Loading...
यजुर्वेद अध्याय - 3

मन्त्र चुनें

  • यजुर्वेद का मुख्य पृष्ठ
  • यजुर्वेद - अध्याय 3/ मन्त्र 17
    ऋषिः - अवत्सार ऋषिः देवता - अग्निर्देवता छन्दः - त्रिष्टुप्, स्वरः - धैवतः
    214

    त॒नू॒पाऽअ॑ग्नेऽसि त॒न्वं मे पाह्यायु॑र्दाऽअ॑ग्ने॒ऽस्यायु॑र्मे देहि वर्चो॒दाऽअ॑ग्नेऽसि॒ वर्चो॑ मे देहि। अग्ने॒ यन्मे॑ त॒न्वाऽऊ॒नं तन्म॒ऽआपृ॑ण॥१७॥

    स्वर सहित पद पाठ

    त॒नू॒पा इति॑ तनू॒ऽपाः। अ॒ग्ने॒। अ॒सि॒। त॒न्व᳖म्। मे॒। पा॒हि॒। आ॒यु॒र्दा इत्यायुः॒दाः। अ॒ग्ने॒। अ॒सि॒। आयुः॑। मे॒। दे॒हि॒। व॒र्च्चो॒दा इति॑ वर्च्चः॒ऽदाः। अ॒ग्ने॒। अ॒सि॒। वर्च्चः॑। मे॒। दे॒हि॒। अग्ने॑। यत्। मे॒। त॒न्वाः᳖ ऊ॒नम्। तत्। मे॒। आ। पृ॒ण॒ ॥१७॥


    स्वर रहित मन्त्र

    तनूपाऽअग्नेसि तन्वम्मे पाह्यायुर्दा अग्ने स्यायुर्मे देहि वर्चादाऽअग्ने सि वर्चा मे देहि । अग्ने यन्मे तन्वाऽऊनन्तन्मे आ पृण ॥


    स्वर रहित पद पाठ

    तनूपा इति तनूऽपाः। अग्ने। असि। तन्वम्। मे। पाहि। आयुर्दा इत्यायुःदाः। अग्ने। असि। आयुः। मे। देहि। वर्च्चोदा इति वर्च्चःऽदाः। अग्ने। असि। वर्च्चः। मे। देहि। अग्ने। यत्। मे। तन्वाः ऊनम्। तत्। मे। आ। पृण॥१७॥

    यजुर्वेद - अध्याय » 3; मन्त्र » 17
    Acknowledgment

    संस्कृत (2)

    विषयः

    अथैश्वरभौतिकौ किं कुरुत इत्युपदिश्यते॥

    अन्वयः

    हे अग्ने जगदीश्वर! यद्यस्मात् त्वं तनूपा असि, तत् तस्मान्मे मम तन्वं पाहि। हे अग्ने! यद्यस्मात् त्वमायुर्दा असि, तत् तस्मान्मे मह्यं पूर्णमायुर्देहि। हे अग्ने! यद्यस्मात् त्वं वर्च्चोदा असि, तत् तस्मान्मे मह्यं वर्चः पूर्णविद्यां देहि। हे अग्ने! मे मम तन्वा यद्यावदूनं बुद्धिबलशौर्यादिकमपर्याप्तमस्ति तत् तावदापृण समन्तात् प्रपूरयेत्येकः॥१७॥ अयमग्निर्यद्यस्मात् तनूपा अस्ति, तत् तस्मान्मे मम जाठररूपेण तन्वं पाति। यद्यस्मादयमग्निरायुर्दा आयुर्निमित्तमस्ति, तत् तस्मान्मे मह्यमायुर्ददाति। यद्यस्मादयमग्निर्वर्च्चोदा अस्ति, तत् तस्माद् वर्च्चो दीप्तिं ददाति। अयमग्निर्यद्यावन्मे मम तन्वा ऊनमपर्याप्तं तत् तावत् समन्तात् प्रपूरयतीति द्वितीयः॥१७॥

    पदार्थः

    (तनूपाः) यस्तनूः सर्वपदार्थदेहान् पाति रक्षति स जगदीश्वरः, पालनहेतुर्भौतिको वा। (अग्ने) सर्वाभिरक्षकेश्वर, रक्षाहेतुर्भौतिको वा। (असि) अस्ति वा। अत्र सर्वत्र पक्षे व्यत्ययः। (तन्वम्) शरीरम्। अत्र वाच्छन्दसि [अष्टा॰६.१.१०६] इत्यमिपूर्व इत्यत्रानुवर्तनात् पूर्वरूपादेशो न भवति। (मे) मम (पाहि) पाति वा (आयुर्दाः) आयुःप्रदः (असि) भवति वा (आयुः) जीवनम् (मे) मह्यम् (देहि) ददाति वा (वर्च्चोदाः) यो वर्च्चो विज्ञानं ददातीति तत्प्राप्तिहेतुर्वा (अग्ने) सर्वविद्यामयेश्वर विद्याहेतुर्वा (असि) भवति वा (वर्च्चः) विद्याप्राप्तिं दीप्तिं वा (मे) मह्यम् (देहि) ददाति वा (अग्ने) कामानां प्रपूरकेश्वर, कामपूर्तिहेतुर्वा (यत्) यावद्यस्माद्वा (मे) मम (तन्वाः) अन्तःकरणाख्यस्य बाह्यस्य शरीरस्य वा (ऊनम्) अपर्याप्तम् (तत्) तावत् तस्माद्वा (मे) मम (आ) समन्तात् (पृण) पूरयति वा। अयं मन्त्रः (शत॰२.३.४.१९-२०) व्याख्यातः॥१७॥

    भावार्थः

    अत्र श्लेषालङ्कारः। परमेश्वरेणास्मिञ्जगति यतः सर्वेभ्यः प्राणिभ्यः शरीरायुर्निमित्तविद्याप्रकाश-सर्वाङ्गपूर्तिर्निर्मिता, तस्मात् सर्वे पदार्थाः स्वस्वरूपं धारयन्ति। तथैवास्य सृष्टौ प्रकाशादिगुणवत्त्वादयमग्निरेतेषां मुख्यः साधकोऽस्तीति सर्वैर्वेदितव्यम्॥१७॥

