अथर्ववेद के काण्ड - 7 के सूक्त 75 के मन्त्र

मन्त्र चुनें

  • अथर्ववेद का मुख्य पृष्ठ
  • अथर्ववेद - काण्ड 7/ सूक्त 75/ पर्यायः 0/ मन्त्र 1
    ऋषि: - उपरिबभ्रवः देवता - अघ्न्या छन्दः - त्रिष्टुप् सूक्तम् - अघ्न्या सूक्त
    पदार्थ -

    [हे मनुष्य प्रजाओ !] (प्रजावतीः) उत्तम सन्तानवाली, (सूयवसे) सुन्दर यव आदि अन्नवाले [घर] में [अन्न] (रुशन्तीः) खाती हुई, और (सुप्रपाणे) सुन्दर जलस्थान में (शुद्धाः) शुद्ध (अपः) जलों को (पिबन्तीः) पीती हुई (वः) तुमको (स्तेनः) चोर (मा ईशत) वश में न करे, और (मा)(अघशंसः) बुरा चीतनेवाला, डाकू उचक्का आदि [वश में करे], (रुद्रस्य) पीड़ानाशक परमेश्वर की (हेतिः) हनन शक्ति (वः) तुमको (परि) सब ओर से (वृणक्तु) त्यागे रहे ॥१॥

    भावार्थ -

    मनुष्य विद्यायें उपार्जन करके अपनी सन्तानों को उत्तम शिक्षा देते हुए और अन्न जल आदि का सुप्रबन्ध करते हुए सदा हृष्ट पुष्ट बुद्धिमान् और धर्मिष्ठ रहें, जिससे उन्हें न चोर आदि सता सके और न परमेश्वर दण्ड देवे ॥१॥ यह मन्त्र आ चुका है-अ० ४।२१।७ ॥

    कृपया कम से कम 20 शब्द लिखें!
    Top