Loading...
अथर्ववेद के काण्ड - 1 के सूक्त 9 के मन्त्र
मन्त्र चुनें
  • अथर्ववेद का मुख्य पृष्ठ
  • अथर्ववेद - काण्ड {"suktas":143,"mantras":958,"kand_no":20}/ सूक्त 9/ मन्त्र 1
    ऋषिः - अथर्वा देवता - मन्त्रोक्ता छन्दः - त्रिष्टुप् सूक्तम् - विजय प्रार्थना सूक्त
    138

    अ॒स्मिन्वसु॒ वस॑वो धारय॒न्त्विन्द्रः॑ पू॒षा वरु॑णो मि॒त्रो अ॒ग्निः। इ॒ममा॑दि॒त्या उ॒त विश्वे॑ च दे॒वा उत्त॑रस्मि॒ञ्ज्योति॑षि धारयन्तु ॥

    स्वर सहित पद पाठ

    अ॒स्मिन् । वसु॑ । वस॑व: । धा॒र॒य॒न्तु॒ । इन्द्र॑: । पू॒षा । वरु॑ण: । मि॒त्र: । अ॒ग्नि: ।इ॒मम् ‍ । आ॒दि॒त्या: । उ॒त । विश्वे॑ । च॒ । दे॒वा: । उत्ऽत॑रस्मिन् । ज्योति॑षि । धा॒र॒य॒न्तु॒ ॥


    स्वर रहित मन्त्र

    अस्मिन्वसु वसवो धारयन्त्विन्द्रः पूषा वरुणो मित्रो अग्निः। इममादित्या उत विश्वे च देवा उत्तरस्मिञ्ज्योतिषि धारयन्तु ॥

    स्वर रहित पद पाठ

    अस्मिन् । वसु । वसव: । धारयन्तु । इन्द्र: । पूषा । वरुण: । मित्र: । अग्नि: ।इमम् ‍ । आदित्या: । उत । विश्वे । च । देवा: । उत्ऽतरस्मिन् । ज्योतिषि । धारयन्तु ॥

    अथर्ववेद - काण्ड » 1; सूक्त » 9; मन्त्र » 1
    Acknowledgment

    हिन्दी (4)

    विषय

    सब सम्पत्तियों के लिये प्रयत्न का उपदेश।

    पदार्थ

    (वसवः) प्राणियों के बसानेवाले वा प्रकाशमान, श्रेष्ठ देवता [अर्थात्] (इन्द्रः) परमेश्वर वा सूर्य, (पूषा) पुष्टि करनेवाली पृथिवी, (वरुणः) मेघ, (मित्रः) वायु और (अग्निः) आग, (अस्मिन्) इस पुरुष में [मुझमें] (वसु) धन को (धारयन्तु) धारण करें। (आदित्याः) प्रकाशवाले [बड़े विद्वान् शूरवीर पुरुष] (उत च) और भी (विश्वे) सब (देवाः) व्यवहार जाननेहारे महात्मा (इमम्) इसको [मुझको] (उत्तरस्मिन्) अति उत्तम (ज्योतिषि) ज्योति में (धारयन्तु) स्थापित करें ॥१॥

    भावार्थ

    चतुर पुरुषार्थी मनुष्य के लिये परमेश्वर और संसार के सब पदार्थ उपकारी होते हैं। अथवा जो सूर्य, भूमि, मेघ, वायु और अग्नि के समान उत्तम गुणवाले और दूसरे शूर वीर विद्वान् लोग (आदित्याः) जो विद्या के लिये और धरती अर्थात् सब जीवों के लिये पुत्र समान सेवा करते हैं और जो सूर्य के समान उत्तम गुणों से प्रकाशमान हैं, वे सब नरभूषण पुरुषार्थी मनुष्य के सदा सहायक और शुभचिन्तक रहते हैं ॥१॥

