Loading...
अथर्ववेद के काण्ड - 1 के सूक्त 34 के मन्त्र
मन्त्र चुनें
  • अथर्ववेद का मुख्य पृष्ठ
  • अथर्ववेद - काण्ड {"suktas":143,"mantras":958,"kand_no":20}/ सूक्त 34/ मन्त्र 5
    सूक्त - अथर्वा देवता - मधुवनस्पतिः छन्दः - अनुष्टुप् सूक्तम् - मधु विद्या
    48

    परि॑ त्वा परित॒त्नुने॒क्षुणा॑गा॒मवि॑द्विषे। यथा॒ मां का॒मिन्यसो॒ यथा॒ मन्नाप॑गा॒ असः॑ ॥

    स्वर सहित पद पाठ

    परि॑ । त्वा॒ । प॒रि॒ऽत॒त्नुना॑ । इ॒क्षुणा॑ । अ॒गा॒म् । अवि॑ऽद्विषे । यथा॑ । माम् । का॒मिनी॑ । अस॑: । यथा॑ । मत् । न । अप॑ऽगाँ: । अस॑: ॥


    स्वर रहित मन्त्र

    परि त्वा परितत्नुनेक्षुणागामविद्विषे। यथा मां कामिन्यसो यथा मन्नापगा असः ॥

    स्वर रहित पद पाठ

    परि । त्वा । परिऽतत्नुना । इक्षुणा । अगाम् । अविऽद्विषे । यथा । माम् । कामिनी । अस: । यथा । मत् । न । अपऽगाँ: । अस: ॥

    अथर्ववेद - काण्ड » 1; सूक्त » 34; मन्त्र » 5
    Acknowledgment

    हिन्दी (1)

    विषय

    विद्या की प्राप्ति का उपदेश।

    पदार्थ

    (परितत्नुना) बहुत फैली हुई (इक्षुणा) लालसा के साथ [अथवा, ऊख जैसी मधुरता के साथ] (अविद्विषे) वैर छोड़ने के लिये (त्वा) तुझको (परि) सब ओर से (अगाम्) मैंने पाया है। (यथा) जिससे तू (माम् कामिनी) मेरी कामना करनेवाली (असः) होवे और (यथा) जिससे तू (मत्) मुझसे (अपगाः) बिछुड़नेवाली (न)(असः) होवे ॥५॥

    भावार्थ

    जब ब्रह्मचारी पूर्ण अभिलाषा से विद्या के लिये प्रयत्न करता है, तो कठिन से कठिन भी विद्या उसको अवश्य मिलती और अभीष्ट आनन्द देती है ॥५॥ इस मन्त्र का दूसरा आधा २।३०।१ और ६।८।१-३ में भी है ॥

    टिप्पणी

    ५−परि। सर्वतोभावेन। त्वा। त्वाम् मधुलतां विद्याम्। परि-तत्नुना। दाभाभ्यां नुः। उ० ३।३२। इति बाहुलकात्। तनु विस्तारे−नु प्रत्ययः। सर्वत्रव्याप्तेन। इक्षुणा। इषेः वसुः। उ० ३।१५७। इति इषु इच्छायाम्−क्सु। अभिलाषेण, यद्वा। गुडतृणेन प्रेमरूपेण। अगाम्। इण् गतौ−लुङ्। प्राप्तवानस्मि। अवि-द्विषे। न+वि+द्विष वैरे−भावे क्विप्। वैरत्यागार्थम्। यथा। येन प्रकारेण। माम्। ब्रह्मचारिणम्। कामिनी। अत इनिठनौ। पा० ५।२।११५। इति काम−इनि। ङीप्। अकेनोर्भविष्यदाधमर्ण्ययोः। पा० २।३।७०। इति द्वितीया। माम् कामयमाना। असः। १।१६।४। त्वम् भवेः, भूयाः। मत्। मत्तः। न। निषेधे। अप-गाः। आतो मनिन्क्वनिब्वनिपश्च। पा० ३।२।७४। इति अप+गाङ् गतौ−विच्। अपयानशीला, प्रस्थानशीला, वियोगिनी ॥

    इंग्लिश (1)

    Subject

    Life’s Honey

    Meaning

    O love, O honeyed sweetness of life, with open expanding arms of honey sweets of love and faith I come to embrace you never to allow jealousy, bitterness or enmity to come in and vitiate our love so that you too ever abide with me in love and never forsake me.

    संस्कृत (1)

    सूचना

    कृपया अस्य मन्त्रस्यार्थम् आर्य(हिन्दी)भाष्ये पश्यत।

    टिप्पणीः

    ५−परि। सर्वतोभावेन। त्वा। त्वाम् मधुलतां विद्याम्। परि-तत्नुना। दाभाभ्यां नुः। उ० ३।३२। इति बाहुलकात्। तनु विस्तारे−नु प्रत्ययः। सर्वत्रव्याप्तेन। इक्षुणा। इषेः वसुः। उ० ३।१५७। इति इषु इच्छायाम्−क्सु। अभिलाषेण, यद्वा। गुडतृणेन प्रेमरूपेण। अगाम्। इण् गतौ−लुङ्। प्राप्तवानस्मि। अवि-द्विषे। न+वि+द्विष वैरे−भावे क्विप्। वैरत्यागार्थम्। यथा। येन प्रकारेण। माम्। ब्रह्मचारिणम्। कामिनी। अत इनिठनौ। पा० ५।२।११५। इति काम−इनि। ङीप्। अकेनोर्भविष्यदाधमर्ण्ययोः। पा० २।३।७०। इति द्वितीया। माम् कामयमाना। असः। १।१६।४। त्वम् भवेः, भूयाः। मत्। मत्तः। न। निषेधे। अप-गाः। आतो मनिन्क्वनिब्वनिपश्च। पा० ३।२।७४। इति अप+गाङ् गतौ−विच्। अपयानशीला, प्रस्थानशीला, वियोगिनी ॥

    बंगाली (1)

    पदार्थ

    (পরিতৎনুনা) বহু বিস্তৃত (ইক্ষুণা) মধুর রসের সহিত (অবিদ্বিষে) শত্রুতা ত্যাগের জন্য (ত্বা) তোমাকে (পরি) সব দিক হইতে (অগাং) পাইয়াছি। (য়থা) যাহাতে তুমি (মাম্ কামিণী) আমার কামনা কারীণী (অসঃ) হও (য়থা) যাহাতে তুমি (মৎ) আমা হইতে (অপগাঃ) বিমুক্ত (ন) না (অসঃ) হও।।

    भावार्थ

    হে বিদ্যা! তোমাকে আমি কামনা করিতেছি, তুমি আমাকে পরিত্যাগ করিও না। শত্রুতা ত্যাগের জন্য মধুর রসের সহিত তোমাকে সব দিক হইতেই পাইয়াছি।।

    मन्त्र (बांग्ला)

    পরি ত্বা পরিতৎনুনে ক্ষুণাগামবিদ্বেষে। য়তা মাং কামিন্যসো যথা মন্নাপগা অসঃ।।

    ऋषि | देवता | छन्द

    অর্থবা। মধুবনস্পতিঃ। অনুষ্টুপ্

    Top