    इस भाष्य को एडिट करें

    विषयः

    अथेश्वरभौतिकौ किं कुरुत इत्युपदिश्यते ॥

    सपदार्थान्वयः

     हे अग्ने=जगदीश्वर ! सर्वाभिरक्षकेश्वर ! यद्=यस्मात्त्वं तनूपाः यस्तनूः=सर्वपदार्थदेहान्  पाति=रक्षति स जगदीश्वरः असि, तत्=तस्मात् मे=मम  तन्वं शरीरं पाहि

      हे अग्ने ! यद्=यस्मात्त्वमायुर्दाःआयुः प्रदःअसि, तत्=तस्मात् (मे) मह्यम् [आयुः] पूर्णमायुः जीवनं देहि ।

    हे अग्ने! सर्वविद्यामयेश्वर ! यत्=यस्मात्त्वं वर्च्चोदाः यो वर्च्चो=विज्ञानं ददातीति असि, तत्=तस्मात् मे=मह्यं वर्च:=पूर्णविद्यां विद्याप्राप्तिं देहि ।

    हे अग्ने! कामानां प्रपूरकेश्वर! मे=मम तन्वाः अन्तःकरणाख्यस्य शरीरस्य यद्=यावद्  ऊनम्=बुद्धिबलशौर्यादिकमपर्याप्तमास्ति, तत्=तावद् आपृण=समन्तात् प्रपूरयेत्येकः ॥

    अयम् [अग्ने]=अग्निः, रक्षाहेतुभौतिकः यद्=यस्मात् तनूपाः पालनहेतुभौतिक: [असि] अस्ति, तत्=तस्मात् मे=मम जाठररूपेण तन्वं शरीरं पाति ।

    यद्=यस्माद् अयम् [अग्ने]=अग्निः आयुर्दा:=आयुर्निमित्तम् [असि[ भवति तत्=तस्मात् मे=मह्यमायुर्ददाति।

    यद्=यस्माद् [अग्ने] अग्निर्वर्चोदाः विज्ञानप्राप्तिहेतुः=[असि]=अस्ति तत्=तस्माद् वर्च्चः=दीप्तिं ददाति

    अयम् [अग्ने] अग्निः कामपूर्तिहेतुभौतिकः यद्=यावन्मे=मम   तन्वा: बाह्यस्यशरीरस्य ऊनम्=अपर्याप्तं, तत्=तावद् आपृण=समन्तात्पूरयतीति द्वितीयः ॥ ३ ॥ १७ ॥

    [हे अग्ने=जगदीश्वर ! त्वं तनूपा असि...मे=मम तन्वं पाहि, आयुर्दा असि....मह्यम् [आयुः] पूर्णमायुर्देहि, वर्चोदा असि, --मे=मह्यं वर्चः=पूर्णविद्यां देहि, मे=मम तन्वा यद्=यावदूनं....तावदापृण=समन्तात्प्रपूरय ]

    पदार्थः

    (तनूपाः) यस्तनूः=सर्वपदार्थदेहान्पाति=रक्षति स जगदीश्वरः, पालनहेतुर्भौतिको वा (अग्ने) सर्वाभिरक्षकेश्वर, रक्षाहेतुर्भौतिको वा (असि) अस्ति वा ।अत्र सर्वत्र पक्षे व्यत्ययः (तन्वम्) शरीरम् । अत्र वाच्छन्दसत्यमिपूर्वं इत्यत्रानुवर्तनात्पूर्वरूपादेशो न भवति (मे) मम (पाहि) पाति वा (आयुर्दा:)युः प्रदः अग्ने (असि) भवति वा (आयु:) जीवनम् (मे) मह्यम् (देहि) ददाति वा (वर्च्चोदा:) यो वर्च्चो=विज्ञानं ददातीति तत्प्राप्तिहेतुर्वा (अग्ने) सर्वविद्यामयेश्वर विद्याहेतुर्वा (असि) भवति वा (वर्च्चः) विद्याप्राप्तिं दीप्तिं वा (मे) मह्यम् (देहि) ददाति वा (अग्ने) कामानां प्रपूरकेश्वरकामपूर्तिहेतुर्वा (यत्) यावद्यस्माद्वा (मे) मम (तन्वाः) अंतःकरणाख्यस्य बाह्यस्य शरीरस्य वा (ऊनम्) अपर्याप्तम् (तत्) तावत्तस्माद्वा (मे) मम (आ) समन्तात् (पृण) पूरयति वा ॥ अयं मंत्रः शत० २।३।२।१९-२० व्याख्यातः ।। १७ ।।

    भावार्थः

    भावार्थ:-- अत्र श्लेषालङ्कारः॥ परमेश्वरेणास्मिञ्जगति यतः सर्वेभ्यः प्राणिभ्यः शरीरायुर्निमित्तविद्याप्रकाश सर्वाङ्गपूर्तिर्निमित्ता, तस्मात् सर्वे पदार्थाः स्वस्वरूपं धारयन्ति,

    [अयम् [अग्ने]=अग्निः तनूपा: [असि]=अस्ति...]

    तथैवास्य सृष्टौ प्रकाशादिगुणवत्त्वादयमग्निरेतेषां मुख्यः साधकोऽस्तीति सर्वैर्वेदितव्यम् ॥ ३ । १७ ।।

    विशेषः

    अवत्सारः । अग्निः=[ईश्वर और भौतिक अग्नि]। त्रिष्टुप् । धैवतः ।।

    इस भाष्य को एडिट करें

    हिन्दी (7)