    टिप्पणी

    १−अस्मिन्। उपासके, मयि, इत्यर्थः। म० ४। वसु। शॄस्वृस्निहित्रप्यसि०। उ० १।१०। इति वस आच्छादने, निवासे दीप्तौ च-उप्रत्ययः। निवासयितृ प्रकाशमानं वा धनम्। वसवः। पूर्ववत्, वस-उ। श्वसोवसीयश्श्रेयसः। पा० ५।४।८०। अत्र वसुशब्दः प्रशस्तवाची। प्राणिनां वासयितारः, प्रकाशमानाः। प्रशस्ता देवाः, इन्द्रादयो मन्त्रोक्ताः। धारयन्तु। धृञ् धारणे चुरादिः। स्थापयन्तु। इन्द्रः। १।२।३। परमेश्वरः। सूर्यः। पूषा। श्वन्नुक्षन्पूषन्०। उ० १।१५९। इति पुष पुष्टौ, पूष वृद्धौ−कनिन् प्रत्ययान्तो निपात्यते। पुष्यति पूषति वा वर्धते धान्यादिभिः, पोषयति वान्नैः प्रजाः। पृथिवीनाम्−निघ० १।१। वरुणः। १।३।३। वृणोति व्रियते वाऽसौ वरुणः। वृष्टिजलम्। मेघः। मित्रः। १।३।२। डुमिञ् प्रक्षेपणे-क्त्र। वायुः। अहरभिमानी देवः−इति सायणः। अग्निः। १।६।२। और्वजाठरवैद्युतादिरूपः प्रकाशः। वह्निः। इमम्। उपासकम्। आदित्याः। अघ्न्यादयश्च। उ० ४।११२। इति आङ्+डुदाञ् दाने, वा दीपी दीप्तौ-यक्। निपातितः। यद्वा। दित्यदित्यादित्यपत्युत्तरपदाण्ण्यः। पा० ४।१।८५। इति अदिति-ण्य-प्रत्ययः, अपत्यार्थे। अदितिः=पृथिवी−निघ० १।१। वाक्-निघ० १।११। अदितिरदीना देवमाता−निरु० ४।२२। अथास्य [आदित्यस्य] कर्म रसादानं रश्मिभिश्च रसधारणं यच्च किंचित् प्रबल्हितमादित्यकमैव तच्चन्द्रमसा वायुना संवत्सरेणेति संस्तवः। निरु० ७।११। आदातारः, ग्रहीतारो गुणानाम्। प्रकाशमानाः। भूमिपुत्राः, देशहितैषिणः। सरस्वतीपुत्राः, विद्वांसः। सूर्यवत् तेजस्विनः। देवाः। १।४।३। दिवु व्यवहारे-अच्। व्यवहारिणः। प्रकाशमानाः। उत्-तरस्मिन्। उत्कृष्टे। ज्योतिषि। द्युतेरिसिन्नादेश्च जः। उ० २।११०। इति द्युत दीप्तौ−इसिन्, दस्य जः। तेजसि, प्रकाशे। धारयन्तु। स्थापयन्तु ॥

    इस भाष्य को एडिट करें

    विषय

    वसु व ज्योति की प्राप्ति

    पदार्थ

    १. (अस्मिन्) = इस डाँवाडोल न होनेवाले व्यक्ति में (वसवः) = [प्राणो वै वसव:-जै०४।२।३] प्राण (बसु धारयन्तु) = प्राणशक्ति को धारण करें। यह स्वस्थ शरीरवाला व प्राणशक्ति-सम्पन्न होकर ही तो यज्ञादि उत्तम कर्मों में प्रवृत्त हो सकेगा। २. (इमम्) = इस प्राणशक्ति-सम्पन्न पुरुष को (इन्द्रः) = इन्द्र, (पूषा) = पोषण की देवता, (वरुण:) = द्वेष-निवारण के द्वारा श्रेष्ठता का सम्पादन करनेवाली देवता, (मित्रः) = स्नेह की देवता, (अग्रिः) = अग्रगति की देवता, (आदित्या:) = सब स्थानों से उत्तमता का आदान करने की देवता (उत) = और (विश्वेदेवा: च) = सब दिव्य भावनाएँ भी (उत्तरस्मिन् ज्योतिषि) = सर्वोत्कृष्ट ज्योति में, अर्थात् परमात्मा में (धारयन्तु) = धारण करें। ये जितेन्द्रियता [इन्द्र], शक्ति का पोषण [पूषा], नितेषता [वरुण], स्नेह [मित्र], अग्रगति [अग्नि], गुणों का आदान [आदित्य] व दिव्य भावनाएँ प्रभु-प्राप्ति के साधन हैं।

