अथर्ववेद के काण्ड - 5 के सूक्त 9 के मन्त्र

मन्त्र चुनें

  • अथर्ववेद का मुख्य पृष्ठ
  • अथर्ववेद - काण्ड 5/ सूक्त 9/ मन्त्र 1
    ऋषि: - ब्रह्मा देवता - वास्तोष्पतिः छन्दः - दैवी बृहती सूक्तम् - आत्मा सूक्त

    दिवे॒ स्वाहा॑ ॥१॥

    स्वर सहित पद पाठ

    दि॒वे । स्वाहा॑ ॥९.१॥


    स्वर रहित मन्त्र

    दिवे स्वाहा ॥१॥

    स्वर रहित पद पाठ

    दिवे । स्वाहा ॥९.१॥

    अथर्ववेद - काण्ड » 5; सूक्त » 9; मन्त्र » 1

    पदार्थ -
    (दिवे) प्रकाशमान परमेश्वर के लिये (स्वाहा) सुन्दर वाणी ॥१॥

    Top