Loading...
ऋग्वेद मण्डल - 9 के सूक्त 102 के मन्त्र
1 2 3 4 5 6 7 8
मण्डल के आधार पर मन्त्र चुनें
अष्टक के आधार पर मन्त्र चुनें
  • ऋग्वेद का मुख्य पृष्ठ
  • ऋग्वेद - मण्डल 9/ सूक्त 102/ मन्त्र 7
    ऋषिः - त्रितः देवता - पवमानः सोमः छन्दः - उष्णिक् स्वरः - ऋषभः

    स॒मी॒ची॒ने अ॒भि त्मना॑ य॒ह्वी ऋ॒तस्य॑ मा॒तरा॑ । त॒न्वा॒ना य॒ज्ञमा॑नु॒षग्यद॑ञ्ज॒ते ॥

    स्वर सहित पद पाठ

    स॒मी॒चीने इति॑ स॒म्ऽई॒ची॒ने । अ॒भि । त्मना॑ । य॒ह्वी । ऋ॒तस्य॑ । मा॒तरा॑ । त॒न्वा॒नाः । य॒ज्ञम् । आ॒नु॒षक् । यत् । अ॒ञ्ज॒ते ॥


    स्वर रहित मन्त्र

    समीचीने अभि त्मना यह्वी ऋतस्य मातरा । तन्वाना यज्ञमानुषग्यदञ्जते ॥

    स्वर रहित पद पाठ

    समीचीने इति सम्ऽईचीने । अभि । त्मना । यह्वी । ऋतस्य । मातरा । तन्वानाः । यज्ञम् । आनुषक् । यत् । अञ्जते ॥ ९.१०२.७

    ऋग्वेद - मण्डल » 9; सूक्त » 102; मन्त्र » 7
    अष्टक » 7; अध्याय » 5; वर्ग » 5; मन्त्र » 2
    Acknowledgment

    संस्कृत (1)

    पदार्थः

    स परमात्मा (ऋतस्य) अस्य संसारस्य (मातरा) निर्मातारौ द्युलोकपृथिवीलोकौ रचयति। तौ च लोकौ (समीचीने) सुन्दरौ (यह्वी) दीर्घौ च (तन्वानाः) अस्य प्रकृतिरूपतन्तुजालस्य विस्तारयितारौ (त्मना) तस्य परमात्मनः स्वसामर्थ्येनोत्पन्नौ च स्तः। (यत्) यदा योगिजनाः (यज्ञम्) इमं ज्ञानयज्ञं (आनुषक्) आनुषङ्गिकरूपेण सेवन्ते तदा (अभ्यञ्जते) उक्तपरमात्मनः साक्षात्कारं प्राप्नुवन्ति ॥७॥

    इस भाष्य को एडिट करें

    हिन्दी (1)

    पदार्थ

    वह परमात्मा (ऋतस्य) इस संसार के (मातरा) निर्माण करनेवाले द्युलोक और पृथिवीलोक को रचता है, वह द्युलोक और पृथिवीलोक (समीचीने) सुन्दर हैं, (यह्वी) बड़े हैं, (तन्वानाः) इस प्रकृतिरूपी तन्तुजाल के विस्तृत करनेवाले हैं और (त्मना) उस परमात्मा के आत्मभूत सामर्थ्य से उत्पन्न हुए हैं। (यत्) जब योगी लोग (यज्ञं) इस ज्ञानयज्ञ को (आनुषक्) आनुषङ्गिकरूप से सेवन करते हैं अर्थात् साधनरूप से आश्रयण करते हैं, तो (अभ्यञ्जते) उक्त परमात्मा के साक्षात्कार को प्राप्त होते हैं ॥७॥

    भावार्थ

    जो लोग इस कार्य्यसंसार और इसके कारणभूत ब्रह्म के साथ यथायोग्य व्यवहार करते हैं, वे शक्तिसम्पन्न होकर इस संसार की यात्रा करते हैं ॥७॥

    इस भाष्य को एडिट करें

    इंग्लिश (1)

    Meaning

    The great joint spontaneous generators of the dynamic world in existence are Soma, supreme Purusha, and Prakrti, which the sages, who enact and advance the meditative yajna of science and direct realisation, constantly adore and glorify.

    इस भाष्य को एडिट करें

    मराठी (1)

    भावार्थ

    जे लोक या कार्य जगात व याचे कारणभूत असलेल्या ब्रह्माबरोबर यथायोग्य व्यवहार करतात ते शक्तिसंपन्न होऊन या संसाराची यात्रा करतात. ॥७॥

    इस भाष्य को एडिट करें
    Top