    भावार्थ

    प्राणशक्ति-सम्पन्न शरीर में जितेन्द्रियता आदि को धारण करके हम प्रभु को प्राप्त

    करें।

    इस भाष्य को एडिट करें

    भाषार्थ

    (वसवः) ८ वसु, (अस्मिन्) इसमें (वसु) धन-सम्पत्ति (धारयन्तु) धारित करें अर्थात् प्रदान करें, (इन्द्रः) मेघीय विद्युत्, (पूषा) रश्मियों द्वारा परिपुष्ट सूर्य, (वरुणः) अन्तरिक्ष को आवृत करनेवाला मेघ, (मित्रः) वर्षा द्वारा स्निग्ध करनेवाला वर्षतु का सूर्य, (अग्निः) तथा पार्थिव अग्नि। (इमम्) इसे (आदित्याः) १२ मासों के १२ आदित्य, (उत) तथा (विश्वे च देवाः) और सब देव अर्थात् द्योतमान पदार्थ (उत्तरस्मिन् ज्योतिषि) उत्कृष्ट ज्योति में (धारयन्तु) स्थापित करें, ज्योति: प्रदान करें।

    टिप्पणी

    [वसवः= अग्निश्च पृथिवी च, वायुश्चान्तरिक्षं च, आदित्यश्च द्यौश्च, चन्द्रमाश्च नक्षत्राणि च एते वसवः एतेषु हीदं वसु सर्वं हितम् (बृहदा० उपनिषद् अध्याय ४, ब्राह्मण ९, खण्ड ३)। पूषा = यद्रश्मिपोषं पुष्यति= सूर्यः (निरुक्त १२।२।१६) । वसु आदि द्वारा धन-सम्पत्ति प्राप्त होती ही है। यथा पृथिवी से अन्नादि तथा धातवीय पदार्थ प्राप्त होते हैं। आप: से जल-सम्पत्ति, तेजः से प्रकाश-ताप सम्पत्ति, वायु द्वारा जल- चक्कियाँ, आकाश से शब्दवहन आदि सम्पत्तियाँ प्राप्त हो रही हैं-इत्यादि।]

    इस भाष्य को एडिट करें

    विषय

    ब्रह्मतेज और आयु की प्रार्थना ।

    भावार्थ

    राज्यलक्ष्मी और ब्राह्म तेज और आयु की कामना करने के लिये इस सूक्त में उपदेश है। उपनयन के समय आचार्य ब्रह्मचारी के प्रति, राज्याभिषेक के समय पुरोहित राजा के प्रति कहता है कि ( अस्मिन् ) इस राजा और ब्रह्मचारी में ( वसवः ) आठों वसु, विद्वान् और राजगण (वसु ) तेजःस्वरूप ऐश्वर्य को ( धारयन्तु ) धारण करावें ( इन्द्रः१ ) ऐश्वर्यशील ( वरुणः२ ) सबसे श्रेष्ठ, सर्वरक्षक जल के समान शान्त जन ( मित्रः ) सबका स्नेही, मृत्यु से बचाने हारा ( अग्निः ) सबका प्रकाशक, सबका अग्रणी ( आदित्याः३ ) बारह मास या आदित्यव्रती योगीजन ( उतच ) और ( विश्वेदेवाः ) सब विद्वान् पुरुष ( इमं ) इस ब्रह्मचारी और राजा को ( उत्तरस्मिन्) उत्कृष्ट ( ज्योतिषि ) ब्रह्मरूप, ज्ञानमय प्रकाश एवं उत्कृष्ट राज्य ऐश्वर्य में ( धारयन्तु ) धारण करें ।

