Loading...
ऋग्वेद मण्डल - 8 के सूक्त 94 के मन्त्र
1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12
मण्डल के आधार पर मन्त्र चुनें
अष्टक के आधार पर मन्त्र चुनें
  • ऋग्वेद का मुख्य पृष्ठ
  • ऋग्वेद - मण्डल 8/ सूक्त 94/ मन्त्र 5
    ऋषिः - बिन्दुः पूतदक्षो वा देवता - मरूतः छन्दः - गायत्री स्वरः - षड्जः

    पिब॑न्ति मि॒त्रो अ॑र्य॒मा तना॑ पू॒तस्य॒ वरु॑णः । त्रि॒ष॒ध॒स्थस्य॒ जाव॑तः ॥

    स्वर सहित पद पाठ

    पिब॑न्ति । मि॒त्रः । अ॒र्य॒मा । तना॑ । पू॒तस्य॑ । वरु॑णः । त्रि॒ऽस॒ध॒स्थस्य॑ । जाव॑तः ॥


    स्वर रहित मन्त्र

    पिबन्ति मित्रो अर्यमा तना पूतस्य वरुणः । त्रिषधस्थस्य जावतः ॥

    स्वर रहित पद पाठ

    पिबन्ति । मित्रः । अर्यमा । तना । पूतस्य । वरुणः । त्रिऽसधस्थस्य । जावतः ॥ ८.९४.५

    ऋग्वेद - मण्डल » 8; सूक्त » 94; मन्त्र » 5
    अष्टक » 6; अध्याय » 6; वर्ग » 28; मन्त्र » 5
    Acknowledgment

    इंग्लिश (1)

    Meaning

    Mitra, men of universal love, Aryama, men of adventure on the paths of rectitude, and Varuna, men of judgement and right choice, continuously drink of this soma created and sanctified by the procreative power of divinity pervading in the three regions of the universe, heaven, earth and the sky.

    इस भाष्य को एडिट करें

    मराठी (1)

    भावार्थ

    विविध पदार्थांच्या व्यवहाराचे ज्ञान प्राप्त करणारा मनुष्यच मित्रता, दानशीलता व अत्यंत भेदभावरहितता अर्थात् न्यायकारिता इत्यादी गुणांनी युक्त होऊ शकतो. ॥५॥

    इस भाष्य को एडिट करें

    हिन्दी (2)

    पदार्थ

    (मित्रः) सबका सखा, (अर्यमा) दानशील, (जावतः) स्व विस्तार किये हुए (त्रिषधस्थस्य) तीनों लोकों में पक्षपातरहित अतएव (पूतस्य) अपवित्रतारहित का (तना) पुत्र (वरुणः) न्यायकारी--ये सब पदार्थों के व्यवहारज्ञान को (पिबन्ति) ग्रहण करते हैं॥५॥

    भावार्थ

    भाँति-भाँति के पदार्थों के व्यवहार का ज्ञान प्राप्त करने वाला मानव ही मित्रता, दानशीलता तथा अतिशय पक्षपातरहितता या न्यायकारिता आदि गुणों से सम्पन्न हो सकता है॥५॥

    इस भाष्य को एडिट करें

    विषय

    उन के कर्त्तव्य।

    भावार्थ

    ( तना पूतस्य ) विस्तृत ऐश्वर्य वा यज्ञ से पवित्र, ( त्रि-सधस्थस्य ) तीनों स्थानों पर विराजमान ( जावतः ) जाया के तुल्य प्रजा या भूमि से युक्त राष्ट्र का ( मित्रः ) स्नेही जन, ( अर्यमा ) शत्रुओं का नियन्ता और ( वरुणः ) संकटनिवारक जन संकटनिवारक जन ( पिबन्ति ) उपभोग और पालन करते हैं।

    टिप्पणी

    missing

    ऋषि | देवता | छन्द | स्वर

    बिन्दुः पूतदक्षो वा ऋषिः॥ मरुतो देवता॥ छन्दः—१, २, ८ विराड् गायत्री। ३, ५, ७, ९ गायत्री। ४, ६, १०—१२ निचृद् गायत्री॥

    इस भाष्य को एडिट करें
    Top