Loading...
ऋग्वेद मण्डल - 9 के सूक्त 32 के मन्त्र
1 2 3 4 5 6
मण्डल के आधार पर मन्त्र चुनें
अष्टक के आधार पर मन्त्र चुनें
  • ऋग्वेद का मुख्य पृष्ठ
  • ऋग्वेद - मण्डल 9/ सूक्त 32/ मन्त्र 1
    ऋषिः - श्यावाश्वः देवता - पवमानः सोमः छन्दः - निचृद्गायत्री स्वरः - षड्जः

    प्र सोमा॑सो मद॒च्युत॒: श्रव॑से नो म॒घोन॑: । सु॒ता वि॒दथे॑ अक्रमुः ॥

    स्वर सहित पद पाठ

    प्र । सोमा॑सः । म॒द॒ऽच्युतः॑ । श्रव॑से । नः॒ । म॒घोनः॑ । सु॒ताः । वि॒दथे॑ । अ॒क्र॒मुः॒ ॥


    स्वर रहित मन्त्र

    प्र सोमासो मदच्युत: श्रवसे नो मघोन: । सुता विदथे अक्रमुः ॥

    स्वर रहित पद पाठ

    प्र । सोमासः । मदऽच्युतः । श्रवसे । नः । मघोनः । सुताः । विदथे । अक्रमुः ॥ ९.३२.१

    ऋग्वेद - मण्डल » 9; सूक्त » 32; मन्त्र » 1
    अष्टक » 6; अध्याय » 8; वर्ग » 22; मन्त्र » 1
    Acknowledgment

    संस्कृत (1)

    विषयः

    अथ परमात्मन उपलब्धिरुच्यते |

    पदार्थः

    (मदच्युतः) आनन्दप्रवाहः (सुताः) स्वयम्भूः (सोमासः) परमात्मा (विदथे) यज्ञे (मघोनः नः) जिज्ञासोर्मम (श्रवसे) ऐश्वर्याय (प्राक्रमुः) आगत्य प्राप्तो भवति ॥१॥

    इस भाष्य को एडिट करें

    हिन्दी (1)

    विषय

    अब परमात्मा की उपलब्धि का कथन करते हैं।

    पदार्थ

    (मदच्युतः) आनन्द का स्त्रोत (सुताः) स्वयम्भू (सोमासः) परमात्मा (विदथे) यज्ञ में (मघोनः नः) मुझ जिज्ञासु के (श्रवसे) ऐश्वर्य के लिये (प्राक्रमुः) आकर प्राप्त होता है ॥१॥

    भावार्थ

    जो पुरुष शुद्ध भाव से यज्ञ करते हैं, उनको परमात्मा अपने आनन्दस्त्रोत से सदैव अभिषिक्त करता है। यज्ञ के अर्थ यहाँ (१) शुद्धान्तःकरण से ईश्वरोपासन, (२) ब्रह्मविद्यादि उत्तमोत्तम पदार्थों का दान (३) और कला-कौशल द्वारा विद्युदादि पदार्थों को उपयोग में लाना, ये तीन हैं। जो पुरुष उक्त पदार्थों की संगति करनेवाले यज्ञों को करता है, वह अवश्यमेव ऐश्वर्यसम्पन्न होता है ॥१॥

    इस भाष्य को एडिट करें

    इंग्लिश (1)

    Meaning

    May the streams of soma, nectar sweet and exhilarating, distilled and sanctified in yajna, flow for the safety, security and fame of our leading lights of honour, power and excellence.

    इस भाष्य को एडिट करें

    मराठी (1)

    भावार्थ

    जे पुरुष शुद्ध भावाने यज्ञ करतात. त्यांना परमात्मा आपल्या आनंद स्रोताने सदैव अभिषिक्त करतो. यज्ञाचे येथे तीन अर्थ आहेत १) शुद्ध अंत:करणाने ईश्वरोपासना २) ब्रह्मविद्या इत्यादी उत्तमोत्तम पदार्थांचे दान ३) कला कौशल्य इत्यादीद्वारे विद्युत इत्यादी पदार्थ उपयोगात आणणे. जो पुरुष वरील पदार्थांची संगती करणारे यज्ञ करतो. तो अवश्य ऐश्वर्यसंपन्न होतो. ॥१॥

    इस भाष्य को एडिट करें
    Top