    टिप्पणी

    १. ‘न केवलं वसवोऽपि तु इन्द्रः परमैश्वर्ययुक्तो देवानामधिपतिर्देवः। यद्वा इंदंकारास्पदं विश्वं कारणभूतंब्रह्मात्मानं अद्राक्षीदिति इन्द्रः ’ इति सायणः॥ २. अहोरात्रे वै मित्रावरुणौ ( तै० मं० २। ४। १० ) मित्रः प्रमीतेस्त्रायते इति यास्कः। ( निरु० १०। २१ ) ३. अदितेर्धात्रर्यमादयः पुत्राः प्रसिद्धास्तेऽपि पृथिव्याः धातृन्यायकर्त्रादयो द्वादशैव इति राजनीतिपक्षे समीचीनः। विश्वेदेवानां निर्णयस्तु ‘तदेतद्-राष्ट्रमित्र भवती’ ति निरुक्तवचनाइ ध्येयम् ।

    ऋषि | देवता | छन्द | स्वर

    अथर्वा ऋषिः। १,२ वस्वादयो मन्त्रोक्ता देवताः। ३, ४ अग्निर्देवता । त्रिष्टुप् छन्दः। चतुर्ऋचं सूक्तम् ॥

    इस भाष्य को एडिट करें

    इंग्लिश (4)

    Subject

    Power and Lustre

    Meaning

    May the Vasus, divine powers of nature and humanity, givers of peace, settlement and brilliance, Indra, lord Supreme, Pusha, giver of nourishment and growth, Varuna, the ocean, Mitra, the sun, Agni, vital heat and fire, Adityas, all phases of the sun, and Vishvedevas, over-all generosity of life, vest this man, this ruler, seeker and aspirant, with wealth, honour and excellence and establish him in the high realms of divine light.

    इस भाष्य को एडिट करें

    Subject

    Vasu

    Translation

    May the young sages, the resplendent Lord, the nourisher Lord, the venerable Lord, the friendly Lord and the adorable Lord keep riches in this man. May the old sages and all the enlightened ones keep him in the highest light.

    इस भाष्य को एडिट करें

    Translation

    May the physical forces, the eight vasus, Indrah, the mighty electricity. Pushan, the constructive force of nature, Varunah Oxygen gas, Mitah, hydrogen gas, Agnih, the impelling power maintain power in the king. May the twelve adityas and eleven Vishvedevas support him in supremest power.

    इस भाष्य को एडिट करें

    Translation

    May the forces of nature, God, Earth, Cloud, Air and Fire maintain this Brahmchari in supremacy. May learned, a heroic persons, and all practical noble souls set and support him in supremest luster of knowledge.

    Footnote

    This verse is applicable to a king as well.

    इस भाष्य को एडिट करें

    संस्कृत (1)

    सूचना

    कृपया अस्य मन्त्रस्यार्थम् आर्य(हिन्दी)भाष्ये पश्यत।

    टिप्पणीः

    १−अस्मिन्। उपासके, मयि, इत्यर्थः। म० ४। वसु। शॄस्वृस्निहित्रप्यसि०। उ० १।१०। इति वस आच्छादने, निवासे दीप्तौ च-उप्रत्ययः। निवासयितृ प्रकाशमानं वा धनम्। वसवः। पूर्ववत्, वस-उ। श्वसोवसीयश्श्रेयसः। पा० ५।४।८०। अत्र वसुशब्दः प्रशस्तवाची। प्राणिनां वासयितारः, प्रकाशमानाः। प्रशस्ता देवाः, इन्द्रादयो मन्त्रोक्ताः। धारयन्तु। धृञ् धारणे चुरादिः। स्थापयन्तु। इन्द्रः। १।२।३। परमेश्वरः। सूर्यः। पूषा। श्वन्नुक्षन्पूषन्०। उ० १।१५९। इति पुष पुष्टौ, पूष वृद्धौ−कनिन् प्रत्ययान्तो निपात्यते। पुष्यति पूषति वा वर्धते धान्यादिभिः, पोषयति वान्नैः प्रजाः। पृथिवीनाम्−निघ० १।१। वरुणः। १।३।३। वृणोति व्रियते वाऽसौ वरुणः। वृष्टिजलम्। मेघः। मित्रः। १।३।२। डुमिञ् प्रक्षेपणे-क्त्र। वायुः। अहरभिमानी देवः−इति सायणः। अग्निः। १।६।२। और्वजाठरवैद्युतादिरूपः प्रकाशः। वह्निः। इमम्। उपासकम्। आदित्याः। अघ्न्यादयश्च। उ० ४।११२। इति आङ्+डुदाञ् दाने, वा दीपी दीप्तौ-यक्। निपातितः। यद्वा। दित्यदित्यादित्यपत्युत्तरपदाण्ण्यः। पा० ४।१।८५। इति अदिति-ण्य-प्रत्ययः, अपत्यार्थे। अदितिः=पृथिवी−निघ० १।१। वाक्-निघ० १।११। अदितिरदीना देवमाता−निरु० ४।२२। अथास्य [आदित्यस्य] कर्म रसादानं रश्मिभिश्च रसधारणं यच्च किंचित् प्रबल्हितमादित्यकमैव तच्चन्द्रमसा वायुना संवत्सरेणेति संस्तवः। निरु० ७।११। आदातारः, ग्रहीतारो गुणानाम्। प्रकाशमानाः। भूमिपुत्राः, देशहितैषिणः। सरस्वतीपुत्राः, विद्वांसः। सूर्यवत् तेजस्विनः। देवाः। १।४।३। दिवु व्यवहारे-अच्। व्यवहारिणः। प्रकाशमानाः। उत्-तरस्मिन्। उत्कृष्टे। ज्योतिषि। द्युतेरिसिन्नादेश्च जः। उ० २।११०। इति द्युत दीप्तौ−इसिन्, दस्य जः। तेजसि, प्रकाशे। धारयन्तु। स्थापयन्तु ॥