    विषय

    अब ईश्वर और भौतिक अग्नि क्या करते हैं, इस विषय का उपदेश अगले मन्त्र में किया है।

    पदार्थ

    हे (अग्ने) जगदीश्वर! (यत्) जिस कारण आप (तनूपाः) सब मूर्तिमान् पदार्थों के शरीरों की रक्षा करने वाले (असि) हैं इससे आप (मे) मेरे (तन्वम्) शरीर की (पाहि) रक्षा कीजिये। हे (अग्ने) परमेश्वर! आप (आयुर्दाः) सब को आयु के देने वाले (असि) हैं, वैसे (मे) मेरे लिये (आयुः) पूर्ण आयु अर्थात् सौ वर्ष तक जीवन (देहि) दीजिये। हे (अग्ने) सर्वविद्यामय ईश्वर! जैसे आप (वर्च्चोदाः) सब मनुष्यों को विज्ञान देने वाले (असि) हैं, वैसे (मे) मेरे लिये भी ठीक-ठीक गुण ज्ञानपूर्वक (वर्च्चः) पूर्ण विद्या को (देहि) दीजिये। हे (अग्ने) सब कामों को पूरण करने वाले परमेश्वर! (मे) मेरे (तन्वाः) शरीर में (यत्) जितना (ऊनम्) बुद्धि बल और शौर्य आदि गुण कर्म हैं (तत्) उतना अङ्ग (मे) मेरा (आपृण) अच्छे प्रकार पूरण कीजिये॥१॥१७॥ (अग्ने) यह भौतिक अग्नि (यत्) जैसे (तनूपाः) पदार्थों की रक्षा का हेतु (असि) है, वैसे जाठराग्नि रूप से (मे) मेरे (तन्वम्) शरीर की (पाहि) रक्षा करता है (अग्ने) जैसे ज्ञान का निमित्त यह अग्नि (आयुर्दाः) सब के जीवन का हेतु (असि) है वैसे (मे) मेरे लिये भी (आयुः) जीवन के हेतु क्षुधा आदि गुणों को (देहि) देता है। (अग्ने) यह अग्नि जैसे (वर्च्चोदाः) विज्ञानप्राप्ति का हेतु (असि) है, वैसे (मे) मेरे लिये भी (वर्च्चः) विद्याप्राप्ति के निमित्त बुद्धिबलादि को (देहि) देता है तथा (अग्ने) जो कामना के पूरण करने में हेतु भौतिक अग्नि है, वह (यत्) जितना (मे) मेरे (तन्वाः) शरीर में बुद्धि आदि सामर्थ्य (ऊनम्) कम है (तत्) उतना गुण (आपृण) पूरण करता है॥२॥१७॥

    भावार्थ

    इस मन्त्र में श्लेषालङ्कार है। जिस कारण परमेश्वर ने इस संसार में सब प्राणियों के लिये शरीर के आयुनिमित्त विद्या का प्रकाश और सब अङ्गों की पूर्णता रची है, इसी से सब पदार्थ अपने-अपने स्वरूप को धारण करते हैं। इसी प्रकार परमेश्वर की सृष्टि में प्रकाश आदि गुणवान् होने से यह अग्नि भी सब पदार्थों के पालन का मुख्य साधन है॥१७॥

    इस भाष्य को एडिट करें

    विषय

    अवत्सार की प्रार्थना

    पदार्थ

    ‘अवत्सार’ प्रभु से प्रार्थना करता है— १. हे ( अग्ने ) = हमारी उन्नति के साधक प्रभो! ( तनूपा असि ) = आप हमारे शरीरों के रक्षक हो, अतः ( मे ) = मेरे ( तन्वम् ) = शरीर को ( पाहि ) = सुरक्षित कीजिए। आपके दिये गये वेदज्ञान से मैं अपने शरीर को रोगों से बचा सकूँगा। 

    २. ( आयुर्दा असि ) = आप दीर्घजीवन देनेवाले हैं। ( अग्ने ) = हे अग्रेणी प्रभो! ( मे ) = मुझे ( आयुः ) = दीर्घजीवन ( देहि ) = दीजिए। आपका यह वेदज्ञान मुझे उस मार्ग पर ले-चले जिससे मैं दीर्घकाल तक जीनेवाला बनूँ। 

    ३. हे ( अग्ने ) = अग्रगति के साधक प्रभो! ( वर्चोदा असि ) = आप वर्चस् के देनेवाले हैं, ( मे ) = मुझे ( वर्चः ) = वर्चस् ( देहि ) = दीजिए। इस नीरोग दीर्घजीवन में मैं ब्रह्मवर्चस् को प्राप्त करके आपके समीप पहुँचनेवाला बनूँ। 

    ४. हे ( अग्ने ) = मुझे आगे और आगे ले-चलनेवाले प्रभो! ( यत् ) = जो भी ( मे ) = मेरे ( तन्वा ऊनम् ) = शरीर की न्यूनता है ( मे ) = मेरी ( तत् ) = उस न्यूनता को ( आपृण ) = दूर कर दीजिए [ समन्तात् प्रपूरण—द० ]।

    भावार्थ

    भावार्थ — हम अपनी वीर्यशक्ति के द्वारा शरीर की सब न्यूनताओं को दूर करनेवाले हों। सब कमियों को दूर करके प्रभु को प्राप्त करने में क्षम हों।

    इस भाष्य को एडिट करें

    विषय

    अब ईश्वर और भौतिक अग्नि क्या करते हैं, इस विषय का उपदेश किया जाता है ।

    भाषार्थ

    हे (अग्ने) सबके रक्षक जगदीश्वर! (यत्) क्योंकि आप (तनूपाः) सब पदार्थों के शरीरों की रक्षा करने वाले (असि) हो, (तत्) इसलिए (मे) मेरे (तन्वम्) शरीर की (पाहि) रक्षा करो ।

      हे (अग्ने) जगदीश्वर! (यत्) क्योंकि आप (आयुर्दा:) आयु प्रदान करने वाले ( असि) हो, (तत्) इसलिए (मे) मुझे (आयु) पूर्ण आयु एवं जीवन (देहि) प्रदान कीजिये ।

    हे (अग्ने) सर्वविद्यामय ईश्वर ! (यत्) क्योंकि आप (वर्चोदा:) विज्ञान के देने वाले (असि) हैं, (तत्) इसलिये (मे) मुझे (वर्चः) पूर्णविद्या (देहि) प्रदान कीजिये ।

    हे (अग्ने) कामनाओं को पूर्ण करने वाले ईश्वर (मे) मेरे (तन्वाः) अन्तःकरण नामक शरीर में (यत्) जितनी (ऊनम् ) बुद्धि, बल, शौर्य आदि की कमी है, (तत्) उस सबको (पृरण) चहुँ ओर से पूरा करो। यह मन्त्र का पहला अर्थ है ।

