अथर्ववेद के काण्ड - 19 के सूक्त 68 के मन्त्र

मन्त्र चुनें

  • अथर्ववेद का मुख्य पृष्ठ
  • अथर्ववेद - काण्ड 19/ सूक्त 68/ पर्यायः 0/ मन्त्र 1
    ऋषि: - ब्रह्मा देवता - कर्म छन्दः - अनुष्टुप् सूक्तम् - वेदोक्तकर्म सूक्त
    पदार्थ -

    (अव्यसः) अव्यापक [जीवात्मा] के (च च) और (व्यचसः) व्यापक [परमात्मा] के (बिलम्) बिल [भेद] को (मायया) बुद्धि से (वि ष्यामि) मैं खोलता हूँ। (अथ) फिर (ताभ्याम्) उन दोनों के जानने के लिये (वेदम्) वेद [ऋग्वेद आदि ज्ञान] को (उद्धृत्य) ऊँचा लाकर (कर्माणि) कर्मों को (कृण्महे) हम करते हैं ॥१॥

    भावार्थ -

    मनुष्य जीवात्मा के कर्तव्य और परमात्मा के अनुग्रह समझने के लिये वेदों को प्रधान जानकर अपना-अपना कर्तव्य करते रहें ॥१॥

    कृपया कम से कम 20 शब्द लिखें!
    Top