Loading...
ऋग्वेद मण्डल - 8 के सूक्त 94 के मन्त्र
1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12
मण्डल के आधार पर मन्त्र चुनें
अष्टक के आधार पर मन्त्र चुनें
  • ऋग्वेद का मुख्य पृष्ठ
  • ऋग्वेद - मण्डल 8/ सूक्त 94/ मन्त्र 9
    ऋषिः - बिन्दुः पूतदक्षो वा देवता - मरूतः छन्दः - गायत्री स्वरः - षड्जः

    आ ये विश्वा॒ पार्थि॑वानि प॒प्रथ॑न्रोच॒ना दि॒वः । म॒रुत॒: सोम॑पीतये ॥

    स्वर सहित पद पाठ

    आ । ये । विश्वा॑ । पार्थि॑वानि । प॒प्रथ॑न् । रो॒च॒ना । दि॒वः । म॒रुतः॑ । सोम॑ऽपीतये ॥


    स्वर रहित मन्त्र

    आ ये विश्वा पार्थिवानि पप्रथन्रोचना दिवः । मरुत: सोमपीतये ॥

    स्वर रहित पद पाठ

    आ । ये । विश्वा । पार्थिवानि । पप्रथन् । रोचना । दिवः । मरुतः । सोमऽपीतये ॥ ८.९४.९

    ऋग्वेद - मण्डल » 8; सूक्त » 94; मन्त्र » 9
    अष्टक » 6; अध्याय » 6; वर्ग » 29; मन्त्र » 3
    Acknowledgment

    इंग्लिश (1)

    Meaning

    Those Maruts, pioneers of nature and humanity, who have extended the beauties of existence, both earthly and heavenly, for the experience and higher awareness of the joy and ecstasy of it,

    इस भाष्य को एडिट करें

    मराठी (1)

    भावार्थ

    पदार्थांच्या व्यवहाराचा बोध पदार्थ पसरवून, विश्लेषण करून, प्रकट करून, प्रदर्शन करून, वृद्धी करून केला जातो. जी माणसे आपल्या निर्दोष सामर्थ्याने ज्ञान प्राप्त करतात. त्यांच्याकडूनच दुसऱ्यांनी ते ज्ञान प्राप्त केले पाहिजे. ॥९,१०॥

    इस भाष्य को एडिट करें

    हिन्दी (2)

    पदार्थ

    (ये) जिन (मरुतः) बलिष्ठ मनुष्यों ने (सोमपीतये) सृष्ट पदार्थों के समुचित व्यवहार के बोध रूप रस का पान करने हेतु (विश्वा) सभी (पार्थिवानि) भौतिक तथा (दिवः रोचना) अपनी द्युति से प्रकाशित रचनाओं को (आ, पप्रथन्) विस्तृत किया है॥९॥ (त्यान्) उन (नु) ही (पूतदक्षसः) अपनी सामर्थ्य को निर्दोष रखे हुए (वः) आप ( मरुतः) मनुष्यों को (अस्य सोमस्य पीतये) इन सोम पदार्थों के व्यवहार का बोध प्रदान करने हेतु हुए आमन्त्रण देता हूँ॥१०॥

    भावार्थ

    पदार्थों के व्यवहार का ज्ञान पदार्थों को फैलाकर, उनका विश्लेषण कर, उन्हें प्रकट कर, उनका प्रदर्शन करके, उनमें वृद्धि करके ही किया जाता है। जो मानव अपने सामर्थ्य को निर्दोष रख उस ज्ञान को पाते हैं, उनसे ही दूसरों को वह ज्ञान लेना चाहिये॥९, १०॥

    इस भाष्य को एडिट करें

    विषय

    उन के कर्त्तव्य।

    भावार्थ

    ( ये मरुतः ) जो बलवान् मनुष्य ( सोम-पीतये ) ऐश्वर्य के पालन और प्राप्ति के लिये ( दिवः ) आकाश या भूमि के ( विश्वा ) समस्त ( पार्थिवानि रोचना ) पृथिवी पर विद्यमान रुचिकर पदार्थों को ( पप्रथन् ) विस्तारित करते हैं।

    टिप्पणी

    missing

    ऋषि | देवता | छन्द | स्वर

    बिन्दुः पूतदक्षो वा ऋषिः॥ मरुतो देवता॥ छन्दः—१, २, ८ विराड् गायत्री। ३, ५, ७, ९ गायत्री। ४, ६, १०—१२ निचृद् गायत्री॥

    इस भाष्य को एडिट करें
    Top