    यह (अग्ने) रक्षा का निमित्त भौतिक अग्नि (यत्) सब पदार्थों के शरीर की पालना का निमित्त (असि) है, (तत्) इसलिये (मे) मेरी जाठर अग्नि रूप से शरीर की रक्षा करता है।

    (यत्) क्योंकि यह (अग्ने) भौतिक अग्नि (आयुर्दा:) आयु का निमित्त (असि) है (तत्) इसलिये (मे) मुझे (आयुः) प्रदान करता है।

    (यत्) क्योंकि यह (अग्ने) अग्नि (वर्चोदाः) विज्ञान-प्राप्ति का निमित्त (असि) है, (तत्) इसलिये (वर्चः) दीप्ति प्रदान करता है।

     यह (अग्ने) कामना पूर्ति का निमित्त भौतिक अग्नि (यत्) जितनी (मम) मेरे (तन्वाः) बाह्य शरीर में (ऊनम् ) कमी है (तत्) उसे (प्राण) चहुँ ओर से पूर्ण करता है। यह मन्त्र का दूसरा अर्थ है ।। ३ । १७ ।।

    भावार्थ

    इस मन्त्र में श्लेष अलङ्कार है ॥ परमेश्वर ने इस जगत् में जिससे सब प्राणियों के लिये शरीर, आयु का निमित्त, विद्या का प्रकाश एवं सर्वाङ्गपूर्त्ति को रचा है, इसलिये सब पदार्थ अपने स्वरूप को धारण कर रहे हैं।

    वैसे ही--इस परमेश्वर की सृष्टि में प्रकाश आदि गुणों वाला होने से यह अग्नि इनका मुख्य साधक है, ऐसा सबको जानना योग्य है ।। ३ । १७ ।।

    प्रमाणार्थ

    (असि) अस्ति वा। यहाँपक्ष में सर्वत्र व्यत्य है। (तन्वम्) यहाँ'वा छन्दसि [अ० ६ । १ । १०2 ] सूत्र की 'अपूर्वः' [६ । १ । १०६] सूत्र तक अनुवृत्ति आने से पूर्वरूप एकादेश नहीं है। इस मन्त्र की व्याख्या शत० (२ । ३ । २ । १९-२०) में की गई है । ३ । १७ ।।

    भाष्यसार

    १. अग्नि (ईश्वर)–अग्नि अर्थात् जगदीश्वर सब पदार्थों के शरीरों का रक्षक है। वह मेरे शरीर की भी रक्षा करता है, सबको आयु का देने वाला है, मुझे भी पूर्ण आयु प्रदान करता है। सबको विज्ञान का देने वाला है, मुझे भी पूर्ण विद्या देता है। वही मेरे अन्तःकरण में बुद्धि, बल, शौर्य आदि की न्यूनता को पूरा करता है। ईश्वर शरीर का रक्षक, आयु का दाता, विद्या का प्रकाशक, और न्यूनता का पूरक है। इसीलिये जगत् के सब पदार्थ अपने-अपने स्वरूप को धारण कर रहे हैं ।

    २. अग्नि (भौतिक)—यह भौतिक अग्नि शरीर की रक्षा का हेतु है, जाठराग्नि के रूप में शरीर की रक्षा करता है, यह आयु का भी निमित्त है। इसलिये आयु प्रदान करता है। यह अग्नि विज्ञान का निमित्त है, विज्ञान की सहायता से दीप्ति प्रदान करता है। यह कामनाओं का पूरक है, अतः बाह्य शरीर की न्यूनताओं को पूरा करता है। शरीर के रक्षा आदि कार्यों में यह भौतिक अग्नि मुख्य साधन है ।।

     ३. अग्नि शब्द के अर्थ–सबका रक्षक, सर्व विद्यामय, कामनाओं का पूरक ईश्वर । रक्षा हेतु तथा कामना-पूर्ति का हेतु भौतिक अग्नि ।

    ४. अलङ्कार--यहाँ श्लेष अलङ्कार होने से अग्नि शब्द के ईश्वर और भौतिक अग्नि अर्थ ग्रहण किये जाते हैं ।।

    अन्यत्र व्याख्यात

    महर्षि ने इस मन्त्र की व्याख्या आर्याविभिविनय ( २ । ३३ ) में इस प्रकार की है—" हे सर्वरक्षकेश्वराग्ने! तू हमारे शरीर का रक्षक है। सो शरीर को कृपा से पालन कर। हे महावैद्य ! आप आयु (उमर) बढ़ाने वाले हो, मुझ को सुखरूप उत्तमायु दीजिए। हे अनन्तविद्या तेजयुक्त ! आप "वर्च:" विद्यादि तेज अर्थात् यथार्थ विज्ञान देने वाले हो, मुझको सर्वोत्कृष्ट विद्यादि तेज देओ । पूर्वोक्त शरीरादि की रक्षा से हमको सदा आनन्द में रखो और जो-जो शरीरादि में "ऊनम्" न्यून हो, उस उसको कृपा दृष्टि से सुख और ऐश्वर्य के साथ सब प्रकार से आप पूर्ण करो। किसी आनन्द वा श्रेष्ठ पदार्थ की न्यूनता हमको न रहे। आपके पुत्र हम लोग जब पूर्णानन्द में रहेंगे, तभी आप पिता की शोभा है। क्योंकि लड़के लोग छोटी वा बड़ी चीज अथवा सुख पिता माता को छोड़ किससे माँगें ? सो आप सर्वशक्तिमान् हमारे पिता सब ऐश्वर्य तथा सुख देने वालों में पूर्ण हो" ।। २ । ३३ ।।

    इस भाष्य को एडिट करें

    पदार्थ


    पदार्थ = हे ( अग्ने ) = ज्ञानस्वरूप परमात्मन् ! आप  ( तनूपा असि ) = हमारे शरीरों की रक्षा करने हारे हैं, ( मे तन्वम् ) = मेरे शरीर की  ( पाहि ) = रक्षा करो। हे  ( अग्ने ) =  परमेश्वर ! ( आयुर्दा असि ) = आप वायु-जीवन के दाता हो, ( मे आयुः देहि ) = मुझे जीवन प्रदान करो। हे ( अग्ने ) = पूज्य प्रभो! ( वर्चोदाः असि ) = आप तेजदाता हैं  ( मे ) = मुझे  ( वर्चः देहि ) = तेज प्रदान करें। हे  ( अग्ने ) = परमेश्वर  ( यत् मे तन्वा  ) = जो मेरे शरीर में  ( ऊनम् ) = न्यूनता हो  ( मे ) = मेरी, ( तत् ) = उस न्यूनता को  ( आपृण ) = पूर्ण कर दो ।

