Loading...
अथर्ववेद के काण्ड - 2 के सूक्त 17 के मन्त्र
मन्त्र चुनें
  • अथर्ववेद का मुख्य पृष्ठ
  • अथर्ववेद - काण्ड {"suktas":143,"mantras":958,"kand_no":20}/ सूक्त 17/ मन्त्र 5
    ऋषिः - ब्रह्मा देवता - प्राणः, अपानः, आयुः छन्दः - एदपदासुरीत्रिष्टुप् सूक्तम् - बल प्राप्ति सूक्त
    53

    श्रोत्र॑मसि॒ श्रोत्रं॑ मे दाः॒ स्वाहा॑ ॥

    स्वर सहित पद पाठ

    श्रोत्र॑म् । अ॒सि॒ । श्रोत्र॑म् । मे॒ । दा॒: । स्वाहा॑ ॥१७.५॥


    स्वर रहित मन्त्र

    श्रोत्रमसि श्रोत्रं मे दाः स्वाहा ॥

    स्वर रहित पद पाठ

    श्रोत्रम् । असि । श्रोत्रम् । मे । दा: । स्वाहा ॥१७.५॥

    अथर्ववेद - काण्ड » 2; सूक्त » 17; मन्त्र » 5
    Acknowledgment

    हिन्दी (3)

    विषय

    आयु बढ़ाने के लिये उपदेश।

    पदार्थ

    [हे ईश्वर !] तू (श्रोत्रम्) श्रवणशक्ति (असि) है, (मे) मुझे (श्रवणम्) श्रवणशक्ति (दाः) दे, (स्वाहा) यह सुन्दर आशीर्वाद हो ॥५॥

    भावार्थ

    परमेश्वर अपनी अनन्त श्रवणशक्ति से हमारी टेर सुनता और संकटों को काटता है। ऐसे ही हम अपनी श्रवणशक्ति को नीरोग रखकर दूसरों के दुःखों का निवारण करें और वेदादि शास्त्रों का श्रवण करें ॥५॥

    टिप्पणी

    ५–श्रोत्रम्। हुयामाश्रुभसिभ्यस्त्रन्। उ० ४।१६८। इति श्रु गतिश्रुत्योः–त्रन्। श्रवणेन्द्रियम्। कर्णम् ॥

    इस भाष्य को एडिट करें

    विषय

    श्रोत्र

    पदार्थ

    १. गतमन्त्र के अनुसार मुझे दीर्घजीवन तो प्रास हो ही, परन्तु उस दीर्घजीवन में मेरी इन्द्रियाँ क्षीणशक्ति न हो जाएँ, अत: भक्त कहता है-हे प्रभो! आप (श्रोत्रम् असि) = सम्पूर्ण श्रवणशक्ति के स्रोत हैं, (मे) = मेरे लिए (श्रोत्रं दा:) = श्रोत्रशक्ति दीजिए। (स्वाहा) = मैं सदा इस उत्तम प्रार्थना को करनेवाला बनूँ। २. दीर्घजीवन में यदि मेरी श्रवणशक्ति मेरा साथ न दे तो ज्ञानवृद्धि न कर सकता हुआ मैं उस दीर्घजीवन का क्या करूँगा, केवल खाने-पीने का जीवन तो प्रशस्त जीवन नहीं है।

    भावार्थ

    अपने दीर्घ जीवन में श्रोत्रशक्ति-सम्पन्न बनकर मैं बहुश्नुत बनें।

    इस भाष्य को एडिट करें

    भाषार्थ

    (श्रोत्रम् असि) तू श्रोत्ररूप है, (मे श्रोत्रम् दाः) मुझे श्रवणशक्ति प्रदान कर, (स्वाहा) सु आह।

    इस भाष्य को एडिट करें

    इंग्लिश (4)

    Subject

    Elan Vital at the Full

    Meaning

    You are universal power of the ear. Give me the power of hearing for the divine Word. This is the voice of truth in faith.

    इस भाष्य को एडिट करें

    Translation

    You are power of hearing (rostra). May you bestow power of hearing on me. Svāhā.

    इस भाष्य को एडिट करें

    Translation

    O God! Thou art the. Power of audibility, give me Power Of audibility. What a beautiful utterance.

    इस भाष्य को एडिट करें

    Translation

    O God, Ear art Thou, give me hearing! This is my humble prayer.[1]

    Footnote

    [1] God listens to the supplications of mankind. I should listen to the Vedas and the request of the poor, needy persons.

    इस भाष्य को एडिट करें

    संस्कृत (1)

    सूचना

    कृपया अस्य मन्त्रस्यार्थम् आर्य(हिन्दी)भाष्ये पश्यत।

    टिप्पणीः

    ५–श्रोत्रम्। हुयामाश्रुभसिभ्यस्त्रन्। उ० ४।१६८। इति श्रु गतिश्रुत्योः–त्रन्। श्रवणेन्द्रियम्। कर्णम् ॥

    इस भाष्य को एडिट करें
    Top