) सेवास्वभाववाली (विशः) प्रजाओं को (संमनसः) एकमन (करत्) कर देवे ॥१॥

    भावार्थ

    सब मनुष्य विद्वान् राजा का अभिषेक करके प्रार्थना करें कि सब प्रजा को परस्पर मिलाकर प्रसन्न रक्खे ॥१॥ यह मन्त्र कुछ भेद से ऋग्वेद में है−१०।१७३।६। और यजु० ७।२५ ॥

    टिप्पणी

    १−(ध्रुवम्) ध्रु स्थैर्ये-अच्। स्थिरम् (ध्रुवेण) दृढेन (हविषा) आत्मदानेन (सोमम्) षु ऐश्वर्ये-मन्। ऐश्वर्यवन्तम् (अत्र नयामसि) स्वीकुर्मः (यथा) येन प्रकारेण (नः) अस्मभ्यम् (इन्द्रः) प्रतापी (केवलीः) अ० ३।१८।२। केवल-ङीप्। सेवास्वभावाः। सेवनीयाः (विशः) प्रजाः (संमनसः) समानमनस्काः (करत्) कुर्यात् ॥

    इस भाष्य को एडिट करें

    विषय

    केवली: विश:

    पदार्थ

    १. ध्(रुवेण हविषा) = स्थिर हवि [कर] के द्वारा पूर्व (सोमम्) = स्थिर सोम-स्वभाववाले राजा को (अवनयामसि) = गाड़ी से आसन्दी के प्रति अवतीर्ण करते हैं, अर्थात् राजा को गद्दी पर बिठाते हैं, और उसके लिए स्थिर रूप से कर देते हैं, तभी तो वह राष्ट्र का रक्षण कर पाता है। बिना कोष के कोई भी कार्य सम्भव नहीं। २. हम इसलिए इन्हें गद्दी पर बिठाते हैं (यथा) = जिससे कि (इन्द्रः) = यह शत्रु-विद्रावक प्रभु (न:) = हमें (केवली संमनसः विश:) = किसी अन्य पर अनाश्रित तथा परस्पर संगत मनवाली प्रजाएँ (करत्) = बनाये।

    भावार्थ

    राजा को निश्चितरूप से कर देने से ही राजा राष्ट्र का रक्षण कर पाएगा, अत: प्रजा का कर्तव्य है कि वह निश्चितरूप से राजा के लिए हवि [कर] दे। राजा प्रजा को किसी अन्य देश पर अनाश्रित, आत्मनिर्भर [Self sufficient] तथा हम प्रजाओं को परस्पर उत्तम मनवाला बनाये।

    अगले दो सुक्तों का ऋषि 'कपिजल' है-यह [कपि-जल-to encircle with anet] वानर के समान चञ्चलतावाली 'काम-क्रोध' रूप वृत्तियों को घेरकर समाप्त करता है [जल घातने] -

    इस भाष्य को एडिट करें

    भाषार्थ

    (ध्रुवेण) स्थिर (हविषा) सैनिक हवि द्वारा, (ध्रुवम्) युद्ध में ध्रुवरूप (सोमम्) परकीय-सेनानायक का (अवनयामसि) हम अवपात करते हैं (यथा) ताकि (इन्द्रः) सम्राट् (नः) हम (विशः) प्रजाओं को (केवलीः) शत्रुरहित या पारस्परिक सेवा वाली, (संमनसः) और एक मन वाली (करत्) करे।

    टिप्पणी

    [वेदानुसार स्वरक्षार्थ किया युद्ध यज्ञरूप है, और इस युद्धयज्ञ में सैनिक हविरूप हैं। परकीय सेना का सेनाध्यक्ष जब ध्रुव होकर युद्ध लड़ रहा हो, तब आत्मरक्षार्थ युद्ध में ध्रुवरूप में, स्थिररूप में, सैनिक प्रदान करते रहना चाहिये, ताकि परकीय सेनानायक का अधोनयन किया जा सके। सोम= सेनानायक। यथा “इन्द्र आसां नेता बृहस्पतिर्दक्षिणा यज्ञः पुर एतु सोमः। देव सेनानामभिभञ्जतीनां जयन्तीनां मरुतो यत्त्वग्रम्" (यजु० १७।४०)। इस मन्त्र में इन्द्र है सम्राट्; बृहस्पति है बृहती सेना का पति; और सोम है सेनाध्यक्ष जो कि युद्ध-यज्ञ को करता है। केवलीः= केवृ सेवने (भ्वादिः)। अवनयामसि= अव (अबस्तात्) + नी (नयने), अधोनयन]।

    इस भाष्य को एडिट करें

    इंग्लिश (4)

    Subject

    Ruler and People

    Meaning

    With unshakable constancy of mind, love and loyalty, and with total yajnic homage of cooperation, we serve Soma, lord of peace and gracious ruler, so that Indra, master ruler and protector, may make the people free, self-governing and happy at heart.

    इस भाष्य को एडिट करें

    Subject

    Somah

    Translation

    With sure offerings (of provisions) we bring about sure bliss so that may the resplendent Lord (or the army chief) make the subjects (people) of one mind and loyal only to us. (Also Rg. X.173.6)

    Comments / Notes

    MANTRA NO 7.99.1AS PER THE BOOK

    इस भाष्य को एडिट करें

    Translation

    We attain the constant spiritual knowledge through constant introspection and exercise of meditation, so that Almighty God make emancipated subjects unanimous in their attainments.

    इस भाष्य को एडिट करें

    Translation

    With steadfast devotion, we accept the man of determination as our ruler. May he render for us his subjects self-reliant and one-minded.

    Footnote

    That country alone progresses whose inhabitants are self-reliant and undivided. Sec Rig, 10-173-6, Yajur, 7-25.

    इस भाष्य को एडिट करें

    संस्कृत (1)

    सूचना

    कृपया अस्य मन्त्रस्यार्थम् आर्य(हिन्दी)भाष्ये पश्यत।

    टिप्पणीः

    १−(ध्रुवम्) ध्रु स्थैर्ये-अच्। स्थिरम् (ध्रुवेण) दृढेन (हविषा) आत्मदानेन (सोमम्) षु ऐश्वर्ये-मन्। ऐश्वर्यवन्तम् (अत्र नयामसि) स्वीकुर्मः (यथा) येन प्रकारेण (नः) अस्मभ्यम् (इन्द्रः) प्रतापी (केवलीः) अ० ३।१८।२। केवल-ङीप्। सेवास्वभावाः। सेवनीयाः (विशः) प्रजाः (संमनसः) समानमनस्काः (करत्) कुर्यात् ॥

    इस भाष्य को एडिट करें
    Top