    भावार्थ

    भावार्थ = हे सर्वरक्षक जगदीश !आप सबके शरीरों की रक्षा करनेवाले और आयु प्रदान करनेवाले हैं,  अत: आपके पुत्र जो हम हैं, इनकी रक्षा करते हुए लंबी आयुवाला बनओ । हम पाप और दुराचारों में  फँसकर कभी नष्ट भ्रष्ट न हों।  दयामय  भगवन् ! अविद्या आदि दोषों को दूर करनेवाला वर्चस् जो ब्रहातेज है, उसके दाता भी आप ही हो, हमें भी वह तेज प्रदान करो, जिससे हम अपना  और अपने स्नेहियों का कल्याण कर सकें। भगवन् !आप सर्वगुण सम्पन्न हो, हमारी न्यूनता दूर करके हमें अनेक शुभ गुण सम्पन्न करो, ऐसी हमारी नम्र प्रार्थना को स्वीकार करें ।

    इस भाष्य को एडिट करें

    विषय

    प्रार्थनाविषयः

    व्याखान

    हे (अग्ने) सर्वरक्षकेश्वराग्ने ! तू (तनूपा असि) हमारे शरीर का रक्षक है। सो (मे तन्वं पाहि) मेरे शरीर का कृपा से पालन कर, हे महावैद्य ! आप (आयुर्दा असि) आयु (उम्र) बढ़ानेवाले तथा रक्षक हो, (मे) मुझको सुखरूप (आयुः धेहि) उत्तमायु दीजिए। हे अनन्त विद्यातेजयुक्त! आप (वर्च:) विद्यादि तेज, अर्थात् यथार्थ विज्ञान देनेवाले हो, (वर्चः मे देहि) मुझको सर्वोत्कृष्ट विद्यादि तेज देओ । पूर्वोक्त शरीरादि की रक्षा से हमको सदा आनन्द में रक्खो और (अग्ने यत् मे तन्वा) सर्वोन्नति-साधक प्रभो ! जो-जो कुछ भी मेरे शरीरादि में (ऊनम्) न्यूनता हो, (तत्) उस-उस (मे) मेरी न्यूनता को आप कृपादृष्टि से सुख और ऐश्वर्य के साथ सब प्रकार से (आपृण) पूर्ण करो। किसी आनन्द वा श्रेष्ठ पदार्थ की न्यूनता हमको न रहे। आपके पुत्र हम लोग जब पूर्णानन्द में रहेंगे तभी आप पिता की शोभा है, क्योंकि लड़के-लोग छोटी-बड़ी चीज अथवा सुख पितामाता को छोड़ किससे माँगे ? सो आप सर्वशक्तिमान् हमारे पिता, सब ऐश्वर्य तथा सुख देनेवालों में पूर्ण हो ॥ ३३ ॥

    इस भाष्य को एडिट करें

    विषय

    आयु की याचना।

    भावार्थ

    हे ( अग्ने ) अग्ने ! परमेश्वर ! तू ( तनूपा: असि ) हमारे शरीरों की रक्षा करनेहारा है। तू ( मे) मेरे ( तन्वम् ) शरीर की ( पाहि ) रक्षा कर । हे ( अग्ने ) अग्ने ! ( आयुर्दा : असि ) तू आयुष् जीवन का देने वाला है ( मे आयुः देहि ) मुझे आयु प्रदान कर । हे ( अग्ने ) अग्ने ( वर्चोदाः असि ) तू वर्चस् तेजको देने वाला है तू ( मे वर्च: देहि ) मुझे तेज का प्रदान कर ( यत् मे तन्वः ) और जो मेरे शरीर में ( ऊनं ) न्यूनता हो (मे) मेरी ( तत् ) उस न्यूनता को (आपॄण) पूर्ण कर । शरीररक्षक, जीवनरक्षक, बल, तेज के दाता, राजा से भी ऐसी प्रार्थना सम्भव है । वह हमारे शरीर की न्यून बल की पूर्ति अपनी सद् व्यवस्था से करे । निर्बलों का बल राजा है ॥ शत० २ । ३ । ४ । १७-२० ॥
     

    टिप्पणी

    १७- १७-१९ अवत्सार ऋषिः । द० ॥ 

    ऋषि | देवता | छन्द | स्वर

    अग्निदेवताः । त्रिष्टुप् । धैवतः ॥

    इस भाष्य को एडिट करें

    विषय

    त्रुटि की पूर्णता

    शब्दार्थ

    हे (अग्ने) परमेश्वर ! तू (तनूपा: असि) हमारे शरीरों का रक्षक है अतः तू (मे तन्वम्) मेरे शरीर की (पाहि) रक्षा कर । (अग्ने) हे परमात्मन् ! तू (आयुर्दा: असि) दीर्घायु, दीर्घ-जीवन का प्रदाता है (मे आयु: देहि) मुझे भी सुदीर्घ जीवन प्रदान कर । (अग्ने) हे प्रभो ! तू (वर्चोदा: असि) तेज और कान्ति देनेवाला है (मे वर्च: देहि) मुझे भी तेज और कान्ति प्रदान कर । (अग्ने) हे ईश्वर ! (मे तन्व:) मेरे शरीर में (यत् ऊनम्) जो न्यूनता, कमी, त्रुटि है (मे तत्) मेरी उस न्यूनता को (आ‌ पृण) पूर्ण कर दे ।

