Loading...
ऋग्वेद मण्डल - 9 के सूक्त 16 के मन्त्र
1 2 3 4 5 6 7 8
मण्डल के आधार पर मन्त्र चुनें
अष्टक के आधार पर मन्त्र चुनें
  • ऋग्वेद का मुख्य पृष्ठ
  • ऋग्वेद - मण्डल 9/ सूक्त 16/ मन्त्र 7
    ऋषि: - असितः काश्यपो देवलो वा देवता - पवमानः सोमः छन्दः - गायत्री स्वरः - षड्जः

    दि॒वो न सानु॑ पि॒प्युषी॒ धारा॑ सु॒तस्य॑ वे॒धस॑: । वृथा॑ प॒वित्रे॑ अर्षति ॥

    स्वर सहित पद पाठ

    दि॒वः । न । सानु॑ । पि॒प्युषी॑ । धारा॑ । सु॒तस्य॑ । वे॒धसः॑ । वृथा॑ । प॒वित्रे॑ अ॒र्ष॒ति॒ ॥


    स्वर रहित मन्त्र

    दिवो न सानु पिप्युषी धारा सुतस्य वेधस: । वृथा पवित्रे अर्षति ॥

    स्वर रहित पद पाठ

    दिवः । न । सानु । पिप्युषी । धारा । सुतस्य । वेधसः । वृथा । पवित्रे अर्षति ॥ ९.१६.७

    ऋग्वेद - मण्डल » 9; सूक्त » 16; मन्त्र » 7
    अष्टक » 6; अध्याय » 8; वर्ग » 6; मन्त्र » 7
    Acknowledgment

    पदार्थ -
    (पवित्रे) उस पात्र में (पिप्युषी) तृप्ति करनेवाली (वेधसः सुतस्य धारा) माता के दूध की या सोमादि रस की धारा (वृथा अर्षति) वृषा ही गिरती है, जो इन्द्रियसंयमी नहीं है। जिस तरह (दिवः न सानु) अन्तरिक्ष से उन्नत शिखर पर मेघ की धारा गिरकर व्यर्थ ही हो जाती है ॥७॥

    भावार्थ - परमात्मा उपदेश करते हैं कि हे शूरवीर पुरुषों ! तुम संयमी बनो, इन्द्रियारामी मत बनो। इन्द्रियारामी पुरुषों में जो सोमादि रसों की धाराएँ पड़ती हैं, वे मानों इस प्रकार पडती हैं, जिस प्रकार चोटी के ऊपर पड़ता हुआ जल इधर-उधर बह जाता है और उसमें कोई विचित्र भाव उत्पन्न नहीं करता। इसी प्रकार असंयमियों का दुग्धादि रसों का उपभोग करना है। यहाँ चोटी पर जल गिरने के दृष्टान्त से परमात्मा ने स्पष्ट रीति से बोधन कर दिया कि जो पुरुष वीर्य ही का संयम नहीं करते, न वे धीर वीर बन सकते हैं, न वे ज्ञानी विज्ञानी व ध्यानी बन सकते हैं। उक्त सब प्रकार की पदवियों के लिये मनुष्य का संयमी बनना अत्यन्त आवश्यक है। इसी अभिप्राय से योगसूत्र में कहा है कि ‘ब्रह्मचर्यप्रतिष्ठायां वीर्यलाभः’ यो० साध० ३८। ब्रह्मचर्यप्रतिष्ठा अर्थात् इन्द्रियसंयमी बनने से पुरुष को वीर्य का लाभ होता है ॥७॥


    Bhashya Acknowledgment

    पदार्थः -
    (पवित्रे) तस्मिन् पात्रे (पिप्युषी) तर्पयित्री (वेधसः सुतस्य धारा) मातुर्दुग्धस्य धारा वा सोमादिरसानां धारा (वृथा अर्षति) वृथैव पतति यः तद्धारापात्ररूपो मनुष्यो संयमी न भवति यथा (दिवः न सानु) अन्तरिक्षात् पर्वतोपरि पतिता मेघधारा वृथैव भवति ॥७॥


    Bhashya Acknowledgment

    Meaning -
    Just as rain showers of heaven fall upon the mountain, so do the showers of soma fulfilment and omniscience distilled through meditation fall spontaneously upon the mind and soul of the man of purity and roll in the heart.


    Bhashya Acknowledgment

    भावार्थ - परमात्मा उपदेश करतो की हे शूर वीरांनो! तुम्ही संयमी बना इंद्रियरामी बनू नका. इंद्रियरामी माणसांमध्ये ज्या सोम इत्यादी रसाच्या धारा पडतात व जसे पर्वतशिखरावरून पडलेले पाणी इकडे तिकडे व्यर्थ वाहून जाते तसे असंयमी लोकांचे दुधाचा व इतर रसांचा उपभोग घेणे ही व्यर्थ जाते. येथे शिखरावरून पडणाऱ्या जलाच्या दृष्टांताने परमेश्वराने स्पष्ट रीतीने बोध केलेला आहे की जे पुरुष वीर्याचा संयम करत नाहीत ते धीर-वीर, ज्ञानी, विज्ञानी व ध्यानी बनू शकत नाहीत. वरील सर्व प्रकारच्या बाबींसाठी माणसाने संयमी बनणे अत्यंत आवश्यक आहे. या दृष्टीनेच योगदर्शनमध्ये म्हटलेले आहे की, ‘‘ब्रह्मचर्य प्रतिष्ठायां वीर्य-लाभ:’’ यो. साध. ३८ ब्रह्मचर्य प्रतिष्ठा अर्थात इंद्रिय संयमी बनण्याने पुरुषाला वीर्यलाभ होतो. ॥७॥


    Bhashya Acknowledgment
    Top