अथर्ववेद के काण्ड - 20 के सूक्त 130 के मन्त्र

मन्त्र चुनें

  • अथर्ववेद का मुख्य पृष्ठ
  • अथर्ववेद - काण्ड 20/ सूक्त 130/ मन्त्र 8
    ऋषि: - देवता - प्रजापतिः छन्दः - प्राजापत्या गायत्री सूक्तम् - कुन्ताप सूक्त

    अकु॑प्यन्तः॒ कुपा॑यकुः ॥

    स्वर सहित पद पाठ

    अकु॑प्यन्त॒: । कुपा॑यकु: ॥१३०.८॥


    स्वर रहित मन्त्र

    अकुप्यन्तः कुपायकुः ॥

    स्वर रहित पद पाठ

    अकुप्यन्त: । कुपायकु: ॥१३०.८॥

    अथर्ववेद - काण्ड » 20; सूक्त » 130; मन्त्र » 8

    पदार्थ -
    (अकुप्यन्तः) कोप नहीं करनेवाला, (कुपायकुः) पृथिवी की रक्षा करनेवाला ॥८॥

    भावार्थ -
    मनुष्य शरीर और आत्मा से बलवान् होकर भूमि की रक्षा और विद्या की बढ़ती करें ॥७-१०॥

    Top