Loading...
अथर्ववेद के काण्ड - 20 के सूक्त 130 के मन्त्र

मन्त्र चुनें

  • अथर्ववेद का मुख्य पृष्ठ
  • अथर्ववेद - काण्ड 20/ सूक्त 130/ मन्त्र 1
    ऋषि: - देवता - प्रजापतिः छन्दः - याजुषी पङ्क्तिः सूक्तम् - कुन्ताप सूक्त
    29

    को अ॑र्य बहु॒लिमा॒ इषू॑नि ॥

    स्वर सहित पद पाठ

    क: । अ॒र्य॒ । बहु॒लिमा॒ । इषू॑नि: ॥१३०.१॥


    स्वर रहित मन्त्र

    को अर्य बहुलिमा इषूनि ॥

    स्वर रहित पद पाठ

    क: । अर्य । बहुलिमा । इषूनि: ॥१३०.१॥

    अथर्ववेद - काण्ड » 20; सूक्त » 130; मन्त्र » 1
    Acknowledgment

    पदार्थ -
    (कः) कौन मनुष्य (बहुलिमा) बहुत से (इषूनि) इष्ट वस्तुओं को (अर्य) पावे ॥१॥

    भावार्थ - मनुष्य विवेकी, क्रियाकुशल विद्वानों से शिक्षा लेता हुआ विद्याबल से चमत्कारी, नवीन-नवीन आविष्कार करके उद्योगी होवे ॥१-६॥


    Bhashya Acknowledgment
    Top