Loading...
अथर्ववेद के काण्ड - 20 के सूक्त 129 के मन्त्र
मन्त्र चुनें
  • अथर्ववेद का मुख्य पृष्ठ
  • अथर्ववेद - काण्ड {"suktas":143,"mantras":958,"kand_no":20}/ सूक्त 129/ मन्त्र 1
    ऋषिः - देवता - प्रजापतिः छन्दः - प्राजापत्या गायत्री सूक्तम् - कुन्ताप सूक्त
    70

    ए॒ता अश्वा॒ आ प्ल॑वन्ते ॥

    स्वर सहित पद पाठ

    ए॒ता: । अश्वा॒: । प्ल॑वन्ते ॥१२९.१॥


    स्वर रहित मन्त्र

    एता अश्वा आ प्लवन्ते ॥

    स्वर रहित पद पाठ

    एता: । अश्वा: । प्लवन्ते ॥१२९.१॥

    अथर्ववेद - काण्ड » 20; सूक्त » 129; मन्त्र » 1
    Acknowledgment

    हिन्दी (2)

    विषय

    मनुष्य के लिये प्रयत्न का उपदेश।

    पदार्थ

    (एताः) यह (अश्वाः) व्यापक प्रजाएँ (प्रतीपम्) प्रत्यक्ष व्यापक (सुत्वनम् प्राति) ऐश्वर्यवाले [परमेश्वर] के लिये (आ) आकर (प्लवन्ते) चलती हैं ॥१, २॥

    भावार्थ

    संसार के सब पदार्थ उत्पन्न होकर परमेश्वर की आज्ञा में वर्त्तमान हैं ॥१, २॥

    टिप्पणी

    [पदपाठ के लिये सूचना सूक्त १२७ देखो]१−(एताः) उपस्थिताः (अश्वाः), अशू व्याप्तौ-क्वन्, टाप्। व्यापिकाः प्रजाः (आ) आगत्य (प्लवन्ते) गच्छन्ति ॥

    इस भाष्य को एडिट करें

    विषय

    प्रतीपम्

    पदार्थ

    १. गतमन्त्र के अनुसार इन्द्रियों के शुद्ध होने पर (एता:) = ये (अश्वा:) = विविध विषयों में व्याप्त होनेवाली चित्तवृत्तियाँ (आ) = चारों ओर से (प्रतीपम्) = [inverted] अन्तर्मुखी हुई-हुई (प्लवन्ते) = गतिवाली होती हैं। अब ये चितवृत्तियों (प्रातिसुत्वनम्) = ब्रह्माण्ड के प्रत्येक पदार्थ को उत्पन्न करनेवाले प्रभु की ओर चलती हैं।

    भावार्थ

    इन्द्रियों के शुद्ध होने पर चित्तवृत्तियाँ अन्तर्मुखी होकर प्रभु की ओर चलती हैं।

    इस भाष्य को एडिट करें

    इंग्लिश (2)

    Subject

    Prajapati

    Meaning

    These senses, mental fluctuations, wander around after the objects they love to feed on.

    इस भाष्य को एडिट करें

    Translation

    These organs of man hunt their objects.

    इस भाष्य को एडिट करें

    संस्कृत (1)

    सूचना

    कृपया अस्य मन्त्रस्यार्थम् आर्य(हिन्दी)भाष्ये पश्यत।

    टिप्पणीः

    [पदपाठ के लिये सूचना सूक्त १२७ देखो]१−(एताः) उपस्थिताः (अश्वाः), अशू व्याप्तौ-क्वन्, टाप्। व्यापिकाः प्रजाः (आ) आगत्य (प्लवन्ते) गच्छन्ति ॥

    इस भाष्य को एडिट करें
    Top