    भावार्थ

    १. प्रभो ! आप प्राणिमात्र के शरीरों की रक्षा करने वाले हो, अतः मेरे शरीर की भी रक्षा करो । २. आप दीर्घ-जीवन के प्रदाता हैं, मुझे भी दीर्घ जीवन से युक्त कीजिए । ३.आप तेज, ओज, शक्ति और कान्ति प्रदान करनेवाले हैं,मुझे भी तेज, ओज, शक्ति और कान्ति प्रदान कीजिए । ४. प्रभो ! अपनी न्यूनताओं को कहाँ तक गिनाऊँ और क्या-क्या माँगूँ ! ठीक बात तो यह है कि मुझे अपनी न्यूनताओं का भी ज्ञान नहीं है। मेरे जीवन में किस वस्तु की कमी है, मुझे किस वस्तु की आवश्यकता है, इसे तो आप ही अच्छी प्रकार जानते हैं, अतः मैं तो यही प्रार्थना करूँगा भगवन् ! मेरे जीवन में जो न्यूनता, कमी और त्रुटि है आप उसे पूर्ण कर दें ।

    इस भाष्य को एडिट करें

    मराठी (3)

    भावार्थ

    या मंत्रात श्लेषालंकार आहे. ज्या कारणामुळे परमेश्वराने या जगात सर्व प्राण्यांना सर्वांगपूर्ण शरीर व आयुष्य देऊन त्यासंबंधी ज्ञानही दिलेले आहे. त्यामुळेच सर्व पदार्थ आपापले स्वरूप धारण करतात तसेच परमेश्वराने या सृष्टीत प्रकाशस्वरूप अग्नीलाही सर्व पदार्थांचे पालन करण्याचे साधन म्हणून निर्माण केलेले आहे.

    इस भाष्य को एडिट करें

    विषय

    ईश्‍वर व भौतिक अग्नी काय करतात, या विषयी पुढील मंत्रात सांगितले आहे -

    शब्दार्थ

    शब्दार्थ - हे (अग्ने) जगदीश्‍वर, (यत्) ज्याअर्थी तूच (तनूपा:) सर्व मूर्त पदार्थांच्या शरिराचा रक्षक (असि) आहेस, त्या अर्थी तुला मी प्रार्थना करतो की (मे) तू माझ्या (तन्वम्) शरिराचे ही रक्षण कर. हे (अग्ने) परमेश्‍वरा, तूच (आयुर्दा:) सर्वांना जीवन देणारा (असि) आहेस. (मे) मला (आयु:) पूर्ण आयु म्हणजे शंभर वर्षार्यंत आयुष्य (देट्टि) दे. हे (अग्ने) सर्वविद्यामय परमेश्‍वरा, तू (वर्वोदा:) सर्व मनुष्यांना विज्ञान (विशेषज्ञान) देणारा (असि) आहेस. (मे) मला देखील सद्गुणांचे व पदार्थाचे ज्ञान देणारी (वर्च:) पूर्ण विद्या (देहि) दे. हे (अग्ने) सर्व प्रार्थित कार्याची पूर्ती करणार्‍या परमेश्‍वरा, (मे) माझ्या (तन्वा:) देहामधे (यत्) जितकी जेवढी (उनम्) बुद्धी शक्ती आणि शौर्यादी गुणांची उणीव आहे, (तत्) ती तेवढी (मे) माझ्या शरीरात (आपृण) भरून वाढ (माझ्यात बुद्धी शक्तीच्या दृष्ट्या पूर्णत्व येऊ दे) ॥1॥ दुसरा अग्नीपरक अर्थ असा - (अग्ने) हा भौतिक अग्नी (यत्) ज्याप्रमाणे (तनूपा:) पदार्थांच्या सुरक्षेचा हेतू (असि) आहे, त्याप्रमाणे, हाच अग्नी माझ्यातील जाठराग्नीरूपाने (मे) माझ्या (तन्वम्) शरीराचे रक्षण करतो. (अग्ने) ज्याप्रमाणे ज्ञानाचे कारण असलेला हा अग्नी (आयुर्दा:) सर्वांच्या जीवनाचे कारण (असि) आहे, त्याप्रमाणे अग्नी (मे) माझ्यासाठी सुद्धा (आयु:) जीवनाचे हेतू जे भूक आदी गुण आहेत, ते गुण (देहि) मला देतो. (अग्ने) हा अग्नी (वर्च्चोदा:) विज्ञानप्राप्तीचा हेतू (अग्नी) आहे, हा (मे) मला देखिल (वर्च्च:) विद्या प्राप्त करण्याकरिता बुद्धी आणि बळ (देहि) देतो. अग्नी) कामना पूर्ण करण्यास समर्थ असा जो हा भौतिक अग्नी आहे, तो (यत्) जितके जेवढे (मे) माझ्या (तन्वा:) शरीरात बुद्धी आदींचे सामर्थ्य (ऊनम्) कमी आहे, (तत्) तितके तेवढे सामर्थ्यादी गुण मला देऊन (आपृण) माझ्यातील अपूर्णत्वास पूर्ण करतो. ॥2॥ ॥17॥

    भावार्थ

    भावार्थ - या मंत्रात श्‍लेषालंकार आहे. परमेश्‍वराचे या संसारात सर्व प्राण्यांना शरीर रक्षण व जीवन-पोषणाच्या दृष्टीने विद्यांचे ज्ञान दिले आहे आणि शरिरातील अंग-अवयवांना शक्ती व पूर्णत्व दिले आहे. यामुळेच सर्व पदार्थ प्राण्यासाठी आपले स्वरूप आणि गुणांना धारण करतात (समर्थ व पूर्ण अंगांनी पदार्थातील गुणांचा लाभ पाण्यांना घेता येईल, अशी पदार्थांची रचना आहे) त्याचप्रमाणे परमेश्‍वर रचित या सृष्टीत अग्नी हा आपल्या प्रकाशादी गुणांमुळे सर्व पदार्थांच्या पालन, अस्तित्वादीचे प्रमुख साधन आहे. ॥17॥