    इस भाष्य को एडिट करें

    बंगाली (3)

    पदार्थ

    (বসবঃ) প্রাণি জগতের আশ্রয়দাত্রী দেবতা (ইন্দ্ৰঃ) সূর্য (পূষা) পুষ্টিধাত্রী পৃথিবী (বরুণঃ) মেঘ (মিত্রঃ) বায়ু (অগ্নিঃ) এবং অগ্নি (অস্মিন্) এই পুরুষের মধ্যে (বসু) ধন (ধারয়ন্তু) ধারণ করুক। (আদিত্যাঃ) প্রকাশবান বীর পুরুষেরা (উত চ) এবং অন্যান্য (বিশ্বে) সব (দেবাঃ) বিদ্বানেরা (ইমম্) ইহাকে (উত্তরস্মিন্) অত্যুত্তম (জ্যাতিষি) জ্যোতিতে (ধারয়ন্ত্র) স্থাপন করুক।
    ‘পৃষা’ পৃথিবী নাম। নির্ঘণ্টু ১.১। ‘আদিত্যাঃ’ আদাঁতীরাঃ, গ্রহীতারো গুণানাম্ । প্রকাশ মানাঃ । ভূমিপুত্রাঃ, দেশহিতৈষিনঃ । সরস্বতী পুত্রাঃ, বিদ্বাংসঃ। সূর্য্যবং তেজস্বিনঃ। ‘জ্যোতিষি’ তেজসি, প্রকাশে।

    भावार्थ

    প্রাণী জগতের আশ্রয় স্কুল সূর্য, পৃথিবী, মেঘ, বায়ু এবং অগ্নি উপাসকের মধ্যে ধন বিদান করুক। জ্ঞানবান বীর পুরুষেরা এবং অন্যান্য বিদ্বানেরাও ইহাকে জ্যোতিতে স্থাপন করুক।।

    मन्त्र (बांग्ला)

    অস্মিন্ বসু বসবো ধারয়ন্ত্বিন্দ্রঃ পূষা বরুণো মিত্রো অগ্নিঃ ৷ ইমমাদিত্যা উত বিশ্বে চ দেবা উত্তরস্মিন্ জ্যোতিষি ধারয়ন্তু।।

