Loading...
ऋग्वेद मण्डल - 9 के सूक्त 22 के मन्त्र
1 2 3 4 5 6 7
मण्डल के आधार पर मन्त्र चुनें
अष्टक के आधार पर मन्त्र चुनें
  • ऋग्वेद का मुख्य पृष्ठ
  • ऋग्वेद - मण्डल 9/ सूक्त 22/ मन्त्र 5
    ऋषिः - असितः काश्यपो देवलो वा देवता - पवमानः सोमः छन्दः - निचृद्गायत्री स्वरः - षड्जः

    ए॒ते पृ॒ष्ठानि॒ रोद॑सोर्विप्र॒यन्तो॒ व्या॑नशुः । उ॒तेदमु॑त्त॒मं रज॑: ॥

    स्वर सहित पद पाठ

    ए॒ते । पृ॒ष्ठानि॑ । रोद॑सोः । वि॒ऽप्र॒यन्तः॑ । वि । आ॒न॒शुः॒ । उ॒त । इ॒दम् । उ॒त्ऽत॒मम् । रजः॑ ॥


    स्वर रहित मन्त्र

    एते पृष्ठानि रोदसोर्विप्रयन्तो व्यानशुः । उतेदमुत्तमं रज: ॥

    स्वर रहित पद पाठ

    एते । पृष्ठानि । रोदसोः । विऽप्रयन्तः । वि । आनशुः । उत । इदम् । उत्ऽतमम् । रजः ॥ ९.२२.५

    ऋग्वेद - मण्डल » 9; सूक्त » 22; मन्त्र » 5
    अष्टक » 6; अध्याय » 8; वर्ग » 12; मन्त्र » 5
    Acknowledgment

    संस्कृत (1)

    पदार्थः

    (एते) एतानि नक्षत्राणि (रोदसोः पृष्ठानि) द्यावापृथिव्योर्मध्यगतानि (विप्रयन्तः) गच्छन्ति सन्ति (इदम् उत्तमम् रजः) एतमुत्तमं रजोगुणं (उत व्यानशुः) व्याप्नुवन्ति ॥५॥

    इस भाष्य को एडिट करें

    हिन्दी (1)

    पदार्थ

    (एते) ये सब नक्षत्रादि (रोदसोः पृष्ठानि) पृथिवी और द्युलोक के मध्य में (विप्रयन्तः) चलते हुए (इदम् उत्तमम् रजः) इस उत्तम रजोगुण को (उत व्यानशुः) व्याप्त होते हैं ॥५॥

    भावार्थ

    उक्त ब्रह्माण्डों की विविध रचना में परमात्मा ने इस प्रकार का आकर्षण और विकर्षण उत्पन्न किया है, जिसमें एक दूसरे के आश्रित होकर प्रतिक्षण गतिशील बन रहे हैं। वा यों कहो कि सत्त्व रज और तम प्रकृति के ये तीनों गुण अर्थात् प्रकृति की ये तीनों अवस्थायें जिस प्रकार एक दूसरे का आश्रयण करती हैं, इस प्रकार एक दूसरे को आश्रयण करता हुआ प्रत्येक ब्रह्माण्ड इस नभोमण्डल में वायुवेग से उत्तेजित तृण के समान प्रतिक्षण चल रहा है, कोई स्थिर नहीं ॥५॥

    इस भाष्य को एडिट करें

    इंग्लिश (1)

    Meaning

    Pressing forward on the journey all round, they cross the regions of heaven and earth and then reach the highest pinnacle of light and space in existence.

    इस भाष्य को एडिट करें

    मराठी (1)

    भावार्थ

    ब्रह्मांडाच्या विविध रचनेत परमेश्वराने या प्रकारचे आकर्षण व विकर्षण उत्पन्न केलेले आहे. ज्यामध्ये एक दुसऱ्याचे आश्रित होऊन ते प्रतिक्षण गतिशील बनत आहेत किंवा असे म्हणता येईल की सत्त्व, रज, तम हे प्रकृतीचे तीन गुण अर्थात प्रकृतीच्या या तीन अवस्था ज्या प्रकारे एक दुसऱ्याचा आश्रय घेतात त्या प्रकारे एक दुसऱ्याचा आश्रय घेत प्रत्येक ब्रह्मांड या नभोमंडळात वायुवेगाने उत्तेजित तृणाप्रमाणे प्रतिक्षण चालत आहे. कोणी स्थिर नाही. ॥५॥

    इस भाष्य को एडिट करें
    Top