    इस भाष्य को एडिट करें

    विषय

    प्रार्थना

    व्याखान

    हे सर्व रक्षक अग्नीकृपा ईश्वरा ! तू आमच्या शरीराचा रक्षक आहेस म्हणून आमच्या शरीराचे रक्षण कर, पालन कर. हे महावैद्या ! तू आयुष्य वाढविणारा आहेस म्हणून सुखाने जगावे असे आयुष्य तू मला दे. (वर्चः) हे अनंत विद्या व तेजयुक्त ईश्वरा तू विद्येचा दाता व तेजस्वी असा आहेस, यथार्थ विज्ञान देणारा आहेस मला सर्वोत्कृष्ट विद्या व तेज दे. पूर्वोक्त शरीराचे रक्षण कलन आम्हाला सदैव आनंदात ठेव. (ऊनम्) आमच्या [शरीरात] मध्ये जे जे कमी असेत त्या त्या गोष्टींची पूर्तता करून सुख व ऐश्वर्य देण्याची कृपा कर. कोणत्याही श्रेष्ठ वस्तूंची कमतरता आम्हला भासू नये किंवा आमचा आनंदही कधी नष्ट होऊ देऊ नये. आम्ही तुझे पुत्र जेव्हा आनंदात राहू तेव्हाच पिता म्हणून तुझे महत्व राहील. पुत्रांनी लहानमोठ्या वस्तूंची मागणी आपल्या मातापित्यांजवळ करू नये तर कुणाकडे करावी ? तू सर्वशक्तिमान असा आमचा पिता असून सर्व प्रकारचे ऐश्वर्य व सुख देणारा आहेस. ॥३३

    इस भाष्य को एडिट करें

    इंग्लिश (4)

    Meaning

    Thou. God, art our bodies’ protector. Protect Thou my body. Giver of longevity art Thou, O God, Give me longevity. Giver of splendour art Thou, O God, Give me splendour. Remove, O God, all the defects of my body and soul.

    इस भाष्य को एडिट करें

    Meaning

    Agni, you are protector of the body with health and nourishment. Protect my body. You are the giver of life. Give me full life. You are the giver of lustre and glory. Give me lustre and glory. Whatever is short and wanting in me, that, I pray, fulfil and complete and perfect.

    इस भाष्य को एडिट करें

    Purport

    Protector of all O Self-Effulgent God! You are the protector or of our bodies-remover of their defects, hence nourish our bodies and remove their defects. O the Almighty Physician! You are the Prolonger and Protector of the span of life-You are the donor of long life, bestow on me an excellent, long, happy and prosperous life. O Infinite Lustre of divine wisdom! You are Imparter of brilliance and lustre of true knowledge, kindly endow me with the most excellent brilliance of knowledge. By 1 aforesaid protection of the body etc., always keep us in a happy and prosperous state-keep in bliss. Moreover, whatever we lack in our bodies etc., kindly remove that by a glance of Your Mercy and put us in all kinds of happiness and prosperity. We should not be in lack of bliss and excellant things-objects neccessary for life. 

    When we Your children will be in bliss, then there is the glory of the father. From whom else Your children will ask for great and small things and happiness, except father and mother. You are our Omnipotent Father. You are our most competent father to bestow all kinds of prosperity and happiness.

    इस भाष्य को एडिट करें

    Translation

    О adorable Lord, you are protector of bodies; protect my body. O Lord, you are bestower of long life; bestow long life on me. Bestower of lustre you are; bestow lustre on me. O Lord, whatever deficiency I have in my body, kindly make it up for me. (1)

    इस भाष्य को एडिट करें

    बंगाली (2)

    विषय

    অথৈশ্বরভৌতিকৌ কিং কুরুত ইত্যুপদিশ্যতে ॥
    এখন ঈশ্বর ও ভৌতিকাগ্নি কী করে, এই বিষয়ের উপদেশ পরবর্ত্তী মন্ত্রে করা হয় ॥

    पदार्थ

    পদার্থঃ- হে (অগ্নে) জগদীশ্বর ! (য়ৎ) যে কারণে আপনি (তনূপাঃ) সব মূর্ত্তিমান পদার্থের শরীরের রক্ষাকর্ত্তা (অসি) হন । এইজন্য আপনি (মে) আমার (তন্বম্) শরীরের (পাহি) রক্ষা করুন । হে (অগ্নে) পরমেশ্বর । আপনি (আয়ূর্দাঃ) সকলের আয়ু প্রদাতা (অসি) হন সেইরূপ (মে) আমার জন্য (আয়ুঃ) পূর্ণ আয়ু অর্থাৎ শতবর্ষ পর্য্যন্ত জীবন (দেহি) দান করুন । হে (অগ্নে) সর্ববিদ্যাময় ঈশ্বর ! যেমন আপনি (বর্চ্চোদাঃ) সকল মনুষ্যদিগের বিজ্ঞানদাতা (অসি) হন, সেইরূপ (সে) আমার জন্যও সঠিক গুণ জ্ঞানপূর্বক (বর্চ্চঃ) পূর্ণ বিদ্যা (দেহি) দান করুন । (অগ্নে) সকল কামনা পূরণকারী পরমেশ্বর ! (মে) আমার (তন্বাঃ) শরীরে (য়ৎ) যত (ঊনম্) বুদ্ধি, বল ও শৌর্য্যাদি গুণকর্ম আছে (তৎ) সেইসব অঙ্গ (মে) আমার (আপৃণ) সম্যক্ পূর্বক পূরণ করুন ॥ ১ ॥ (অগ্নে) এই ভৌতিকাগ্নি (য়ৎ) যেমন (তনূপাঃ) পদার্থগুলির রক্ষার হেতু (অসি) হয় সেইরূপ জঠরাগ্নি রূপে (মে) আমার (তন্বম্) শরীরের (পাহি) রক্ষা করে (অগ্নে) যেমন জ্ঞানের নিমিত্ত এই অগ্নি (আয়ুর্দাঃ) সকলের জীবনের হেতু (অসি) হয় সেইরূপ (মে) আমার জন্যও (আয়ুঃ) জীবন হেতু ক্ষুধা ইত্যাদি গুণগুলি প্রদান করে (অগ্নে) এই অগ্নি যেমন (বর্চ্চোদাঃ) বিজ্ঞান প্রাপ্তির হেতু (অসি) হয় সেইরূপ (মে) আমার জন্যও (বর্চ্চঃ) বিদ্যা প্রাপ্তির নিমিত্ত বুদ্ধি বলাদি (দেহি) প্রদান করে তথা (অগ্নে) যে কামনাপূরণ করিবার জন্য ভৌতিকাগ্নি উহা (য়ৎ) যত (মে) আমার (তন্বাঃ) শরীরে বুদ্ধি ইত্যাদি সামর্থ্য (ঊনম্) কম (তৎ) ততগুণ (আপূণ) পূরণ করে ॥ ২ ॥ ১৭ ॥