    ऋषि | देवता | छन्द

    অর্থবা। বস্বাদয়ো মন্তোক্তাঃ। ত্রিষ্টুপ্

    इस भाष्य को एडिट करें

    मन्त्र विषय

    (সর্বসম্পত্তিপ্রয়ত্নো­পদেশঃ) সমস্ত সম্পত্তির জন্য চেষ্টার উপদেশ

    भाषार्थ

    (বসবঃ) প্রাণীদের স্থিতকারী/নিবাস প্রদানকারী বা প্রকাশমান, শ্রেষ্ঠ দেবতা [অর্থাৎ] (ইন্দ্রঃ) পরমেশ্বর বা সূর্য, (পূষা) পুষ্টিকারী পৃথিবী, (বরুণঃ) মেঘ, (মিত্রঃ) বায়ু ও (অগ্নিঃ) অগ্নি, (অস্মিন্) এই পুরুষের মধ্যে [আমার মধ্যে] (বসু) ধন (ধারয়ন্তু) ধারণ করুক। (আদিত্যাঃ) প্রকাশমান [বিদ্বান এবং শৌর্যশালী পুরুষ] (উত চ) আরোও (বিশ্বে) সমস্ত (দেবাঃ) ব্যবহার সম্পর্কে জ্ঞাত মহাত্মা (ইমম্) একে [আমাকে] (উত্তরস্মিন্) অতি উত্তম (জ্যোতিষি) জ্যোতিতে (ধারয়ন্তু) স্থাপিত করুক ॥১॥

    भावार्थ

    চতুর পুরুষার্থী মনুষ্যের জন্য পরমেশ্বর এবং সংসারের সমস্ত পদার্থ উপকারী হয়। অথবা যা সূর্য, ভূমি, মেঘ, বায়ু এবং অগ্নির সমান উত্তম গুণী এবং অন্যান্য শৌর্যশালী বিদ্বানগণ (আদিত্যাঃ) যে বিদ্যার জন্য এবং পৃথিবী অর্থাৎ সমস্ত জীবের জন্য পুত্র সমান সেবা করে এবং যে সূর্যের সমান উত্তম গুণাবলীর মাধ্যমে প্রকাশমান, তাঁরা সবাই নরভূষণ পুরুষার্থী মনুষ্যের সদা সহায়ক এবং শুভচিন্তক থাকে ॥১॥

    इस भाष्य को एडिट करें

    भाषार्थ

    (বসবঃ) ৮ বসু, (অস্মিন্) এর মধ্যে (বসু) ধন-সম্পত্তি (ধারয়ন্তু) ধারিত করুক অর্থাৎ প্রদান করুক, (ইন্দ্রঃ) মেঘীয় বিদ্যুৎ, (পূষা) রশ্মি-সমূহের দ্বারা পরিপুষ্ট সূর্য, (বরুণঃ) অন্তরিক্ষকে আবৃতকারী মেঘ, (মিত্রঃ) বর্ষা দ্বারা স্নিগ্ধকারী বর্ষতুর/বর্ষা ঋতুর সূর্য, (অগ্নিঃ) এবং পার্থিব অগ্নি। (ইমম্) একে (আদিত্যাঃ) ১২ মাসের ১২ আদিত্য, (উত) এবং (বিশ্বে চ দেবাঃ) ও সকল দেব অর্থাৎ দ্যোতমান পদার্থ (উত্তরস্মিন্ জ্যোতিষি) উৎকৃষ্ট জ্যোতিতে (ধারয়ন্তু) স্থাপিত করুক, জ্যোতিঃ প্রদান করুক।

    टिप्पणी

    [বসবঃ= অগ্নিশ্চ পৃথিবী চ, বায়ুশ্চান্তরিক্ষং চ, আদিত্যশ্চ দ্যৌশ্চ, চন্দ্রমাশ্চ নক্ষত্রাণি চ এতে বসবঃ এতেষু হীদং বসু সর্বং হিতম্ (বৃহদা০ উপনিষদ্ অধ্যায় ৪, ব্রাহ্মণ ৯, খণ্ড ৩)। পূষা = যদ্রশ্মিপোষং পুষ্যতি= সূর্যঃ (নিরুক্ত ১২।২।১৬)। বসু আদি দ্বারা ধন-সম্পত্তি প্রাপ্ত হয়ই। যথা পৃথিবী থেকে অন্নাদি ও ধাতবীয় পদার্থ প্রাপ্ত হয়। আপঃ থেকে জল-সম্পত্তি, তেজঃ থেকে প্রকাশ-তাপ সম্পত্তি, বায়ু দ্বারা জল-চালিত চাকা, আকাশ থেকে শব্দবহন আদি সম্পত্তি প্রাপ্ত হচ্ছে-ইত্যাদি।]

    इस भाष्य को एडिट करें
    Top