    भावार्थ

    ভাবার্থঃ- এই মন্ত্রে শ্লেষালঙ্কার আছে । যে কারণে পরমেশ্বর এই সংসারে সকল প্রাণিদিগের জন্য শরীরের আয়ু নিমিত্ত বিদ্যার প্রকাশ এবং সকল অঙ্গের পূর্ণতা রচনা করিয়াছেন, ইহার ফলে সকল পদার্থ নিজ নিজ স্বরূপ ধারণ করে । এই প্রকার পরমেশ্বরের সৃষ্টিতে প্রকাশাদি গুণবান হওয়ায় এই অগ্নিও সকল পদার্থের পালনের মুখ্য সাধন ॥ ১৭ ॥

    मन्त्र (बांग्ला)

    ত॒নূ॒পাऽঅ॑গ্নেऽসি ত॒ন্বং᳖ মে পাহ্যায়ু॒র্দাऽঅ॑গ্নে॒ऽস্যায়ু॑র্মে দেহি বর্চো॒দাऽঅ॑গ্নেऽসি॒ বর্চো॑ মে দেহি । অগ্নে॒ য়ন্মে॑ ত॒ন্বা᳖ऽঊ॒নং তন্ম॒ऽআপৃ॑ণ ॥ ১৭ ॥

    ऋषि | देवता | छन्द | स्वर

    তনূপা ইত্যস্যাऽবৎসার ঋষি । অগ্নির্দেবতা । ত্রিষ্টুপ্ ছন্দঃ ।
    ধৈবতঃ স্বরঃ ॥

    इस भाष्य को एडिट करें

    পদার্থ

    তনূপা অগ্নেঽসি তন্বং মে পাহ্যায়ুর্দা অগ্নে স্যাযুর্মে দেহি।

    বর্চোদা অগ্নেঽসি বর্চো মে দেহি। অগ্নে যন্মে তন্বা ঊনং তন্ম আপৃণ।।৬।।

    (যজু ৩।১৭)

    পদার্থঃ হে (অগ্নে) জ্ঞানস্বরূপ পরমাত্মন! তুমি (তনূপা অসি) আমাদের শরীরের রক্ষাকর্তা, (মে তন্বম্) আমাদের শরীরের (পাহি) রক্ষা কর। হে (অগ্নে) পরমেশ্বর! (আয়ুর্দা অসি) তুমি আয়ুদাতা, জীবনদাতা, (মে আয়ু দেহি) আমাকে আয়ু প্রদান করো। হে (অগ্নে) পূজ্য পরমেশ্বর! (বর্চোদাঃ অসি) তুমি তেজদাতা, (মে) আমাকে (বর্চঃ দেহি) তেজ প্রদান করো। হে (অগ্নে) পরমেশ্বর! (যৎ মে তন্বা) যে আমার শরীরে (ঊনম্) ন্যুনতা রয়েছে, (মে) আমার (তৎ) সেই ন্যূনতাকে (আপৃণ) পূর্ণ করে দাও। 

     

    ভাবার্থ

    ভাবার্থঃ হে সর্বরক্ষক জগদীশ, তুমি সকলের শরীরের রক্ষাকর্তা এবং আয়ু প্রদাতা। তুমি আমাদেরকে রক্ষা করে দীর্ঘ আয়ুসম্পন্ন কর। আমরা পাপ ও দুরাচারে লিপ্ত হয়ে কখনো যেন নষ্ট ভ্রষ্ট না হই। হে দয়াময় ভগবান! অবিদ্যা সহ সকল দোষকে বিদারণকারী যে ব্রহ্মতেজ, তার প্রদাতাও তুমি। আমাদের তেজ প্রদান কর, যাতে আমরা নিজেদের এবং নিজের স্নেহাশিসদের কল্যাণ করতে পারি। হে ভগবান! তুমি সর্বগুণ সম্পন্ন, আমাদের ন্যূনতা দূর করে আমাদেরকে বহু শুভগুণ সম্পন্ন করো। হে দয়াময়! এই নম্র প্রার্থনা স্বীকার করো।।৬।।

     

    इस भाष्य को एडिट करें

    नेपाली (1)

    विषय

    प्रार्थनाविषयः

    व्याखान

    हे अग्ने= सर्वरक्षकेश्वराग्ने ! तपाईं तनूपा असि = हाम्रा शरीर का रक्षक हुनुहुन्छ, अतः मे तन्वं पाहि =कृपागरि मेरो शरीर को रक्षा गर्नुहोस्, हे महावैद्य ! तपाईं आयुर्दा असि = आयु बढाउने र संरक्षक हुनुहुन्छ । मे= मँलाई सुखरूप र आयुः धेहि = उत्तम आयु दिनु होस् । हे अनन्त विद्यातेज युक्त ! तपाईं वर्चः = विद्यादि तेज अर्थात् यथार्थ विज्ञान दाता हुनुहुन्छ । वर्च: मे देहि = मँलाई सर्वोत्कृष्ट विद्यादि तेज दिनुहोस् । पूर्वोक्त शरीरादि को रक्षा बाट मँलाई सदा आनन्द मा राख्नुहोस् । अरू अग्ने यत् मे तन्वा = सर्वोन्नति साधक प्रभो ! जुन-कुनै पनि मेरा शारीरिक अंग-प्रत्यंग मा ऊनम्= न्यूनता छ भने तत्= ती सबै मे= मेरा न्यूनता हरु लाई कृपादृष्टि ले सुख एवं ऐश्वर्य का साथ सबै प्रकारले आपृण = पूर्ण गरि दिनुहोस् । कुनै आनन्द दायक उत्तम पदार्थ को कमी मँलाई नहोस् । तपाईंका सन्तान हामी जब पूर्ण आनन्द मा रहन्छौं, तब तपाईं पिता को शोभा हुन्छ । किन भने बालक हरु ले साना ठूला चिज अथवा सुख माता-पिता लाई छोडेर अरू को संग माग्ने र ? अतः तपाईं हाम्रा सर्व शक्तिमान् पिता सबै ऐश्वर्य तथा सुख प्रदान कर्ता हरु मा पूर्ण हुनुहुन्छ |॥३३॥

    इस भाष्य को एडिट करें
    Top